X

Fact Check: वायरल कार्टून बेन गैरिसन का नहीं, असम के आर्टिस्ट अमल मेधी ने बनाया है

नई दिल्ली (विश्वास टीम)। सोशल मीडिया पर आज कल एक कार्टून वायरल हो रहा है। इस कार्टून के साथ दावा किया जा रहा है कि अमेरिका के राजनीतिक कार्टूनिस्ट बेन गैरिसन ने यह कार्टून बनाया है और इस कार्टून की तस्वीर के अंदर अंग्रेजी भाषा में “American cartoonist Ben Garrison’s depiction of the state of the India. The best way to show how BJP & Modi ruled India” लिखा हुआ है। विश्वास टीम ने अपनी पड़ताल में इस वायरल हो रहे दावे को फर्जी पाया। हमारी जांच में पता चला कि यह वायरल कार्टून बेन गैरिसन ने नहीं, बल्कि असम के कार्टूनिस्ट अमल मेधी ने बनाया है।

क्या हो रहा है वायरल?

फेसबुक यूजर “Ranjit Singh Ghuman” एक कार्टून की तस्वीर शेयर करते हैं। इस तस्वीर के अंदर अंग्रेजी भाषा में “American cartoonist Ben Garrison’s depiction of the state of the India. The best way to show how BJP & Modi ruled India” लिखा हुआ है। इस कार्टून के साथ डिस्क्रिप्शन पंजाबी भाषा में लिखा गया है: “ਅਮਰੀਕੀ ਕਾਰਟੂਨਿਸਟ ਵੱਲੋ ਜਾਰੀ ਕੀਤਾ ਕਾਰਟੂਨ ਜਿਸ ਵਿਚ…ਬਾਕੀ ਤੁਸੀਂ ਆਪਿ ਦੇਖਲੋ….”

इस डिस्क्रिप्शन का हिंदी अनुवाद है: “अमेरिकी कार्टूनिस्ट की तरफ से जारी किया गया कार्टून जिसमें…बाकी आप खुद देख लो….”

पड़ताल

अपनी पड़ताल को शुरू करने के लिए हमने सबसे पहले बेन गैरिसन से संपर्क करने का फैसला किया।

गूगल पर “बेन गैरिसन” कीवर्ड से सर्च करने पर हमें उनकी आधिकारिक वेबसाइट “grrrgraphics.com” का लिंक मिला। हमने उनकी वेबसाइट पर दी गई ईमेल ID “info@grrrgraphics.com” पर मेल कर उनसे संपर्क किया।

हमें मेल पर इस पोस्ट के सबंध में पुष्टि प्राप्त हुई। बेन गैरिसन की पत्नी टीना गैरिसन ने मेल के जवाब में बताया, “यह वायरल हो रहा कार्टून बेन गैरिसन ने नहीं बनाया है। बेन भारत की राजनीति से जुड़े कार्टून नहीं बनाते हैं। बेन के सारे बनाए कार्टून उनकी वेबसाइट पर देखे जा सकते हैं।”

हमें अपनी पड़ताल के दौरान बेन गैरिसन का एक ट्वीट मिला, जिसमें उन्होंने बताया था कि वो भारतीय राजनीति से जुड़े कार्टून नहीं बनाते हैं।

यह कार्टून बेन गैरिसन ने नहीं बनाया है की पुष्टि होने के बाद अब हमें यह जानना था कि असल में यह कार्टून किसने बनाया है और कब यह पहली बार इंटरनेट पर प्रकाशित हुआ था। इसकी पड़ताल करने के लिए हमने इस कार्टून को क्रॉप किया और गूगल रिवर्स इमेज टूल में अपलोड करके सर्च किया। सर्च के नतीजों में हमने पाया कि यह कार्टून बेन गैरिसन के नाम से पहले भी कई बार वायरल हो चुका है।

इसी सर्च के नतीजे में हमें एक लिंक असम के भारतीय राजनीतिक कार्टूनिस्ट “अमल मेधी” के फेसबुक पोस्ट का मिला। यह पोस्ट 29 सितंबर 2015 को किया गया था और इस पोस्ट में इसी वायरल हो रहे कार्टून का इस्तेमाल किया गया था। बस फर्क इतना था कि इस कार्टून में भाजपा का नाम नहीं था और इस कार्टून में नीचे अमल मेधी के दस्तखत भी आप देख सकते हैं।

इस पोस्ट में कई यूजर ने कमेंट किया है कि यह कार्टून बेन गैरिसन के नाम से वायरल हो रहा है, जबकि यह यूजर अमल मेधी ने बनाया है। अब हमने अमल मेधी से इस कार्टून के बारे में बात करने का फैसला किया। अमल ने हमारे साथ बात करते हुए बताया कि यह कार्टून उन्होंने 2015 में बनाया था और बाद में लोगों ने इस कार्टून को बेन गैरिसन के नाम से वायरल करना शुरू कर दिया था। अमल ने हमारे साथ इस कार्टून को लेकर किए गए कई फर्जी पोस्ट शेयर किए। इस वायरल हो रहे कार्टून और अमल मेधी द्वारा बनाए गए कार्टून में अंतर आप नीचे दिए गए स्क्रीनशॉट में देख सकते हैं।

अंत में विश्वास टीम ने इस पोस्ट को वायरल करने वाले यूजर “Ranjit Singh Ghuman” के अकाउंट की सोशल स्कैनिंग करने का फैसला किया। हमने पाया कि यूजर पंजाब के फतेहगढ़ जिले में रहते हैं और यह पंजाब से जुडी खबरों को ज्यादा पोस्ट करते हैं।

निष्कर्ष: वायरल हो रही तस्वीर अमेरिकी कार्टूनिस्ट बेन गैरिसन की नहीं, बल्कि असम के कार्टूनिस्ट अमल मेधी की कला है। असल में जो कार्टून अमल मेधी ने बनाया था उसमें भी छेड़छाड़ की गई है।

  • Claim Review : ਅਮਰੀਕੀ ਕਾਰਟੂਨਿਸਟ ਵੱਲੋ ਜਾਰੀ ਕੀਤਾ ਕਾਰਟੂਨ ਜਿਸ ਵਿਚ…ਬਾਕੀ ਤੁਸੀਂ ਆਪਿ ਦੇਖਲੋ….
  • Claimed By : FB User-Ranjit Singh Ghuman
  • Fact Check : False
False
    Symbols that define nature of fake news
  • True
  • Misleading
  • False
जानिए सच्‍ची और झूठी सबरों का सच क्विज खेलिए और सीखिए स्‍टोरी फैक्‍ट चेक करने के तरीके क्विज खेले

पूरा सच जानें...

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी खबर पर संदेह है जिसका असर आप, समाज और देश पर हो सकता है तो हमें बताएं। हमें यहां जानकारी भेज सकते हैं। हमें contact@vishvasnews.com पर ईमेल कर सकते हैं। इसके साथ ही वॅाट्सऐप (नंबर – 9205270923) के माध्‍यम से भी सूचना दे सकते हैं।

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later