X

Fact Check: कांडला-गोरखपुर के बीच दुनिया की सबसे लंबी गैस पाइपलाइन को बिछाए जाने का दावा सही, वायरल पोस्ट में इस्तेमाल तस्वीर जर्मनी की है

गुजरात के कांडला से उत्तर प्रदेश के गोरखपुर के बीच 10,000 करोड़ रुपये की लागत से बनाई जाने वाली 2,757 किलोमीटर लंबी गैस पाइपलाइन का दावा सही है, लेकिन इसके साथ इस्तेमाल की गई तस्वीर जर्मनी में बिछाई जा रही पाइपलाइन का है।

  • By Vishvas News
  • Updated: January 24, 2022

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। सोशल मीडिया के अलग-अलग प्लेटफॉर्म्स पर एक गैस पाइपलाइन की तस्वीर को धड़ल्ले से शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है कि यह कांडला-गोरखपुर गैस पाइपलाइन की है। 2757 किलोमीटर लंबी इस पाइपलाइन का काम अभी निर्माणाधीन है और इसके निर्माण पर 10,000 करोड़ रुपये की लागत का अनुमान है।

हमने अपनी पड़ताल में पाया कि कांडला-गोरखपुर एलपीजी पाइपलाइन निर्माण के बाद दुनिया की सबसे लंबी गैस पाइपलाइन होगी, जो तीन राज्यों गुजरात, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश से होकर गुजरेगी। हालांकि, इस दावे के साथ साझा की जा रही तस्वीर इस पाइपलाइन की न हो होकर जर्मनी में बिछाई जा रही पाइपलान की तस्वीर है, जिसे भ्रामक दावे के साथ सोशल मीडिया पर कांडला-गोरखपुर गैस पाइपलान की तस्वीर बताकर शेयर किया जा रहा है।

क्या है वायरल पोस्ट में?

ट्विटर यूजर ‘Avinash Srivastava’ ने वायरल तस्वीर को शेयर करते हुए लिखा है, ”’Kandla Gorakhpur Gas Pipeline’This 2757 kms long under construction LPG pipeline is world’s longest gas pipeline. Total cost ~ ₹10,000 crores..Scheduled to be commissioned by mid 2023, this will ensure supply of 25% of total cooking gas demand in India.ModiHaiToMumkinHai”

https://twitter.com/go4avinash/status/1482205103071559683

सोशल मीडिया के अलग-अलग प्लेटफॉर्म पर भी कई अन्य यूजर्स ने इस तस्वीर को समान दावे के साथ शेयर किया है। फेसबुक पर कई यूजर्स ने इस तस्वीर को समान दावे के साथ शेयर किया है।

पड़ताल

वायरल पोस्ट में दावा किया गया है कि गुजरात के कांडला से उत्तर प्रदेश के गोरखपुर के बीच 10,000 करोड़ रुपये की लागत वाली 2757 किलोमीटर लंबी गैस पाइपलाइन का काम जारी है, जिसे 2023 में पूरा कर लिया जाएगा। इस दावे के साथ ही गैस पाइपलाइन की तस्वीर को भी साझा किया जा रहा है। पोस्ट में किए गए दावे की सच्चाई का पता लगाने के लिए हमने न्यूज सर्च की मदद ली।

न्यूज सर्च में हमें हिंदू बिजनस लाइन डॉट कॉम की वेबसाइट पर चार जून 2019 को इससे संबंधित प्रकाशित रिपोर्ट मिली। रिपोर्ट के मुताबिक, ‘इंडियन ऑयल, बीपीसीएल और एचपीसीएल कांडला (गुजरात) से गोरखपुर (उत्तर प्रदेश) के बीच दुनिया की सबसे लंबी एलपीजी पाइपलाइन बिछा रहे हैं। इंडियन ऑयल की तरफ से जारी बयान के मुताबिक 2,757 किलोमीटर लंबी यह पाइपलाइन गुजरात, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के बीच मौजूद होगी और इसे लेकर तीनों कंपनियों के बीच संयुक्त वेंचर पर हस्ताक्षर हो चुका है। इस पाइपलाइन की निर्माण लागत 10,000 करोड़ रुपये रहने का अनुमान है। इसी रिपोर्ट में हमें तीनों राज्यों से होकर गुजरने वाली पाइपलाइन का ग्राफिक्स भी मिला, जिसे वायरल पोस्ट में इस्तेमाल किया है।

हिंदू बिजनस लाइन में चार जून 2019 को प्रकाशित रिपोर्ट

हमारी अब तक की जांच से यह स्पष्ट है कि कांडला से गोरखपुर के बीच बनने वाली गैस पाइपलाइन की लंबाई 2,757 किलोमीटर होगी और इसकी लागत करीब 10,000 करोड़ रुपये रहने का अनुमान है। पोस्ट के साथ इस पाइपलाइन की तस्वीर को साझा किया गया है। रिवर्स इमेज सर्च में हमें यह तस्वीर न्यूयॉर्क टाइम्स की वेबसाइट पर आठ अप्रैल 2010 को प्रकाशित रिपोर्ट में लगी मिली।

न्यूयॉर्क टाइम्स की वेबसाइट पर आठ अप्रैल 2010 को प्रकाशित रिपोर्ट में इस्तेमाल की गई तस्वीर, जिसे कांडला-गोरखपुर पाइपलाइन का बताकर किया गया वायरल

रिपोर्ट के साथ दी गई जानकारी के मुताबिक, यह तस्वीर जर्मनी के लूबमिन में बिछाई जा रही गैस पाइपलाइन की तस्वीर है। गेट्टी इमेजेज की वेबसाइट पर हमें यह ओरिजनल तस्वीर भी मिली। दी गई जानकारी वही है, जो न्यूयॉर्क टाइम्स की वेबसाइट पर प्रकाशित रिपोर्ट में दी गई है। यह गैस पाइपलान रूस से जर्मनी और अन्य यूरोपीय देशों में बिछाई जा रही है।

Source-Getty Images

यह स्पष्ट है कि गुजरात के कांडला से उत्तर प्रदेश के गोरखपुर के बीच लगाई जाने वाली गैस पाइपलाइन के नाम पर वायरल हो रही तस्वीर जर्मनी की है। हमारे सहयोगी दैनिक जागरण के गोरखपुर के स्थानीय संपादक मदन मोहन ने भी इस इसकी पुष्टि करते हुए बताया, ‘वायरल हो रही तस्वीर गोरखपुर से संबंधित नहीं है।’

वायरल तस्वीर को भ्रामक दावे के साथ शेयर करने वाले यूजर की प्रोफाइल को ट्विटर पर करीब 16 हजार लोग फॉलो करते हैं।

निष्कर्ष: गुजरात के कांडला से उत्तर प्रदेश के गोरखपुर के बीच 10,000 करोड़ रुपये की लागत से बनाई जाने वाली 2,757 किलोमीटर लंबी गैस पाइपलाइन का दावा सही है, लेकिन इसके साथ इस्तेमाल की गई तस्वीर जर्मनी में बिछाई जा रही पाइपलाइन का है।

  • Claim Review : कांडला गोरखपुर गैस पाइपलाइन की तस्वीर
  • Claimed By : Twitter User-Avinash Srivastava
  • Fact Check : झूठ
झूठ
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later