X

बायो: जागरण न्यू मीडिया में डिप्टी एडिटर के तौर पर काम कर रहे अभिषेक पराशर (आईएफसीएन सर्टिफाइड) फैक्ट चेकिंग विंग विश्वास न्यूज के साथ बतौर फैक्ट चेकर जुड़े हुए हैं। पत्रकारिता में कुल 12 वर्षों का अनुभव रखने वाले अभिषेक के पास 9 वर्षों से अधिक का डिजिटल जर्नलिज्म का अनुभव है। प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (PTI-Bhasha) से अपने करियर की शुरुआत करने वाले अभिषेक ने बिजनस स्टैंडर्ड (हिंदी), इकॉनमिक टाइम्स (हिंदी), कैच न्यूज (राजस्थान न्यूज) और न्यूज नेशन डिजिटल में काम किया है। वे जीएनआई (Google News Initiative) इंडिया ट्रेनिंग नेटवर्क के ट्रेनर हैं और विश्वास न्यूज के मीडिया साक्षरता अभियान 'सच के साथी' में प्रशिक्षक की भूमिका निभाते रहे हैं। डेटा एनालिसिस में उनकी विशेषज्ञता हैं और उन्होंने अपने करियर का आधा समय बिजनस पत्रकारिता करते हुए बिताया है।

योग्यता: अभिषेक इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन (IIMC), दिल्ली से पत्रकारिता और जनसंचार में पोस्ट ग्रैजुएट हैं। उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से पत्रकारिता और जनसंचार में ग्रैजुएशन किया है।

सर्टिफिकेशन: अभिषेक पराशर सर्टिफाइड गूगल न्यूज इनिशिएटिव फैक्ट चेकर और न्यूज वेरिफिकेशन ट्रेनर हैं।
इभारती पब्लिक पॉलिसी, इंडिया स्कूल ऑफ बिजनस की तरफ से आयोजित इंडिया डेटा पोर्टल वर्कशॉप में भागीदारी।
इन्होंने रॉयटर्स ट्रेनिंग इंट्रोडक्शन टू डिजिटल जर्नलिज्म का सर्टिफिकेशन हासिल किया है।
इन्होंने गूगल गूगल न्यूज़ इनिशिएटिव (GNI) ट्रेनिंग सेंटर से डेटा वेरिफिकेशन, डेटा जर्नलिज्म, इलेक्शन और इंट्रोडक्शन टू मशीन लर्निंग जैसे कोर्सेज को कंप्लीट किया है।
क्राउड टैंगल फॉर इंस्टाग्राम: हाऊ टू यूज सीटी टू मेक योर आईजी पॉप और फर्स्ट ड्राफ्ट ट्रेनिंग- वैक्सीन इनसाइट फ्लेक्सिबल लर्निंग कोर्स
आईएफसीएन, जीएनआई, फेसबुक, क्राउड टैंगल और आईसीएफजे की ओर से आयोजित कई वर्कशॉप में भी भाग लिया।
डेटा सर्च और एनालिसिस के साथ सोशल मीडिया मॉनिटरिंग और फैक्ट चेकिंग के लिए जरूरी टूल्स और टेक्नोलॉजी के अपडेट और उसके इस्तेमाल में इनकी विशेष दिलचस्पी है।
जागरण न्यू मीडिया से पहले वह न्यूज एजेंसी प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (पीटीआई-भाषा), बिजनेस डेली बिजनेस स्टैंडर्ड (हिंदी), इकॉनमिक टाइम्स, कैच न्यूज (संस्थापक टीम के सदस्य) और न्यूज नेशन डिजिटल (संस्थापक टीम के सदस्य) में काम कर चुके हैं। अभिषेक प्रशिक्षित फैक्ट चेकर हैं, जिन्होंने फेक न्यूज के खिलाफ लोगों को प्रशिक्षण देने का काम किया है। विश्वास न्यूज की तरफ से आयोजित मीडिया साक्षरता अभियान (सच के साथी) में बतौर प्रशिक्षक कई शहरों में आयोजित कार्यशालाओं और कोविड-19 के दौरान आयोजित वेबिनार में लोगों को प्रशिक्षित करने का काम करते रहे हैं।

संशोधन:

1: 16 सितंबर, 2019
विश्वास न्यूज को टीम के एक सदस्य (एंप्लॉयी आईडी- PN0041) की स्टोरी पर मेल मिला। यह स्टोरी 14 सितंबर को की गई थी। इस स्टोरी का लिंक यहां दिया गया है- https://www.vishvasnews.com/politics/fact-check-fake-tweet-of-congress-claiming-about-unemployment-in-auto-sector-being-viral-on-social-media/
इस स्टोरी पर विश्वास न्यूज को फेसबुक पेज ‘Fir Ek Bar Modi Sarkar’ के एडमिन की तरफ एक मेल मिली। इस पेज के एडमिन ने दावा किया कि उनके पोस्ट पर विश्वास न्यूज की तरफ से दी गई रेटिंग सही नहीं है। इस स्टोरी के लेखक ने यूथ कांग्रेस से जरूरी कोट नहीं लिया था। IFCN की गाइडलाइंस और मानक संचालन प्रक्रिया (SOP) के मुताबिक विश्वास न्यूज ने इस स्टोरी में जरूरी सुधार किए। साथ ही, इस फेसबुक पोस्ट की रेटिंग को ‘फाल्स’ से ‘ट्रू’ किया गया।

2: 18 दिसंबर, 2020
हमारी टीम के सदस्य (एम्पलॉय आईडी PN0043) के द्वारा की गई इस स्टोरी को 18 दिसंबर को अपडेट किया गया. जिसमें एक ऐसा पैराग्राफ हटाया गया, जिसकी उस स्टोरी में कोई आवश्‍यकता नहीं थी.
https://www.vishvasnews.com/politics/fact-check-post-claiming-about-change-in-name-of-mughal-garden-is-fake-2/
https://www.vishvasnews.com/english/politics/fact-check-govt-did-not-impose-tax-on-school-books-viral-claim-is-fake/
https://www.vishvasnews.com/english/politics/https-www-vishvasnews-com-english-politics-fact-check-post-claiming-about-renaming-mughal-garden-is-fake/

Fact Check Stories By : Abhishek Parashar

नवीनतम पोस्ट