X

Fact Check: बस पर पथराव के इस वीडियो का CAA विरोध प्रदर्शन से नहीं है कोई संबंध, 2018 का है वीडियो

  • By Vishvas News
  • Updated: December 18, 2019

नई दिल्ली विश्वास टीम।सिटिजनशिप अमेंडमेंट एक्ट विरोध प्रदर्शनों को लेकर सोशल मीडिया अफवाहों से भरा पड़ा है। इसी से जुड़ा एक और वीडियो आज कल वायरल हो रहा है जिसमें बस के अंदर बच्चों और महिलाओं को डरी हुई हालत में बस के फर्श पर बैठा हुआ देखा जा सकता है। वीडियो में उनकी बस पर पथराव हो रहा है। वीडियो के साथ दावा किया जा रहा है कि ये वीडियो हाल में हुए सिटिजनशिप अमेंडमेंट एक्ट विरोध प्रदर्शनों के दौरान हिंसक हुई भीड़ की करतूत का है। हमने अपनी पड़ताल में पाया कि ये दावा सही नहीं है। ये वीडियो असल में जनवरी 2018 का है जब फिल्म पद्मावत के विरोध में गुरुग्राम में हिंसक भीड़ ने जीडी गोयनका वर्ल्ड स्कूल की बस पर पत्थरों से हमला किया था।

CLAIM

सोशल मीडिया पर वायरल इस वीडियो में बस के फर्श पर बच्चों और महिलाओं को डरी हुई हालत में बैठा देखा जा सकता है। वीडियो में उनकी बस पर पथराव हो रहा है।

वीडियो के साथ डिस्क्रिप्शन में अंग्रेजी में लिखा है “Shame on this CAA Citizenship Amendment Act Protestors Shame on those who support this protestors Shame Shame Shame. See the Violence by this Protestors against CAB #CAA and NRC how they pettling stone on School bus see how School Childrens are fearing But still Liberals Congress and Bollywood duffers call it peaceful protest. Today this Delhi School bus if CAA and NRC is not applied then this can be your childrens school bus let us clean our Nation Inflatators #ISupportCAA”

इसका हिंदी अनुवाद होता है “CAA नागरिकता संशोधन अधिनियम पर विरोध करने वालों शर्म करो। विरोध प्रदर्शन का समर्थन करने वालों शर्म करो, शर्म करो, शर्म करो, शर्म करो। CAB #CAA और NRC के खिलाफ इस प्रदर्शनकारियों द्वारा हिंसा देखें कि कैसे वे स्कूल बस पर पथराव कर रहे हैं। कि कैसे स्कूल के बच्चे डर रहे हैं। लेकिन फिर भी उदारवादी कांग्रेस और बॉलीवुड डफ़र्स इसे शांतिपूर्ण विरोध कहते हैं। आज यह दिल्ली स्कूल बस है। अगर सीएए और एनआरसी लागू नहीं की जाती है तो यह आपके स्कूली बच्चों की बस हो सकती है। #ISupportCAA”

FACT CHECK

इस पोस्ट की पड़ताल करने के लिए हमने सबसे पहले इस वीडियो को Invid टूल पर डाला और इस वीडियो के कीफ्रेम्स निकाले। फिर हमने इन कीफ्रेम्स को गूगल रिवर्स इमेज पर सर्च किया। हमें outlookindia.com की 24 जनवरी 2018 को पब्लिश्ड एक खबर मिली जिसमें इस वीडियो के स्क्रीनग्रैब्स थे। खबर के अनुसार, ये घटना 2018 की है जब फिल्म पद्मावत के खिलाफ गुरुग्राम में करणी सेना समर्थकों ने जीडी गोयनका वर्ल्ड स्कूल की बस पर पत्थरों से हमला किया था।

हमें ये पूरा वीडियो द टाइम्स ऑफ़ इंडिया के यूट्यूब चैनल पर भी मिला। इस वीडियो को भी 24 जनवरी 2018 को ही अपलोड किया गया था और इस वीडियो में भी यही जानकारी दी गयी थी कि ये वीडियो 2018 का है जब फिल्म पद्मावत के खिलाफ गुरुग्राम में करनी सेना समर्थकों ने जीडी गोयनका वर्ल्ड स्कूल की बस पर पत्थरों से हमला किया था।

हमने पुष्टि के लिए जीडी गोयनका वर्ल्ड स्कूल के कम्युनिकेशन एंड आईटी हेड देवेन प्रताप से बात की। देवेन ने हमें बताया कि ये वीडियो 2018 का है और इसे उन्हीं के स्कूल की एक टीचर ने शूट किया था, जब स्कूल की बस पर 2018 में विरोध प्रदर्शन करने वालों ने हमला किया था।

इसके बाद हमने गुरुग्राम के पुलिस पीआरओ अजित श्याम कुमार से बात की, जिन्होंने इस घटना की पुष्टि की।

इस वीडियो को सोशल मीडिया पर कई लोग शेयर कर रहे हैं। इन्हीं में से एक है Jagadisa Murari Das नाम का फेसबुक यूजर। इसके प्रोफाइल के अनुसार, ये मुंबई का रहने वाला है और इसके फेसबुक पर 1,741 फ़ॉलोअर्स हैं।

निष्कर्ष: हमने अपनी पड़ताल में पाया कि ये दावा सही नहीं है। ये वीडियो असल में जनवरी 2018 का है, जब फिल्म पद्मावत के विरोध में गुरुग्राम में हिंसक भीड़ ने जीडी गोयनका वर्ल्ड स्कूल की बस पर पत्थरों से हमला किया था।

नागरिकता संशोधन कानून से जुड़े बाकी फैक्ट चेक आप नीचे पढ़ सकते हैं।

  • Claim Review : Shame on this CAA Citizenship Amendment Act Protestors Shame on those who support this protestors Shame Shame Shame
  • Claimed By : Jagadisa Murari Das
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later