Fact Check: फोन कॉल पर सभी जानलेवा जहरों के इलाज का दावा करने वाली पोस्ट फर्जी है

नई दिल्ली (विश्वास टीम)। फेसबुक पर एक पोस्ट वायरल हो रही है। इस पोस्ट में दावा किया जा रहा है कि फोन कॉल पर किसी भी तरह के जहर (सांप से लेकर सल्फास का जहर) का तुरंत इलाज किया जा सकता है। विश्वास न्यूज की पड़ताल में यह दावा फर्जी निकला है।

क्या है वायरल पोस्ट में

एक फेसबुक पोस्ट में दावा किया जा रहा है कि फोन कॉल पर किसी भी तरह के जहर (सांप से लेकर सल्फास के जहर तक) का तुरंत इलाज किया जा सकता है। इस वायरल पोस्ट में फोन नंबर भी दिए गए हैं, जो 9893905661, 9754304435, 9425460326, 9753367868 और 9826430189 हैं। इस पोस्ट को शिवराज यादव नाम के फेसबुक यूजर ने शेयर किया है। विश्वास न्यूज की पड़ताल तक इस पोस्ट पर 223 प्रतिक्रियाएं, 25 कमेंट और करीब 7200 शेयर आ चुके थे।

पड़ताल

विश्वास न्यूज टीम ने पोस्ट में दिए गए फोन नंबरों पर कॉल कर अपनी पड़ताल शुरू की। सबसे पहले हमने पोस्ट के पहले नंबर 9893905661 पर कॉल किया। IVR के मुताबिक इस नंबर को रिचार्ज नहीं कराया गया है जिसकी वजह से इनकमिंग सुविधा उपलब्ध नहीं है।

इसके बाद हमने दूसरे नंबर 9754304435 पर कॉल लगाया। IVR के मुताबिक यह नंबर मौजूद ही नहीं मिला।

विश्वास न्यूज ने वायरल पोस्ट में दिए गए तीसरे नंबर 9425460326 पर संपर्क किया। इस नंबर पर कॉल रिसीव की गई। यह पूछे जाने पर कि वे फोन कॉल पर जहर का इलाज कैसे करते हैं, कॉल रिसीव करने वाले शख्स ने कहा कि वह मरीज को फोन पर मंत्र सुनाते हैं। जब हमने आगे पूछताछ करनी चाही तो उन्होंने कॉल को डिसकनेक्ट कर फोन को स्विच ऑफ कर दिया।

हमने चौथे नंबर 9753367868 पर कॉल करने की कोशिश की लेकिन वह स्विच ऑफ था। इसके अलावा अंतिम नंबर 9826430189 भी स्विच ऑफ बता रहा था।

पोस्ट पर मौजूद एक नंबर से बात करने से यह तो तय हो गया था कि वे फोन पर मंत्र पढ़ते हैं। उनके मुताबिक इससे किसी भी तरह के जहर का इलाज हो सकता है।

हमने इस बारे में ऑनलाइन खोजना शुरू किया कि क्या सभी तरह के जहर के असर को मंत्र पढ़कर ठीक किया जा सकता है। ऐसी कुछ रिपोर्ट मिलीं जिनका कहना था कि प्राचीन समय में कुछ लोग मंत्र पढ़ते थे और जहर का इलाज करते थे।

हमने आगे रिसर्च किया और bombayhighourt.nic.inआधिकारिक वेबसाइट पर हमें एक रिपोर्ट मिली। महाराष्ट्र प्रीवेंशन एंड इरेडिकेशन ऑफ ह्यूमन सैक्रिफाइस एंड इरेडिकेशन ऑफ ह्यूमन सैक्रिफाइस एंड अदर इनह्यूमन, एविल एंड अघोरी प्रैक्टिसेज एंड ब्लैक मैजिक एक्ट, 2013 के मुताबिक ऐसी गतिविधियों को अपराध की श्रेणी में रखा गया है: कुत्ते, सांप या बिच्छू के काटने के मामले में किसी व्यक्ति को चिकित्सीय उपचार लेने से रोकना और इसके बजाय उसे मंत्र-तंत्र, गंडा-डोरा या ऐसी अन्य चीजों का उपचार देना।

हमने नेशनल पॉइजन इंफॉर्मेटिक्स सेंटर ऑफ एम्स से भी संपर्क साधा। एम्स की डॉक्टर स्वाति शर्मा ने कहा, ‘जहर का एक समुचित इलाज है। डॉक्टर उनसे इलाज के लिए संपर्क करते हैं और वे सुझाव देते हैं। इलाज को प्रॉपर तरीके से किया जाना जरूरी है। कोई किसी जानलेवा जहर का इलाज रोगी को फोन कॉल पर कुछ कहकर नहीं कर सकता।’

हमने इस पोस्ट को शेयर करने वाले फेसबुक यूजर शिवराज यादव की प्रोफाइल को स्कैन किया। यह फेसबुक यूजर मध्य प्रदेश के गुना जिले से संबंध रखने वाला है।

निष्कर्ष

विश्वास न्यूज की पड़ताल में इस पोस्ट का यह दावा फर्जी पाया गया है कि किसी भी तरह के जहर का इलाज इसपर दिए गए नंबरों को कॉल कर पाया जा सकता है।

पूरा सच जानें…

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी खबर पर संदेह है जिसका असर आप, समाज और देश पर हो सकता है तो हमें बताएं। हमें यहां जानकारी भेज सकते हैं। हमें contact@vishvasnews।com पर ईमेल कर सकते हैं। इसके साथ ही वॅाट्सऐप (नंबर – 9205270923) के माध्‍यम से भी सूचना दे सकते हैं।

  • Claim Review : फोन कॉल पर सभी जानलेवा जहरों के इलाज का दावा
  • Claimed By : FB User: Shivraj Yadav
  • Fact Check : False
False
    Symbols that define nature of fake news
  • True
  • Misleading
  • False

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later