X

Fact Check: कच्छ रैली में नहीं लगे ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे, फर्जी दावा हो रहा वायरल

कच्छ के दुधई गांव में चुनाव जीतने के बाद निकाली गई रैली में 'पाकिस्तान जिंदाबाद' नहीं, बल्कि 'राधुभाई जिंदाबाद' के नारे लगे हैं। वीडियो को गलत दावे के साथ वायरल किया जा रहा है।

  • By Vishvas News
  • Updated: January 7, 2022
reality of Pakistan Zindabad Slogans in Kachchh

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। सोशल मीडिया पर 30 सेकंड का एक वीडियो पोस्ट किया जा रहा है। इसमें काफी भीड़ है और ऐसा लग रहा है, जैसे कोई जुलूस निकल रहा है। भीड़ में कुछ लोग माला पहने हैं। जुलूस या रैली में कुछ लोग जिंदाबाद के नारे भी लगा रहे हैं। शोर ज्यादा होने की वजह से साफ पता नहीं चल पा रहा है कि भीड़ किसके जिंदाबाद के नारे लगा रही है। यूजर्स दावा कर रहे हैं कि कच्छ के दुधई गांव में ग्राम पंचायत चुनाव की विजयी रैली निकाली गई। इस दौरान ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगाए गए।

विश्वास न्यूज ने अपनी पड़ताल में पाया कि वीडियो के साथ किया जा रहा दावा गलत है। पुलिस ने अपनी जांच में पाया है कि रैली में ‘राधुभाई जिंदाबाद’ के नारे लगाए गए हैं। राधुभाई विजयी प्रत्याशी रीनाबेन के पति का नाम है।

क्या है वायरल पोस्ट में

फेसबुक यूजर Anup Singh Adv ने 22 दिसंबर को इस वीडियो को पोस्ट करते हुए दावा किया,
कच्छ में ग्राम पंचायत चुनाव की विजयी रैली के दौरान ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे, कच्छ के दुधई गांव का एक कथित वीडियो जिसमें रैली में ‘पाकिस्तान जिंदाबाद बोला गया
फिर कहेंगे, हमारी देशभक्ति पर शक मत करो

पड़ताल

वीडियो के साथ किए जा रहे दावे की पड़ताल के लिए हमने सबसे पहले कीवर्ड से न्यूज सर्च की। इसमें 15 दिन पहले दैनिक भास्कर में छपी खबर का लिंक मिला। इसमें वीडियो से जुड़ी फोटो अपलोड की गई है। खबर के मुताबिक, गुजरात में 8686 ग्राम पंचायतों के चुनाव के नतीजों का मंगलवार को ऐलान किया गया। दुधई गांव में रीनाबेन रंगूभाई कोठीवार ने 1026 वोटों से जीत दर्ज की। इस खुशी में उनके समर्थकों ने मतदान केंद्र से विजयी रैली निकाली। इसमें कुछ लोगों ने ‘राधुभाई जिंदाबाद’ के नारे लगाए, लेकिन किसी ने वीडियो को यह कहकर वायरल कर दिया कि रैली में ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगाए गए हैं।

इसकी और पड़ताल करने पर हमें SP East Kutch का 22 दिसंबर 2021 का ट्वीट मिला। इसके मुताबिक, This video’s circulating on social media FALSELY claiming that “Pakistan Zindabad” slogan was raised in election victory rally! Crowd in the video they told us that person hailed “Radhubhai Zindabad” twice. Radhubhai is name of Rinaben’s (victorious Sarpanch candidate’s) husband! (चुनाव जीतने के बाद निकाली गई रैली में ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के फर्जी दावे के साथ इस वीडियो को शेयर किया जा रहा है। भीड़ में शामिल लोगों ने बताया कि रैली में शामिल समर्थक ‘राधुभाई जिंदाबाद’ के नारे लगा रहे थे। राधुभाई विजयी सरपंच रीनाबेन के पति हैं।)

साथ में यह भी लिखा है, Listening to video after this clarification will give more clarity. The video should be listened to 8 seconds onwards. Preferably using headphones.. Without getting distracted by visuals! (इस स्पष्टीकरण के बाद वीडियो को ध्यान से सुनने पर इस बात की पुष्टि हो जाती है…हेडफोन की सहायता से अगर बिना विजुअल्स देखे सुनेंगे तो पता चल जाएगा)

इस बारे में विश्वास न्यूज ने एसपी कच्छ ईस्ट मयूर पाटिल से बात की। उनका कहना है, मैंने ट्विटर पर पहले ही इस बारे में बता दिया है, ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ का दावा गलत है।

विश्वास न्यूज ने वीडियो के साथ गलत दावे को पोस्ट करने वाले फेसबुक यूजर Anup Singh Adv की प्रोफाइल को स्कैन किया। इससे पता चला कि वह लखनऊ में रहते हैं और एक विचारधारा से प्रेरित हैं।

निष्कर्ष: कच्छ के दुधई गांव में चुनाव जीतने के बाद निकाली गई रैली में ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ नहीं, बल्कि ‘राधुभाई जिंदाबाद’ के नारे लगे हैं। वीडियो को गलत दावे के साथ वायरल किया जा रहा है।

  • Claim Review : कच्छ के दुधई गांव में ग्राम पंचायत चुनाव की विजयी रैली में लगे 'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे
  • Claimed By : FB User- Anup Singh Adv
  • Fact Check : झूठ
झूठ
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later