X

Fact Check: राजस्थान में किसानों द्वारा बीजेपी नेता के साथ की गई बदसलूकी की 6 महीने पुरानी तस्वीर यूपी चुनाव के नाम से सोशल मीडिया पर हुई वायरल

विश्वास न्यूज ने वायरल दावे की जांच की और पाया कि वायरल दावा गलत है। वायरल तस्वीर का उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से कोई संबंध नहीं है। यह तस्वीर राजस्थान की है। जुलाई 2021 में एक कार्यक्रम के दौरान किसानों ने बीजेपी नेता कैलाश मेघवाल के साथ बदसलूकी की थी। यह तस्वीर उसी घटना की है।

  • By Vishvas News
  • Updated: January 25, 2022

ई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। उत्तर प्रदेश में जैसे-जैसे विधानसभा चुनाव नजदीक आ रहे हैं, वैसे-वैसे राजनीतिक दलों का चुनाव प्रचार और तेज हो रहा है। प्रत्याशियों ने घर-घर जाकर वोट मांगना शुरू कर दिया है। इसी से जुड़ी एक पोस्ट सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है। पोस्ट में एक शख्स फटे हुए कपड़ों में पुलिस के साथ चलता हुआ नजर आ रहा है। इस तस्वीर को शेयर कर दावा किया जा रहा है कि उत्तर प्रदेश में वोट मांगने गए बीजेपी नेता की जनता ने पिटाई कर दी है। विश्वास न्यूज ने वायरल दावे की जांच की और पाया कि वायरल दावा गलत है। वायरल तस्वीर का उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से कोई संबंध नहीं है। यह तस्वीर राजस्थान की है। जुलाई 2021 में एक कार्यक्रम के दौरान किसानों ने बीजेपी नेता कैलाश मेघवाल के साथ बदसलूकी की थी। यह तस्वीर उसी घटना की है।

क्या है वायरल पोस्ट में?

फेसबुक यूजर Rupesh Bakoliya ने वायरल तस्वीर को शेयर करते हुए लिखा है कि वोट माँगने जनता के बीच गए भाजपा नेता जी का हाल, योगी बाबा को मैसेज करके बताया कि मै ज़िंदा लौट कर आ गया हूँ।

सोशल मीडिया पर कई अन्य यूजर्स ने इस वीडियो को समान और मिलते-जुलते दावे के साथ शेयर किया है। फेसबुक पोस्‍ट के कंटेंट को यहां ज्‍यों का त्‍यों लिखा गया है। इसके आकाईव्‍ड वर्जन को यहां देखा जा सकता है।

पड़ताल –

वायरल दावे की सच्चाई जानने के लिए हमने तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज के जरिए सर्च किया। इस दौरान हमें वायरल दावे से जुड़ी एक रिपोर्ट दैनिक जागरण की वेबसाइट पर 30 जुलाई 2021को प्रकाशित मिली। रिपोर्ट में दी गई जानकारी के मुताबिक, तस्वीर में नजर आ रहे शख्स राजस्थान बीजेपी के अनुसूचित जाति मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष कैलाश मेघवाल हैं। मेघवाल महंगाई और सिंचाई को लेकर भाजपा की जिला इकाई द्वारा आयोजित विरोध-प्रदर्शन में शामिल होने श्रीगंगानगर पहुंचे थे। मेघवाल जैसे ही श्रीगंगानगर के महाराजा गंगा सिंह चौक पर पहुंचे तो वहां मौजूद किसान उग्र हो गए। किसानों ने अचानक मेघवाल पर हमला बोल दिया, जिससे मौके पर अफरातफरी मच गई। हंगामा बढ़ा तो पुलिस मौके पर पहुंची और मेघवाल को किसानों के कब्जे से छुड़वाया।

प्राप्त जानकारी के आधार पर हमने गूगल पर कुछ कीवर्ड्स के जरिए सर्च किया। इस दौरान हमें वायरल दावे से जुड़ी एक वीडियो रिपोर्ट टीवी9 भारतवर्ष के आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर 30 जुलाई 2021 को अपलोड मिली। वीडियो में कैलाश मेघवाल को फटे कपड़ों में पुलिस के साथ देखा जा सकता है। वीडियो में दी गई जानकारी के अनुसार, श्रीगंगानगर में हुए एक कार्यक्रम में किसानों ने कैलाश मेघवाल के साथ बदसलूकी की थी और उनके कपड़े फाड़ दिए थे।

अधिक जानकारी के लिए हमने दैनिक जागरण की वरिष्ठ पत्रकार नरेंद्र शर्मा से संपर्क किया। हमने वायरल दावे को उनके साथ शेयर किया। उन्होंने हमें बताया कि वायरल दावा गलत है। यह तस्वीर तकरीबन 6 महीने पुरानी है। वायरल तस्वीर में नजर आ रहे शख्स बीजेपी एससी मोर्चा के अध्यक्ष कैलाश मेघवाल हैं। वह जुलाई में श्रीगंगानगर में एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए पहुंचे थे। वहीं पर किसानों ने इनके साथ मारपीट कर दी थी और कपड़े फाड़ दिए थे। फिर पुलिस ने लाठीचार्ज कर मामला शांत किया था। साथ ही इस मामले पर एफआईआर दर्ज की थी।

विश्वास न्यूज ने इस वायरल दावे को शेयर करने वाले फेसबुक Rupesh Bakoliya की प्रोफाइल को स्कैन किया। स्कैनिंग से पता चला कि यूजर एक विचारधारा से प्रभावित है। फेसबुक पर Rupesh Bakoliya के 4 हजार 9 सौ से ज्यादा फ्रेंड्स हैं।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज ने वायरल दावे की जांच की और पाया कि वायरल दावा गलत है। वायरल तस्वीर का उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से कोई संबंध नहीं है। यह तस्वीर राजस्थान की है। जुलाई 2021 में एक कार्यक्रम के दौरान किसानों ने बीजेपी नेता कैलाश मेघवाल के साथ बदसलूकी की थी। यह तस्वीर उसी घटना की है।

  • Claim Review : वोट माँगने जनता के बीच गए भाजपा नेता जी का हाल,योगी बाबा को मैसेज करके बताया कि मै ज़िंदा लौट कर आ गया हूँ।
  • Claimed By : Rupesh Bakoliya
  • Fact Check : भ्रामक
भ्रामक
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later