X

Fact Check: बदायूं कांड की पीड़िता के नाम पर वायरल की जा रही तस्वीर 2018 में उन्नाव में हुई हत्या की घटना की है

  • By Vishvas News
  • Updated: January 8, 2021

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। उत्तर प्रदेश के बदायूं में सामूहिक दुष्कर्म का मामला सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर वायरल हो रही एक तस्वीर को लेकर दावा किया जा रहा है कि यह पीड़िता महिला की है। विश्वास न्यूज की जांच में यह दावा गलत निकला।

वायरल हो रही तस्वीर 2018 में उत्तर प्रदेश के उन्नाव में हुई घटना की है, जहां के सेवक खेड़ा गांव में सतीश यादव नामक आरोपी ने लड़की की हत्या कर दी थी। इसी घटना के पीड़िता की तस्वीर को बदायूं सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता का बताकर वायरल किया जा रहा है।

क्या है वायरल पोस्ट में?

ट्विटर यूजर ‘Rajesh Twinwal Raj’ ने वायरल तस्वीर (आर्काइव लिंक) को शेयर करते हुए लिखा है, ”बदायूं गैंगरेप-मर्डर केस, मंदिर गई 50 वर्षीय महिला को गैंगरेप के बाद मर्डर कर दिया गया. गैंगरेप के दौरान जो भयावहता की गई शायद राक्षस भी कांप जाता. लेकिन महंत और उसके चेले दानव निकले.बदायूं पुलिस 2 दिन तक मामला छिपाए रही. ये हैवानियत की पराकाष्ठा है। #UpMeJangalraj”

बदायूं गैंगरेप के नाम से वायरल हो रही फर्जी तस्वीर

सोशल मीडिया के अलग-अलग प्लेटफॉर्म्स पर कई अन्य यूजर्स ने इस तस्वीर को समान और मिलते-जुलते दावे के साथ शेयर किया है।

पड़ताल

गूगल रिवर्स इमेज सर्च किए जाने पर हमें यह तस्वीर boltahindustan.in की वेबसाइट पर 25 दिसंबर 2018 को लगी रिपोर्ट में मिली। रिपोर्ट के मुताबिक, यह तस्वीर उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में हुई घटना से संबंधित है, जहां एक लड़के ने 20 वर्षीय लड़की की हत्या कर दी थी। लड़की की लाश एक खेत में मिली थी।

boltahindustan.in की वेबसाइट पर प्रकाशित 2018 की रिपोर्ट में इस्तेमाल की गई तस्वीर

दैनिक जागरण की वेबसाइट पर 24 दिसंबर 2018 को प्रकाशित रिपोर्ट से इसकी पुष्टि होती है। पड़ताल के इस चरण में यह बात साबित होती है कि वायरल हो रही तस्वीर पुरानी घटना से संबंधित है, जबकि न्यूज रिपोर्ट के मुताबिक बदायूं गैंगरेप का मामला तीन जनवरी को सामने आया था।

सोशल मीडिया सर्च में हमें 25 दिसंबर 2018 को किया गया एक ट्वीट मिला, जिसमें दो तस्वीरें हैं और इसमें से एक तस्वीर वही है, जो गलत दावे के साथ वायरल हो रही है। ट्वीट के साथ दी गई जानकारी के मुताबिक, यह तस्वीरें उन्नाव जिले के सेवक खेड़ा मोरावां गांव की घटना है।

इस ट्वीट पर उन्नाव पुलिस के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से 25 दिसंबर 2018 को जवाब देते हुए बताया गया है, ‘उक्त घटना की सूचना मिलते ही थाना मौरावां पुलिस मौके पर पहुँच शव को कब्जे में लेकर शव का पंचायतनामा भरकर पीएम हेतु भेजा गया है। अभियोग पंजी० कर कार्यवाही की जा रही है।’

विश्वास न्यूज ने इसके बाद मौरवां थाना प्रभारी से संपर्क किया। प्रभारी अधिकारी राजेंद्र सिंह ने वायरल हो रही तस्वीर के 2018 की घटना से संबंधित होने की पुष्टि करते हुए बताया, ‘यह पुराना मामला है, जिसमें पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया था और इस मामले में हमारी तरफ से चार्जशीट भी दायर की जा चुकी है।’

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में हुए सामूहिक दुष्कर्म की घटना के मामले में पुलिस ने मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। दैनिक जागरण की रिपोर्ट के मुताबिक, ‘उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में महिला के साथ सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या की वारदात में मुख्य आरोपित सत्य नारायण को पुलिस ने गुरुवार रात गिरफ्तार कर लिया है। सोमवार को वह धर्मस्थल से फरार हो गया था। उसकी तलाश में पुलिस टीमें उत्तराखंड, बरेली, चंदौसी, कासगंज में दबिश देती रही थीं, जबकि वह उसी गांव में छिपा रहा। गुरुवार रात पुलिस को पता चला कि वह किसी चेले के घर में छिपा है। रात करीब 11 बजे दबिश देकर उसे गिरफ्तार कर लिया गया। उसे शरण देने वाले युवक को भी पुलिस थाने लेकर आई है।’

दैनिक जागरण की वेबसाइट पर प्रकाशित रिपोर्ट

इस मामले में तत्कालीनी एसओ समेत दो अधिकारियों के खिलाफ मुकदमा भी किया गया है।

निष्कर्ष: उत्तर प्रदेश के बदायूं कांड की पीड़िता महिला के नाम पर वायरल की जा रही तस्वीर राज्य के उन्नाव जिले में 2018 में हुई हत्या की घटना से संबंधित तस्वीर है।

  • Claim Review : बदायूं गैंगरेप पीड़िता की तस्वीर
  • Claimed By : Twitter User-Rajesh Twinwal Raju ‏
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later