X

Fact Check: सऊदी अरब का पुराना वीडियो टाक्टे तूफान से प्रभावित ट्राइडेंट होटल, मुंबई के झूठे दावे से किया जा रहा वायरल

  • By Vishvas News
  • Updated: May 18, 2021

विश्वास न्यूज (नई दिल्ली)। चक्रवाती तूफान टाक्टे के भारत में भी असर दिखाने के बीच इससे जुड़ी तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर काफी शेयर किए जा रहे हैं। ऐसा ही एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसमें एक बिल्डिंग के बाहर खड़ी गाड़ियों पर बिल्डिंग का हिस्सा टूटकर गिरता दिख रहा है। सोशल मीडिया यूजर्स दावा कर रहे हैं कि तूफान टाक्टे की वजह से मुंबई के नरीमन प्वाइंट स्थित ट्राइडेंट होटल का हिस्सा गाड़ियों पर गिरा है। विश्वास न्यूज की पड़ताल में ये दावा झूठा निकला है। सऊदी अरब के पुराने वीडियो को ट्राइडेंट होटल का बता गलत दावे से शेयर किया जा रहा है।

क्या हो रहा है वायरल

फेसबुक यूजर S Max Dias ने 17 मई 2021 को फेसबुक पर इस वीडियो को शेयर करते हुए लिखा है, ‘मुंबई के नरीमन पॉइंट स्थित ट्राइडेंट होटल।’

इस पोस्ट के आर्काइव्ड वर्जन को यहां क्लिक कर देखा जा सकता है।

ऐसा ही मिलता-जुलता दावा The Real Kashmir News नाम के फेसबुक पेज पर भी वायरल वीडियो संग किया गया है।

पड़ताल

विश्वास न्यूज ने सबसे पहले वायरल हो रहे इस वीडियो को बारीकी से देखा। यह एक सीसीटीवी फुटेज है और इसके टॉप में लेफ्ट साइड में तारीख और समय देखा जा सकता है। वायरल वीडियो पर 30 जुलाई 2020 की तारीख दी हुई है। यानी पहले ही नजर में संदेह पैदा हो रहा है। वायरल वीडियो पर दी गई तारीख अभी के टाक्टे चक्रवाती तूफान से काफी पहले की है।

लाले घेरे में तारीख देखें।

विश्वास न्यूज ने वायरल वीडियो को लेकर अपनी पड़ताल को आगे बढ़ाया। हमने InVID टूल के माध्यम से इस वीडियो के कीफ्रेम्स निकाले और उनपर गूगल रिवर्स इमेज सर्च टूल का इस्तेमाल किया। यह वीडियो हमें फेसबुक पेज نبض الساعة पर मिला। अरबी में लिखे कैप्शन का गूगल ट्रांसलेटर से मिले अनुवाद पर पता चला कि यह वीडियो किसी Al Mughtarib Street का है। इस पेज पर यह वीडियो 26 मार्च 2021 को अपलोड किया गया है, तब टाक्टे चक्रवाती तूफान आया भी नहीं था। यानी ये साफ हो गया कि ये वीडियो हालिया चक्रवाती तूफान से पहले से ही इंटरनेट पर मौजूद है।

इंटरनेट पर मिले मल्टीपल सर्च रिजल्ट में हमें annahar.com पर अरबी भाषा में किया गया एक फैक्ट चेक मिला। यह फैक्ट चेक रिपोर्ट 26 मार्च 2021 की है। इस वीडियो को लेबनान के नाम से वायरल किया जा रहा था और इस फैक्ट चेक में बताया गया है कि वायरल वीडियो सऊदी अरब के मदीना का है। इस रिपोर्ट को यहां क्लिक कर देखा जा सकता है।

इस रिपोर्ट में हमें कुछ पुरानी रिपोर्ट्स और यूट्यूब पोस्ट भी एंबेड मिलीं, जिनसे यह पुष्टि हो रही है कि यह वीडियो सऊदी अरब का है। उदाहरण के लिए albawabhnews.com पर 31 जुलाई 2020 की अरबी भाषा की रिपोर्ट में भी वायरल वीडियो के स्क्रीनशॉट्स देखे जा सकते हैं। इस रिपोर्ट में भी इस मदीना, सऊदी अरब की घटना बताया गया है। इस रिपोर्ट को यहां क्लिक कर देखा जा सकता है।

ऐसे ही akhbaar नाम के यूट्यूब चैनल पर 31 जुलाई 2020 को यह वायरल वीडियो पोस्ट किया गया है। अरबी भाषा के इसके शीर्षक को हमने गूगल ट्रांसलेटर टूल में डाला। इसमें भी वीडियो को मदीना का बताया गया है। इसे यहां नीचे देखा जा सकता है।

विश्वास न्यूज की अबतक की पड़ताल से ये बात स्पष्ट हो चुकी थी कि वायरल वीडियो सऊदी अरब का है और पुराना है। इसका मुंबई स्थित ट्राइडेंट होटल और चक्रवाती तूफान टाक्टे से कोई लेना-देना नहीं है।

पड़ताल के दौरान हमें आकाशवाणी मुंबई के ट्विटर हैंडल पर एक वीडियो मिला। 17 मई 2021 को पोस्ट किए गए वीडियो में ट्राइडेंट होटल के आसपास का नजारा दिखाते हुए बताया गया है कि यहां किसी प्रकार की कोई दुर्घटना नहीं हुई है। इस ट्वीट को यहां नीचे देखा जा सकता है।

विश्वास न्यूज ने अपनी पड़ताल को आगे बढ़ाते हुए वायरल वीडियो के संबंध में ट्राइडेंट होटल, नरीमन प्वाइंट से संपर्क किया। हमें होटल के ऑपरेटर से जानकारी मिली कि होटल या होटल के आसपास कोई दुर्घटना नहीं हुई है और सोशल मीडिया पर वायरल क्लेम फर्जी है।

विश्वास न्यूज ने इस वायरल वीडियो को गलत दावे से शेयर करने वाले फेसबुक यूजर S Max Dias की प्रोफाइल को स्कैन किया। यूजर गोवा के रहने वाले हैं और फैक्ट चेक किए जाने तक उनके 77 फॉलोअर्स थे।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज की पड़ताल में वायरल वीडियो को लेकर किया जा रहा दावा झूठा निकला है। सऊदी अरब के मदीना में हुई दुर्घटना के पुराने वीडियो को चक्रवाती तूफान टाक्टे की वजह से ट्राइडेंट होटल में हुई दुर्घटना बता गलत दावे से शेयर किया जा रहा है।

  • Claim Review : तूफान टाक्टे की वजह से मुंबई के नरीमन प्वाइंट स्थित ट्राइडेंट होटल का हिस्सा गाड़ियों पर गिरा है।
  • Claimed By : फेसबुक यूजर S Max Dias
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later