X

Fact Check: RBI गवर्नर के नाम से वायरल हो रहा ईमेल फर्जी, निजी जानकारी साझा करने पर हो सकते हैं धोखाधड़ी के शिकार

  • By Vishvas News
  • Updated: March 18, 2021

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर शक्तिकांत दास के नाम से सोशल मीडिया पर एक मैसेज वायरल हो रहा है, जिसमें आरबीआई की तरफ से पांच करोड़ पॉन्ड की क्षतिपूर्ति राशि इनाम के तौर पर मिलने का दावा करते हुए यूजर्स से दिए गए ईमेल पर उनकी निजी जानकारी को साझा करने के लिए कहा गया है।

विश्वास न्यूज की जांच में यह मैसेज गलत साबित हुआ, जिसे सोशल मीडिया पर वित्तीय धोखाधड़ी के मकसद से फैलाया जा रहा है। विश्वास न्यूज ऐसे किसी भी मैसेज से सतर्क रहने की अपील करते हुए लोगों से झांसे में नहीं आने की अपील करता है। ऐसे मैसेज में दिए गए ईमेल पर निजी जानकारी साझा करना आपके लिए खतरनाक हो सकता है और आप किसी धोखाधड़ी के शिकार हो सकते हैं।

क्या है वायरल पोस्ट में?

वायरल हो रहे मैसेज में लिखा हुआ है, ‘आपके ईमेल को भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की तरफ से क्षतिपूर्ति के तौर पर पांच करोड़ पॉन्ड की राशि का पुरस्कार मिला है। कृपया rbinetbanking20@gmail.com पर अपना विवरण साझा करें।’ इस मैसेज को आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास के नाम से जारी किया गया है।

आरबीआई के गवर्नर के नाम से वायरल हो रहा फर्जी मैसेज

कई यूजर्स ने हमारे वॉट्सऐप चैटबॉट (+91 95992 99372) नंबर पर इस मैसेज को साझा कर इसकी सच्चाई बताने का अनुरोध किया है।

सच्चाई बताए जाने के अनुरोध के साथ विश्वास न्यूज के वाट्सएप चैटबॉट पर भेजा गया वायरल मैसेज

पड़ताल

पहली नजर में देखने पर यह मैसेज गलत और धोखाधड़ी के मकसद से तैयार किया गया लगता है। भारतीय रिजर्व बैंक की तरफ से होने वाला कोई भी कम्युनिकेशन जीमेल आईडी के जरिए नहीं होता है। दूसरा वायरल हो रहे मैसेज में आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास का नाम और उनके मोबाइल नंबर का इस्तेमाल किया गया है।

वायरल मैसेज में दिए गए नंबर पर कॉल करने पर पता चला कि इस पर इनकमिंग कॉल की सेवा उपलब्ध नहीं है।

इस वायरल मैसेज को लेकर हमने आरबीआई से संपर्क किया। भारतीय रिजर्व बैंक के प्रवक्ता ने बताया, ‘सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा यह मैसेज पूरी तरह से फर्जी है। आरबीआई इस तरह के किसी को मैसेज नहीं भेजता है और न ही आरबीआई की तरफ से किए जाने वाले किसी भी कम्युनिकेशंस में जीमेल का इस्तेमाल होता है।’उन्होंने कहा, ‘इस मैसेज में आरबीआई के गवर्नर के नाम का गलत इस्तेमाल किया जा रहा है। हम लोगों से अपील करते हैं कि वह इस तरह के झांसे में न आएं।’

इससे पहले भी आरबीआई के हवाले से कई तरह के फर्जी मैसेज वायरल होते रहे हैं, जिसकी फैक्ट चेक रिपोर्ट को विश्वास न्यूज की वेबसाइट पर पढ़ा जा सकता है।

निष्कर्ष: आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास के नाम से वायरल हो रहा ईमेल फर्जी है, जिसमें लोगों से पांच करोड़ पॉन्ड की क्षतिपूर्ति राशि इनाम के तौर पर मिलने का दावा करते हुए यूजर्स से दिए गए ईमेल पर उनकी निजी जानकारी को साझा करने के लिए कहा गया है।

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later