X

Fact Check: यूपी में 22 मई तक लॉकडाउन लगाने का दावा झूठा, न्यूज चैनल के नाम पर फर्जी ट्वीट वायरल

  • By Vishvas News
  • Updated: May 10, 2021

विश्वास न्यूज (नई दिल्ली)। कोरोना संक्रमण के मामलों के बीच इससे जुड़े ढेर सारे दावे रोजाना सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं। ऐसा ही एक दावा उत्तर प्रदेश में लॉकडाउन के संदर्भ में वायरल हो रहा है। सोशल मीडिया यूजर्स आजतक के एक कथित ट्वीट के स्क्रीनशॉट को शेयर कर रहे हैं, जिसमें यूपी में 22 मई तक लॉकडाउन लगाने का दावा किया गया है। साथ ही, 30 जून तक स्कूल-कॉलेज बंद रहने, सभी परीक्षाएं रद करने और सभी को प्रमोट करने का भी दावा किया गया है। विश्वास न्यूज की पड़ताल में ये दावा झूठा पाया गया है। आजतक के ट्वीट को एडिट कर लॉकडाउन की फेक सूचना अलग से लगाई गई है। यूपी में कोरोना संक्रमण को देखते हुए 17 मई 2021 सुबह 7 बजे तक आंशिक कर्फ्यू लगाया गया है।

क्या हो रहा है वायरल

विश्वास न्यूज को अपने फैक्ट चेकिंग वॉट्सऐप चैटबॉट (+91 95992 99372) पर भी ये दावा फैक्ट चेक के लिए मिला है। यूजर ने हमारे साथ एक स्क्रीनशॉट शेयर किया है, जिसमें आजतक का ट्विटर हैंडल और एक खबर दिख रही है। इस स्क्रीनशॉट को यहां नीचे देखा जा सकता है।

कीवर्ड्स से सर्च करने पर हमें यही दावा फेसबुक पर भी वायरल मिला है। फेसबुक यूजर Nitin Gupta ने 9 मई 2021 को बिल्कुल इसी स्क्रीनशॉट को पोस्ट करते हुए लिखा है, ’22 may तक lockdown.’

इस पोस्ट के आर्काइव्ड वर्जन को यहां क्लिक कर देखा जा सकता है।

पड़ताल

विश्वास न्यूज ने सबसे पहले इंटरनेट पर सर्च कर यह जानना चाहा कि क्या कोरोना को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने 22 मई तक लॉकडाउन का एलान किया है। हमें ऐसी कोई प्रामाणिक रिपोर्ट नहीं मिली, जो 22 मई तक लॉकडाउन के किसी फैसले की पुष्टि करती हो। इसके उलट हमें हमारे सहयोगी दैनिक जागरण की वेबसाइट पर 10 मई 2021 को प्रकाशित एक रिपोर्ट मिली, जिसमें यूपी में 17 मई सुबह 7 बजे तक कोरोना कर्फ्यू लगाने की बात कही गई है। इस रिपोर्ट में स्पष्ट लिखा गया है, ’29 अप्रैल को शनिवार-रविवार की साप्ताहिक बंदी से शुरुआत हुई, फिर इसे चार मई, छह मई और फिर दस मई यानी सोमवार तक बढ़ाया गया। अब योगी सरकार ने फिर से कोरोना कर्फ्यू 17 मई सुबह सात बजे तक बढ़ा दिया है।’ इस रिपोर्ट को यहां क्लिक कर देखा जा सकता है।

विश्वास न्यूज ने आजतक के नाम पर वायरल स्क्रीनशॉट को गौर से देखा। इसमें यह दिखाने की कोशिश की गई है कि यूपी में कथित लॉकडाउन की इस खबर को आजतक ने अपने ट्विटर हैंडल से शेयर की है। हमने आजतक के ट्विटर हैंडल पर शेयर की गई दूसरी खबरों से इस पोस्ट को मिलाया। हमें वायरल तस्वीर में दिख रही खबर का फॉन्ट आजतक के फॉन्ट से अलग नजर आया। इस फर्क को यहां नीचे की गई तुलना में देखा जा सकता है।

लायरल स्क्रीनशॉट (बाएं) और आजतक के असल ट्वीट (दाएं) में फर्क देखा जा सकता है।

हमने वायरल स्क्रीनशॉट में दिख रहे ट्वीट के टेक्स्ट (उत्तर प्रदेश में कोविड के बढ़ते मामलों को लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट स्वतः संज्ञान लेकर सुनवाई कर रही है) को ट्विटर पर सर्च किया। हमें आजतक के ट्विटर हैंडल पर यह ट्वीट मिल गया। आजतक के हैंडल से 7 मई 2021 किए गए ट्वीट में यह टेक्स्ट है, लेकिन उसके साथ हाई कोर्ट के स्वतः संज्ञान वाली खबर शेयर की गई है, न कि किसी लॉकडाउन की। इस ट्वीट को यहां नीचे देखा जा सकता है।

यानी आजतक के ट्वीट को एडिट कर लॉकडाउन वाली खबर अलग से लगाई है, जो आजतक के फॉन्ट से भी मैच नहीं खाती है। विश्वास न्यूज की अबतक की पड़ताल से साबित हो चुका था कि यूपी सरकार ने 22 मई तक किसी लॉकडाउन का ऐलान नहीं किया है। इसके अलावा आजतक के ट्वीट के स्क्रीनशॉट को भी एडिट किया गया है।

विश्वास न्यूज ने अपनी पड़ताल को आगे बढ़ाते हुए इस वायरल दावे को यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के मीडिया एडवाइजर मुत्युंजय कुमार संग शेयर किया। उन्होंने हमारे संग यूपी के अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी की तरफ से जारी एक आदेश की कॉपी शेयर करते हुए बताया, ‘यह पूरी तरह गलत दुष्प्रचार है। अभी तक उत्तर प्रदेश सरकार ने 17 मई तक आंशिक कोरोना कर्फ्यू का ही एलान किया है।’ इस आदेश की कॉपी को यहां नीचे देखा जा सकता है।

विश्वास न्यूज ने इस वायरल दावे को शेयर करने वाले FB यूजर Nitin Gupta की प्रोफाइल को स्कैन किया। यूजर लखनऊ के रहने वाले हैं और फैक्ट चेक किए जाने तक इस प्रोफाइल के 1176 फॉलोअर्स थे।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज की पड़ताल में यूपी में लॉकडाउन को लेकर किया जा रहा दावा झूठा पाया गया है। आजतक के ट्वीट को एडिट कर लॉकडाउन की फेक सूचना अलग से लगाई गई है। यूपी में कोरोना संक्रमण को देखते हुए 17 मई 2021 सुबह 7 बजे तक आंशिक कर्फ्यू लगाया गया है।

  • Claim Review : यूपी में 22 मई तक लॉकडाउन लगाने का दावा किया गया है
  • Claimed By : FB यूजर Nitin Gupta
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later