X

Fact Check: JNUSU प्रेसिडेंट आइशी घोष की तस्वीर से छेड़छाड़ करके फैलाया जा रहा है झूठ

  • By Vishvas News
  • Updated: January 12, 2020

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज़)। सोशल मीडिया JNU को लेकर अफवाहों से भरा पड़ा है। हाल में जेएनयू में हुए हमले को लेकर भी बहुत-से झूठ और अफवाहें फैलाई जा रहीं हैं। ऐसे में इस हमले में घायल हुई JNUSU की प्रेसिडेंट आइशी घोष की एक तस्वीर को वायरल किया जा रहा है। इस वायरल पोस्ट में 2 तस्वीरों का कोलाज है, जिसमें एक तस्वीर में आइशी घोष के दाएं हाथ में प्लास्टर है और दूसरी तस्वीर में बाएं हाथ पर।

तस्वीर को वायरल करने वाले लोग दावा कर रहे हैं कि आइशी के हाथ में लगा प्लास्टर नकली है और उन्हें कोई चोट नहीं आई है और यह एक नौटंकी है। विश्वास न्यूज़ ने अपनी पड़ताल में पाया कि असल में आइशी घोष की तस्वीर को मिरर इमेज करके वायरल किया जा रहा है। असली तस्वीर को फ्लिप कर दिया गया है, जिससे उनके बाएं हाथ का प्लास्टर दाएं हाथ में दिख रहा है। असल में आइशी घोष के बाएं हाथ में प्लास्टर है।

CLAIM

वायरल पोस्ट में 2 तस्वीरों का एक कोलाज है जिसमें ऊपर वाली तस्वीर में आइशी घोष के दाएं हाथ में प्लास्टर दिख रहा है और नीचे वाली तस्वीर में उनके बाएं हाथ में। पोस्ट के साथ डिस्क्रिप्शन में लिखा है, “आयशी घोष ही मुख्य आरोपी – दिल्ली पुलिस। ऑड डे- लेफ्ट हैंड में प्लास्टर। ईवन डे- राइट हैंड में प्लास्टर😂 हाथ देखिए…प्लास्टर देखिए…अब राइट और लेफ्ट हैंड देखिए… यही वामपंथ की नौटंकी है…गजब का नौटंकी है भाई। आँखें चौंधिया जायेंगी।”

इस पोस्ट के आर्काइव वर्जन को यहाँ देखा जा सकता है।

FACT CHECK

इस पोस्ट की पड़ताल करने के लिए हमने सबसे पहले आयशी घोष को गूगल पर ‘JNUSU president Aishe Ghosh injured’ कीवर्ड्स के साथ सर्च किया। हमें आयशी घोष की कई सारी तस्वीरें मिली। सभी तस्वीरों में उनके बाएं हाथ में प्लास्टर दिख रहा था। हूबहू वायरल तस्वीर भी कई जगह दिखी मगर उसमें भी उनके बायें हाथ में ही प्लास्टर दिखा।

अब हमें जागरण की अंग्रेजी वेबसाइट english.jagran.com पर आयशी घोष की ये वायरल तस्वीर दिखी और इस तस्वीर में भी उनके बाएं हाथ में ही प्लास्टर था। ये तस्वीर 6 जनवरी को हुई आयशी घोष की प्रेस कॉन्फ्रेंस की है।

द प्रिंट पर भी हमें ये तस्वीर मिली और उसमें भी उनके बाएं हाथ में ही प्लास्टर था। ऐसा लग रहा है जैसे इसी ने तस्वीर को उलट दिया है और वायरल कर दिया है।

दोनों तस्वीरों में मिरर इमेज होने के बावजूद समानता देखी जा सकती है, जैसे आयशी के साथ बैठे दोनों व्यक्ति, उनके पीछे लगा बैनर, और उनके पीछे खड़े व्यक्ति की जैकेट। इन्हें आप नीचे देख सकते हैं।

हमें इस पूरी प्रेस कॉन्फ्रेंस का वीडियो Yeh Dekho News नाम के एक यूट्यूब चैनल पर भी मिला। इसमें भी देखा जा सकता है कि उनके बाएं हाथ में ही प्लास्टर है।

हमने जागरण की टेक एडिटोरियल टीम के  सहयोगी हर्षित हर्ष से इस विषय में पूछा तो उन्होंने कहा “मिरर इमेज एक एडिटिंग टूल है जिससे किसी भी फोटो को फ्लिप किया जाता है। यानि की किसी भी तस्वीर को 180 डिग्री वर्टिकली या हॉरिजॉन्टली रोटेट किया जा सकता है। ऐसे में यदि आपने असली तस्वीर में अपने लेफ्ट हैंड में कुछ पकड़ा है तो मिरर इमेज में वो आपके राइट हैंड में नज़र आएगा।”

आयशी घोष की चोटों के विषय में ज़्यादा पुष्टि के लिए हमने JNUSU के जनरल सेक्रेटरी सतीश चंद्र यादव से बात की। उन्होंने कहा, “ये तस्वीर 6 जनवरी को हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस की है। आयशी के ऊपर हुए हमले में उन्हें सिर पर और हाथ में चोटें आईं थीं। आयशी के बाएं हाथ में प्लास्टर है। असली तस्वीर को फ्लिप करके वायरल किया जा रहा है। वायरल तस्वीर में मैं भी उनके साथ हूँ।”

इस वीडियो को सोशल मीडिया पर कई लोग गलत दावों के साथ शेयर कर रहे हैं। इन्हीं में से एक है Puneet Solanki नाम का फेसबुक प्रोफाइल।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज़ ने अपनी पड़ताल में पाया कि असल में आइशी घोष की तस्वीर को मिरर इमेज करके वायरल किया जा रहा है। असली तस्वीर को फ्लिप कर दिया गया है, जिससे उनके बाएं हाथ का प्लास्टर दाएं हाथ में दिख रहा है। असल में आइशी घोष के बाएं हाथ में प्लास्टर है।

जानिए सच्‍ची और झूठी सबरों का सच क्विज खेलिए और सीखिए स्‍टोरी फैक्‍ट चेक करने के तरीके क्विज खेले

पूरा सच जानें...

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी खबर पर संदेह है जिसका असर आप, समाज और देश पर हो सकता है तो हमें बताएं। हमें यहां जानकारी भेज सकते हैं। हमें contact@vishvasnews.com पर ईमेल कर सकते हैं। इसके साथ ही वॅाट्सऐप (नंबर – 9205270923) के माध्‍यम से भी सूचना दे सकते हैं।

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later