Fact Check: सिपाही-होमगार्ड की लड़ाई का तीन साल पुराना वीडियो ‘चालान’ के नाम पर अब हुआ वायरल

नई दिल्ली (विश्वास टीम)। 1 सितंबर 2019 से नए ट्रैफिक नियमों के लागू होने के बाद से ही कई पुरानी खबरें हालिया बताकर वायरल की जा रही हैं। इसी तरह सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। इस वीडियो में पुलिस की वर्दी में दिख रहे दो जवान आपस में लड़ते नजर आ रहे हैं। यह दोनों जवान एक-दूसरे को बहुत बुरी तरह से मार रहे हैं और इनके साथी पुलिसकर्मी इन्हें रोक रहे हैं। इस वीडियो के साथ दावा किया जा रहा है कि यह पुलिसकर्मी चालान के बंटवारे को लेकर आपस में लड़ पड़े थे। विश्वास टीम ने इस दावे की पड़ताल करते हुए पाया कि यह वीडियो यूपी के लखनऊ का है और 3 साल पुराना है। वीडियो में लड़ रहे लोगों में एक पुलिस का सिपाही है और एक होमगार्ड का जवान। यह दोनों आपस में लड़ पड़े थे।

क्या हो रहा है वायरल?

सोशल मीडिया के फेसबुक प्लेटफॉर्म पर “Journalist Punya Prasun Bajpai” नाम का पेज एक पोस्ट शेयर करता है। इस पोस्ट में एक वीडियो को शेयर किया गया है जिसमें पुलिस की वर्दी में दिख रहे दो जवान आपस में लड़ते नजर आ रहे हैं। इस वीडियो के साथ डिस्क्रिप्शन लिखा गया है: “चालान के पैसे का बँटवाड़ा के लिए जब पुलिस आपस में ही लड़ मरी”

पड़ताल किए जाने तक इस पोस्ट पर 8 हजार से ज्यादा यूजर कमेंट आ चुके थे और इस वीडियो को 1 लाख 20 हजार से ज्यादा बार शेयर भी किया जा चुका था।

पड़ताल

पड़ताल शुरू करने के लिए हमने सबसे पहले इस वीडियो को “InVID” टूल में अपलोड किया और इसके स्क्रीनशॉट निकाले। उन स्क्रीनशॉट को जब हमने “Yandex” रिवर्स इमेज पर सर्च किया तो सर्च के नतीजों में हमारे सामने कई लिंक आ गए।

हमें एक लिंक “ABP News” के “Youtube” वीडियो का मिला। यह वीडियो 26 जून 2016 को अपलोड किया गया था। इस वीडियो में वायरल पोस्ट में शेयर की गई वीडियो के मामले को बताया गया था। इस वीडियो में बताया गया था कि लखनऊ में अवैध वसूली के बंटवारे को लेकर पुलिस का एक सिपाही और होमगार्ड के जवान आपस में लड़ पड़े। झड़प के बाद इनपर कार्रवाई करते हुए एक पुलिसकर्मी को निलंबित कर दिया गया। “ABP News” की इस वीडियो के साथ हेडलाइन लिखी गई थी: “Lucknow: Policeman suspended after a clash with a homeguard over sharing bribe”

इस वीडियो के साथ लिखे गए डिस्क्रिप्शन के अनुसार: “ट्रकों और स्थानीय विक्रेताओं से वसूली रिश्वत साझा करने पर होमगार्ड के साथ झड़प के बाद एक पुलिसकर्मी को निलंबित कर दिया गया।”

इसके बाद हमने “लखनऊ में वसूली के पैसे को लेकर आपस में भिड़े पुलिसवाला और होमगार्ड” कीवर्ड डालकर गूगल सर्च किया।

इस सर्च के नतीजे में हमारे हाथ Patrika.com की खबर लगी। इस खबर की हेडलाइन थी: “वीडियो में देखिए वसूली की रकम के बंटवारे को लेकर बीच सड़क पर कैसे भिड़े पुलिसवाले”

इस खबर के अनुसार: घुस में हिस्सा कम मिलने के कारण यूपी के लखनऊ में इटौंजा थाने के सिपाहियों के बीच जमकर सरे बजार मारपीट हुई। इससे करीब आधे घंटे तक तांडव चलता रहा। किसी भी राहगीर की इनके पास जाने की हिम्मत तक नहीं हुई थी।

हमें पता चल चुका था कि यह वीडियो 3 साल पुराना है और यूपी के लखनऊ में इटौंजा थाना क्षेत्र का है। इसके बाद विश्वास टीम के साथ लखनऊ जिला के एएसपी ग्रामीण विक्रांत वीर ने बात करते हुए बताया, ” यह वायरल वीडियो तीन साल पुराना है। चालान को लेकर कोई झगड़ा नहीं हुआ था। होमगार्ड और सिपाही के खिलाफ तत्कालीन अधिकारियों ने कार्रवाई भी की थी।”

अंत में विश्वास टीम ने इस पोस्ट को वायरल करने वाले पेज “Journalist Punya Prasun Bajpai” की सोशल स्कैनिंग करने का फैसला किया। हमने पाया की पेज को 76,965 लोग फॉलो करते हैं और यह पेज भारतीय राजनीति से जुडी खबरों को ही पोस्ट करता है। यह पेज 19 दिसंबर 2016 को बनाया गया था।

निष्कर्ष: विश्‍वास टीम ने अपनी पड़ताल में चालान की रकम को लेकर भिड़े पुलिसवालों के दावे वाला पोस्ट फर्जी साबित किया। असल में, यह वीडियो यूपी के लखनऊ का है और 3 साल पुराना है। वीडियो में लड़ रहे लोगों में एक पुलिस का सिपाही है और एक होमगार्ड का जवान। यह दोनों आपस में अवैध वसूली के बंटवारे को लेकर आपस में लड़ पड़े थे।

  • Claim Review : चालान के पैसे का बँटवाड़ा के लिए जब पुलिस आपस में ही लड़ मरी
  • Claimed By : FB Page-Journalist Punya Prasun Bajpai
  • Fact Check : False
False
    Symbols that define nature of fake news
  • True
  • Misleading
  • False

पूरा सच जानें...

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी खबर पर संदेह है जिसका असर आप, समाज और देश पर हो सकता है तो हमें बताएं। हमें यहां जानकारी भेज सकते हैं। हमें contact@vishvasnews.com पर ईमेल कर सकते हैं। इसके साथ ही वॅाट्सऐप (नंबर – 9205270923) के माध्‍यम से भी सूचना दे सकते हैं।

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later