X

Fact Check : झूठी है दक्षिण अफ्रीका की सुदवाला गुफा में छह हजार साल पुराने शिवलिंग मिलने की बात

  • By Vishvas News
  • Updated: February 27, 2021

नई दिल्‍ली (Vishvas News)। सोशल मीडिया में एक पोस्‍ट वायरल हो रही है। इस पोस्‍ट में दावा किया जा रहा है कि दक्षिण अफ्रीका की सुदवाला गुफा में छह हजार साल पुराना शिवलिंग मिला है, जो कि ग्रेनाइट पत्‍थर से बना हुआ है।

विश्‍वास न्‍यूज की जांच में वायरल दावा फर्जी निकला। सुदवाला ग्रुफा में कोई शिवलिंग मौजूद नहीं है। मैसेज फेक है।

क्‍या हो रहा है वायरल

फेसबुक यूजर चुमन नारायणचूर्ण ने 20 फरवरी को एक पोस्‍ट अपलोड करते हुए दावा किया कि 6000 साल पुराना शिवलिंग मिला। अंग्रेजी में दावा किया गया है कि दक्षिण अफ्रीका की सुदवारा गुफा में 6000 साल पुराना शिवलिंग मिला है। यह ग्रेनाइट पत्‍थर से बना हुआ है।

वायरल पोस्‍ट का आर्काइव्‍ड वर्जन यहां देखें।

पड़ताल

विश्‍वास न्‍यूज ने सबसे पहले गूगल सर्च की मदद से यह जानने का प्रयास किया क्‍या वाकई में दक्षिण अफ्रीका के सुदवारा गुफा में कोई शिवलिंग मिला है। गूगल सर्च से हमें पता चला कि गुफा का नाम सुदवारा नहीं, बल्कि सुदवाला है। शिवलिंग से जुड़ी कोई भी प्रामाणिक खबर हमें सर्च में नहीं मिली।

पड़ताल को आगे बढ़ाते हुए हमने वायरल तस्‍वीर को गूगल रिवर्स इमेज टूल में अपलोड करके सर्च किया। हमें पता चला कि वायरल मैसेज पिछले कई सालों से इंटरनेट पर वायरल है। सर्च के दौरान हमें ट्रिपसेवी डॉट कॉम पर वायरल तस्‍वीर मिली। वायरल मैसेज के साथ इस्‍तेमाल की गई तस्‍वीर सुदवाला गुफा की है।

सच जानने के लिए विश्‍वास न्‍यूज ने सुदवाला केव्‍स से जुड़े प्रशासन को ईमेल किया। info@sudwalacaves.com की ओर से भेजे गए ईमेल में स्‍टीफा की ओर से हमें बताया गया कि सुदवाला गुफा में कोई शिवलिंग नहीं है। ईमेल में आगे लिखा गया कि गुफा से 36 किलोमीटर दूर नेल्सप्रूत नेचर रिचर्व में जरूर शिवलिंग मौजूद है। हो सकता है कि इसके कारण कन्फ्यूजन हुआ हो।

निष्कर्ष: विश्‍वास न्‍यूज की जांच में सुदवाला गुफा में छह हजार साल पुराने शिवलिंग मिलने की बात फर्जी साबित हुई।

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later