X

Fact Check: हंसराज हंस ने नहीं कबूला इस्लाम, आम आदमी पार्टी ने किया गलत दावा

नई दिल्ली (विश्वास टीम)। सोशल मीडिया पर सूफी गायक हंसराज हंस के इस्लाम धर्म अपनाए जाने के दावे के साथ एक वीडियो वायरल हो रहा है। दावा किया जा रहा है कि हंसराज हंस ने इस्लाम कबूल कर लिया है। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने गायक हंसराज हंस को उत्तर-पश्चिम दिल्ली लोकसभा सीट से उम्मीदवार बनाया है, जो सुरक्षित सीट है।

क्या है वायरल पोस्ट में?

फेसबुक और ट्विटर पर सभी वायरल पोस्ट में एक ही दावे (हंसराज हंस के इस्लाम कबूल किए जाने) के साथ एक व्यक्ति का वीडियो वायरल हो रहा है।

आम आदमी पार्टी की नेशनल सोशल मीडिया टीम में काम करने वाले स्पंदन श्रीवास्तव ने इस वीडियो को शेयर करते हुए लिखा है, ‘Not only @BJP4India is Anti Muslim, they’re Anti SC/ST too. By Fielding a Muslim candidate from an SC/ST seat is just plain discrimination. Hans Raj Hans , Kya kahega?

Hopefully our EC will look into this matter seriously.’ हिंदी में इसे ऐसे पढ़ा जा सकता है, ‘न केवल बीजेपी एंटी मुस्लिम है, बल्कि वह एससी और एसटी के खिलाफ है। एससी और एसटी के लिए सुरक्षित सीट से मुस्लिम प्रत्याशी को उम्मीदवार बनाना सीधे सीधे भेदभाव है। हंसराज हंस क्या कहेगा? उम्मीद करते हैं कि हमारा चुनाव आयोग इस मामले में गंभीरता से विचार करेगा।’

वीडियो में ऊपर और नीचे लिखे कैप्शन में कहा गया है, ‘दिल्ली की उत्तर-पश्चिम सीट से भाजपा के उम्मीदवार हंसराज हंस उर्फ मोहम्मद यूसुफ इस्लाम पर बोलते हुए।’

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी आम आदमी पार्टी (आप) नेता राजेंद्र पाल गौतम के ट्वीट को रिट्वीट करते हुए लिखा है, ‘हंसराज हंस एक सुरक्षित सीट से लड़ने की योग्यता नहीं रखते। अंत में उन्हें अयोग्य करार दिया जाएगा। उत्तर-पश्चिम दिल्ली के मतदाताओं से अपील है कि वह अपना मत उन्हें देकर बर्बाद न करें।’

केजरीवाल ने जिस ट्वीट को रिट्वीट किया है, उसमें हंसराज हंस के इस्लाम कबूले जाने का  दावा किया गया है।

राजेंद्र पाल गौतम की ट्वीट में लिखा गया है, ‘2014 की मीडिया खबरों के अनुसार, @hansrajhansHRH ने इस्लाम कबूल किया था और अब नॉर्थ-वेस्ट दिल्ली लोकसभा से भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे है। यह संसदीय सीट अनुसूचित जाति के लिए सुरक्षित है और केवल एससी ही इस सीट पर चुनाव लड़ सकता है।’

दावे की पड़ताल किए जाने तक केजरीवाल के ट्वीट को 2900 बार रिट्वीट किया जा चुका है, जबकि इसे 1300 लोगों ने पसंद किया है। फेसबुक पर यही वीडियो इसी दावे के साथ वायरल हो रहा है। आम आदमी पार्टी के इसी दावे को हिंदी न्यूज चैनल एबीपी के ट्विटर हैंडल पर देखा जा सकता है।

पड़ताल

हमारे लिए यह जानना जरूरी था कि वीडियो में नजर आ रहा व्यक्ति हंसराज हंस हैं या नहीं। जब हमने इसे सर्च किया तो हमें पता चला कि वीडियो में नजर आ रहे व्यक्ति हंसराज हंस ही हैं, लेकिन जो हिस्सा वायरल हो रहा है, वह पूरे वीडियो का एक हिस्सा है, जिसे जानबूझकर एडिटिंग की मदद से अलग कर सोशल मीडिया पर गुमराह करने वाले दावे के साथ वायरल किया गया।

सर्च में हमें मिन्हाज टीवी के फेसबुक के आधिकारिक हैंडल पर (Minhaj TV) का 19 फरवरी 2019 को पोस्ट किया गया वीडियो मिला। वीडियो के कैप्शन में साफ और स्पष्ट लिखा गया है, ”शेख ऊल इस्लाम डॉ मुहम्मद ताहिर-ऊल-कादिरी के 67वें जन्मदिन पर सम्मान देते हुए हंसराज हंस।”

इसी पोस्ट में यू-ट्यूब पर पोस्ट किए गए वीडियो का भी लिंक शेयर किया है, जिसे यहां देखा जा सकता है।

पूरे वीडियो दो अलग हिस्सों में विभाजित है। पहले हिस्से में सूफी गायक हंसराज हंस ताहिर-ऊल-कादिरी और उनके उपदेश के बारे में बात कर रहे हैं, जिसे आम आदमी पार्टी के सोशल मीडिया की टीम से जुड़े लोगों ने हंसराज हंस के इस्लाम के बारे में बात करने का दावा करते हुए वायरल किया।

वीडियो के पहले हिस्से को एडिटिंग की मदद से काटकर वायरल किया, जिसमें हंस, ताहिर-ऊल-कादिरी के व्यक्तित्व और उनके उपदेशों के बारे में बात कर रहे हैं, न कि इस्लाम के बारे में।

वीडियो का अगले हिस्से में वह ताहिर-ऊल-कादिरी के जन्मदिवस के मौके पर सूफी नज्म गाते हुए नजर आ रहे हैं। पूरा वीडियो ताहिर-ऊल-कादिरी के जन्मदिन के मौके पर हंसराज हंस की ओर से उन्हें दिए गए सम्मान के बारे में हैं, न कि इस्लाम के बारे में।

ताहिर-ऊल-कादिरी पाकिस्तानी-कनाडाई मूल के नेता और इस्लामिक विद्वान हैं। कादरी मिन्हाज-ऊल-कुरान इंटरनैशनल के संस्थापक चेयरमैन हैं। 2012 में कादिरी ने पाकिस्तान की तत्कालीन सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार के खिलाफ बड़ी रैली की थी।  बाद में सरकार और कादरी के बीच समझौता हुआ, जिसे इस्लामाबाद ‘’लॉन्ग मार्च घोषणापत्र’’ का नाम दिया गया।

वीडियो की सत्यता परखने के बाद जब हमने न्यूज सर्च का इस्तेमाल किया, तब हमें पता चला कि 2014 में भी हंसराज हंस के इस्लाम कबूले जाने का दावा करते हुए कई खबरें आई थी, जब वह तीन दिनों की यात्रा पर पाकिस्तान गए थे।

2014 में पाकिस्तानी मीडिया (यून्यूज टीवी/Unews TV और अन्य) के हवाले से हंस के इस्लाम कबूले जाने की खबर आई थी। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स  में में यह भी  बताया गया था कि हंस ने अपना नाम बदलकर  मोहम्मद यूसुफ कर लिया है।

तब हंसराज हंस के बेटे ने इन खबरों को अफवाह बताते हुए सीधे-सीधे खारिज किया था। नवराज हंस ने अपने फेसबुक पोस्ट (19 फरवरी 2014) में कहा, ‘मीडिया हमेशा ही मशहूर शख्सियतों की जिंदगी में अहम भूमिका निभाता है। यह कितना दुखद है कि सभी अखबारों और ऑनलाइन मीडिया में इस बात का ख्याल किए बिना कि कोई अफवाह किसी परिवार को दुख पहुंचा सकता है, झूठी खबरें छापी जा रही हैं। किसी व्यक्ति की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाना सही नहीं है। यह हमें बताना है कि जिन अफवाहों में हंसराज हंस के इस्लाम कबूले जाने का जिक्र किया गया है, वह पूरी तरह से बकवास और बेकार है। कृपया ऐसी अफवाहों को फैलाकर उनका साथ न दें।’नवराज के इस पोस्ट के आर्काइव वर्जन को यहां देखा जा सकता है।

25 फरवरी को प्रकाशित इस मीडिया रिपोर्ट्स में उनके दूसरे बेटे की तरफ से दिए गए बयान को भी पढ़ा जा सकता है। चुनाव से ऐन पहले इस विवाद के फिर से पैदा होने के बाद टीवी टुडे ग्रुप की एक वेबसाइट से बातचीत में हंसराज हंस ने ने खुद को ”वाल्मीकि” बताया है। उन्होंने कहा, ”मैं वाल्मीकि सफाई कर्मचारी यूनियन का चेयरमैन भी हूं। वाल्मीकि अमृतसर ट्रस्ट का वाइस चेयरमैन भी हूं। सारे संतों ने मुझे वाल्मीकि समाज का बच्चा घोषित किया हुआ है। मैं जन्मजात वाल्मीकि हूं’

निष्कर्ष: दिल्ली की सुरक्षित लोकसभा सीट से बतौर बीजेपी प्रत्याशी चुनाव लड़ रहे हंसराज हंस ने इस्लाम कबूल किए जाने का दावा गलत है। जिस वीडियो को आधार बनाकर हंसराज हंस के इस्लाम कबूल किए जाने की झूठी खबर फैलाई गई, वह पहले भी पाकिस्तानी मीडिया के हवाले से वायरल हुई थी और आखिरकार झूठी साबित हुई।

पूरा सच जानें…

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी खबर पर संदेह है जिसका असर आप, समाज और देश पर हो सकता है तो हमें बताएं। हमें यहां जानकारी भेज सकते हैं। हमें contact@vishvasnews.com पर ईमेल कर सकते हैं। इसके साथ ही वॅाट्सऐप (नंबर – 9205270923) के माध्‍यम से भी सूचना दे सकते हैं।

  • Claim Review : दिल्ली की उत्तर पश्चिम सीट से भाजपा के उम्मीदवार हंसराज हंस उर्फ मोहम्मद युसूफ इस्लाम पर बोलते हुए।
  • Claimed By : Spandan Srivastava
  • Fact Check : False
False
    Symbols that define nature of fake news
  • True
  • Misleading
  • False
जानिए सच्‍ची और झूठी सबरों का सच क्विज खेलिए और सीखिए स्‍टोरी फैक्‍ट चेक करने के तरीके क्विज खेले

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later