X

Fact Check: पाकिस्तान के पुराने वीडियो को भारत में आइसोलेशन वार्ड में तब्लीगी जमात मेंबर का बता कर किया गया वायरल

  • By Vishvas News
  • Updated: April 9, 2020

नई दिल्ली विश्वास टीम। सोशल मीडिया पर आज कल 2 मिनट 27 सेकंड का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें एक व्यक्ति को बिना कपड़ों के एक इमारत में घूमते और तोड़फोड़ करते देखा जा सकता है। वीडियो में दिख रहा यह व्यक्ति अपने सिर से शीशे के दरवाजों को तोड़ता है और खून से लथपथ है।

इस वायरल वीडियो के साथ दावा किया जा रहा है कि ये व्यक्ति तब्लीग़ी जमात का मेंबर है और कोरोना वायरस के आइसोलेशन वार्ड में ऐसी हरकत कर रहा है। विश्वास न्यूज़ ने अपनी पड़तल में पाया कि यह दावा गलत है। असल में यह वीडियो पाकिस्तान के कराची का है और ये घटना 2019 में ‘गुलशन-ए-हदीद’ नाम की जगह की एक जामिया मस्जिद खालिद बिन वलीद में हुई थी। इस वीडियो का भारत से कोई संबंध नहीं है।

क्या हो रहा है वायरल?

वायरल वीडियो में एक व्यक्ति को बिना कपड़ों के एक इमारत में घूमते और तोड़फोड़ करते देखा जा सकता है। वीडियो में दिख रहा यह व्यक्ति अपने सिर से शीशे के दरवाजों को तोड़ता है और खून से लथपथ है। इस वायरल वीडियो के साथ दावा किया जा रहा है, “देखिए 14 दिन के एकांतवास में भी इन तबलीगी जमात के लोगों ने अश्लीलता और आतंक मचा रखा है…… कोरोंनटाइन में जमकर किया हंगामा#सरम नाम की सारी हदें कर दी पार#खेला नंगा नाच.वीडियो हुवा वाइरल# प्रशासन है इन लोगो से परेशान#”

इस पोस्ट का फेसबुक लिंक यहां और आर्काइव लिंक को यहां देखा जा सकता है।

पड़ताल

इस वीडियो की पड़ताल करने के लिए हमने वीडियो को InVid टूल पर डाला और इसके की-फ्रेम्स को गूगल रिवर्स इमेज पर कीवर्ड्स के साथ सर्च किया।

हमें यूट्यूब पर एक वीडियो मिला। 2 मिनट 47 सेकंड के इस वीडियो में 21 सेकंड के बाद से वायरल वीडियो में दिख रहे क्लिप्स को देखा जा सकता है। इस वीडियो को यूट्यूब पर Top Trend नाम के पेज द्वारा 26 अगस्त, 2019 को अपलोड किया गया था। वीडियो का टाइटल है, ‘Naked man entered in Mosque, Gulshan e Hadeed Karachi’ जिसका हिंदी अनुवाद होता है “कराची के गुलशन-ए-हदीद मस्जिद में एक नंगा व्यक्ति प्रवेश कर गया।” वीडियो के डिस्क्रिप्शन में लिखा था “गुलशन-ए-हदीद फेज 2 डबल रोड पर खालिद बिन वालिद मस्जिद में एक अज्ञात व्यक्ति ने तोड़फोड़ की और क्षतिग्रस्त होने के बाद इमाम के स्थान पर लेट गया।”

इस विषय में ज़्यादा पुष्टि के लिए विश्वास न्यूज़ ने खालिद बिन वालिद मस्जिद के इमाम अरशद उल हक़ से फोन पर बात की। उन्होंने हमें बताया, “यह घटना 22 अगस्त 2019 की है जब शफ़ीक़ अब्रा नाम का यह व्यक्ति बिना कपड़ों के खालिद बिन वालिद मस्जिद में घुस आया था। इस व्यक्ति ने तोड़फोड़ की थी और बाद में मस्जिद एडमिन द्वारा पुलिस को सूचित किये जाने के बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया था। पुलिस ने इन्वेस्टिगेशन में पाया था कि ये आदमी दिमागी रूप से परेशान था।”

इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर कई लोग शेयर कर रहे हैं। इन्हीं में से एक है ‘आप की क्रान्ति’ नाम का एक फेसबुक पेज। इस पेज के फेसबुक पर कुल 4,954 फ़ॉलोअर्स हैं।

Disclaimer: कोरोनावायरसफैक्ट डाटाबेस रिकॉर्ड फैक्ट-चेक कोरोना वायरस संक्रमण (COVID-19) की शुरुआत से ही प्रकाशित हो रही है। कोरोना महामारी और इसके परिणाम लगातार सामने आ रहे हैं और जो डाटा शुरू में एक्यूरेट लग रहे थे, उसमें भी काफी बदलाव देखने को मिले हैं। आने वाले समय में इसमें और भी बदलाव होने का चांस है। आप उस तारीख को याद करें जब आपने फैक्ट को शेयर करने से पहले पढ़ा था।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज़ ने अपनी पड़तल में पाया कि यह दावा गलत है। असल में यह वीडियो पाकिस्तान के कराची का है और ये घटना 2019 में कराची की ‘गुलशन ए हदीद’ नाम की जगह की एक जामिया मस्जिद खालिद बिन वलीद में हुई थी। इस घटना का भारत से कोई संबंध नहीं है।

  • Claim Review : हॉस्पिटल में जमातियों का हंगामे वाली वीडियो भी देख लो।
  • Claimed By : आप की क्रान्ति
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later