X

Fact Check: बांग्लादेश में भीड़ पर गोली चला रहे व्यक्ति का नाम सौमन रॉय नहीं, अनिचुर रहमान है, पुरानी घटना की तस्वीर भड़काऊ दावे से वायरल

बांग्लादेश के कुश्तिया में हिंदू पुलिस अधिकारी के मुस्लिम दंपती और उनके बच्चों की हत्या किए जाने के दावे के साथ वायरल हो रही तस्वीर 2018 में गोलीबारी की घटना से संबंधित है, जिसमें गोली चलाने वाले व्यक्ति का नाम अनिचुर रहमान था। इसी पुरानी घटना की तस्वीर को हिंदुओं के खिलाफ सांप्रदायिक हिंसा को भड़काने के मकसद से सोशल मीडिया पर साझा किया जा रहा है।

  • By Vishvas News
  • Updated: October 22, 2021

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। बांग्लादेश में हिंदुओं के खिलाफ हुई सांप्रदायिक हिंसा के मामले से जोड़कर वायरल हो रही तस्वीर को लेकर दावा किया जा रहा है कि एक हिंदू अधिकारी सौमन कुमार रॉय ने मुस्लिम दंपती के साथ उनके परिवार को मार डाला।

विश्वास न्यूज ने अपनी जांच में पाया कि वायरल हो रही तस्वीर हिंदू समुदाय के खिलाफ सांप्रदायिक हिंसा के भड़काने के मकसद से की जा रही है। तस्वीर में भीड़ पर गोली चला रहा व्यक्ति अनिचुर रहमान उर्फ अनिच है, जो बांग्लादेश पुलिस में एएसआई के पद पर कार्यरत था और घटना के बाद उसे पदमुक्त कर दिया गया था। गोलीबारी की यह घटना वर्ष 2018 में हुई थी, जिसे बांग्लादेश में हिंदुओं के खिलफ सांप्रदायिक हिंसा के हालिया मामले से जोड़कर भड़काऊ दावे के साथ वायरल किया जा रहा है।

क्या है वायरल पोस्ट में?

सोशल मीडिया यूजर ‘খাদিজা আকতার’ ने तस्वीर को शेयर करते हुए बांग्ला भाषा में लिखा है, ”ইন্না লিল্লাহ …. কুষ্টিয়াতে হিন্দু পুলিশ কমকর্তা সৌমেন কুমার রায় প্রকাশ্যে গুলি করে মুসলিম স্বামী-স্ত্রীসহ ৬ বছরের শিশুকে হত্যা করেছে..ছবিতে সৌমেন রায় শটগান হাতে নিয়ে হামলা করার ছবি..।” (”इन्ना लिल्लाह.. कुश्तिया में हिन्दू पुलिस अधिकारी सौमन कुमार रॉय ने मुस्लिम पति-पत्नी समेत 6 साल के बच्चे की सरेआम गोली मारकर हत्या कर दी….
हाथ में शॉटगन लेकर हमला करते सौमेन रॉय की तस्वीर..।”)

सोशल मीडिया पर कई अन्य यूजर्स ने इस तस्वीर को समान और मिलते-जुलते दावे के साथ शेयर किया है।

पड़ताल

वायरल हो रही तस्वीर को लेकर गूगल रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमें बांग्ला भाषा की न्यूज वेबसाइट prothomalo.com पर 8 फरवरी 2018 को प्रकाशित रिपोर्ट मिली, जिसमें वायरल हो रही तस्वीर का इस्तेमाल किया गया है।


prothomalo.com पर 8 फरवरी 2018 को प्रकाशित रिपोर्ट में इस्तेमाल की गई तस्वीर, जिसे गलत दावे के साथ हिंदुओं के खिलाफ सांप्रदायिक हिंसा भड़काने के मकसद से शेयर किया जा रहा है

कुश्तिया डेटलाइन से फाइल की गई रिपोर्ट के मुताबिक, ‘कुश्तिया कस्बे में राष्ट्रीय शोक दिवस पर जिला अवामी लीग की शोक रैली के बाद दो पक्षों के बीच हुई झड़प में एक युवक की मौत हो गई। इस घटना में कम से कम 10 लोग घायल हो गए। घटना शनिवार दोपहर करीब 12:15 बजे शहर के मजमपुर रेलगेट इलाके की है।’

उपरोक्त रिपोर्ट से मिली जानकारी के आधार पर कीवर्ड सर्च के दौरान हमें इसी वेबसाइट पर 17 फरवरी 2018 को प्रकाशित रिपोर्ट मिली, जिसमें इस घटना के आरोपी व्यक्ति के बारे में जानकारी दी गई है। रिपोर्ट में दी गई जानकारी के मुताबिक, ‘अनिचुर रहमान उर्फ अनीच वह व्यक्ति था, जिसे कुश्तिया में राष्ट्रीय शोक दिवस रैली के अंत में दोनों पक्षों के बीच हुई झड़प के दौरान वीडियो फुटेज में शॉटगन से फायरिंग करते देखा गया था। वह सहायक पुलिस उप-निरीक्षक (एएसआई) के पद पर तैनात था। करीब डेढ़ साल पहले जब वह ढाका के पल्लबी पुलिस थाने में था, तब उसे गबन के आरोप में बर्खास्त कर दिया गया था। इसके बाद से वह (मुशर्रफ हुसैन मंडल का पुत्र अनीश) कुश्तिया सदर उपजिला के ढाका झालूपारा गांव के में रहता था।’


prothomalo.com पर 17 फरवरी 2018 को प्रकाशित रिपोर्ट

इस रिपोर्ट में इस्तेमाल की गई तस्वीर वही है, जो वायरल हो रही है। हमारी अब तक की पड़ताल से यह स्पष्ट है कि वायरल हो रही तस्वीर में भीड़ पर गोली चलाते हुए नजर आ रहे व्यक्ति का नाम सौमन रॉय नहीं, बल्कि बांग्लादेश पुलिस से बर्खास्त हो चुका एएसआई अनिचुर रहमान है और यह घटना हाल की नहीं, बल्कि 2018 की है, जिसे बांग्लादेश में जारी हालिया सांप्रदायिक हिंसा से जोड़कर सोशल मीडिया पर वायरल किया जा रहा है।

बांग्ला भाषा में सौमन रॉय कीवर्ड से सर्च करने पर हमें बांग्ला भाषा के एक अन्य न्यूज पोर्टल deshrupantor.com पर 15 जून 2021 को प्रकाशित रिपोर्ट मिली, जिसमें सौमन रॉय के बारे में जानकारी दी गई है।


deshrupantor.com पर 15 जून 2021 को प्रकाशित रिपोर्ट, जिसमें सौमन रॉय के बारे में जानकारी दी गई है। उन्हें अपनी पत्नी और बच्चे की हत्या के मामले में गिरफ्तार किया गया था

रिपोर्ट के मुताबिक, ‘असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर सौमन कुमार रॉय ने कुश्तिया में अपनी पत्नी, बच्चा और एक युवक की हत्या किए जाने के मामले में अपना अपराध कबूल कर लिया। इसके बाद पुलिस ने उन्हें कोर्ट में पेश किया और फिर जज के सामने उनके कबूलनाम को रिकॉर्ड किया गया। इससे पहले रॉय की मां हसीना खातून ने कुश्तिया पुलिस थाने में हत्या का मामला दर्ज कराया था।’

वायरल हो रही पोस्ट को गलत और हिंदुओं के खिलाफ भड़काऊ दावे के साथ शेयर करने वाले यूजर ने अपनी प्रोफाइल को लॉक कर रखा है, जिसकी वजह से हम इस प्रोफाइल को स्कैन नहीं कर सके।

निष्कर्ष: बांग्लादेश के कुश्तिया में हिंदू पुलिस अधिकारी के मुस्लिम दंपती और उनके बच्चों की हत्या किए जाने के दावे के साथ वायरल हो रही तस्वीर वर्ष 2018 में गोलीबारी की घटना से संबंधित है, जिसमें गोली चलाने वाले व्यक्ति का नाम अनिचुर रहमान था, जिसे गबन के एक मामले में बांग्लादेश पुलिस के एएसआई पद से बर्खास्त किया जा चुका है। इसी पुरानी घटना की तस्वीर को हिंदुओं के खिलाफ सांप्रदायिक हिंसा को भड़काने के मकसद से सोशल मीडिया पर साझा किया जा रहा है।

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later