X

Fact Check: पंजाब में अकाली गठबंधन को 75 सीटें मिलने के दावे के साथ वायरल हो रहा ओपिनियन पोल ग्राफिक्स फेक और एडिटेड है

पंजाब में शिरोमणि अकाली दल गठबंधन को 75 सीटें मिलने के दावे के साथ वायरल हो रहा ओपिनियन पोल ग्राफिक्स फेक और एडिटेड है।

  • By Vishvas News
  • Updated: February 22, 2022

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक ग्राफिक्स में पंजाब विधानसभा चुनाव से संबंधित एक ओपिनियन पोल का हवाला देते हुए दावा किया जा रहा है कि राज्य में शिरोमणि अकाली दल गठबंधन को सर्वाधिक 75 सीटें मिल रही हैं। वहीं दूसरे नंबर पर कांग्रेस और तीसरे नंबर पर आम आदमी पार्टी के आने का अनुमान लगाया गया है।

विश्वास न्यूज की जांच में यह दावा फर्जी निकला। पंजाब विधानसभा चुनाव से संबंधित ओपिनियन पोल का दावा करता यह ग्राफिक्स एडिटेड और फेक है।

क्या है वायरल?

फेसबुक यूजर ‘Mahendra Gautam BSP’ ने वायरल ग्राफिक्स (आर्काइव लिंक) को शेयर करते हुए लिखा है, ”अब तो उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री और पंजाब में उपमुख्यमंत्री बसपा का बनना तय है करो जश्न की तैयारी बन रही है सरकार हमारी।
बहुजन समाज पार्टी ज़िंदाबाद।
बहन कुमारी मायावती जी ज़िंदाबाद।”

सोशल मीडिया पर पंजाब विधानसभा चुनाव को लेकर वायरल हो रहा फर्जी ओपिनियन पोल

अन्य यूजर्स ने भी इस ग्राफिक्स को समान और मिलते-जुलते दावे के साथ शेयर किया है।

पड़ताल

वायरल ग्राफिक्स में पंजाब विधानसभा चुनाव को लेकर जी न्यूज- डिजाइन बॉक्स्ड के ओपिनियन पोल के आंकड़ों को देखा जा सकता है, जिसके मुताबिक पंजाब में शिरोमणि अकाली दल गठबंधन को 70-75 सीटें, आम आदमी पार्टी को 21-25 सीटें, आम आदमी पार्टी को 15-17 सीटें और भारतीय जनता पार्टी को 04-07 मिलने का अनुमान जताया गया है।

संबंधित की-वर्ड से सर्च करने पर हमें जी न्यूज और डिजाइन बॉक्स्ड के ओपिनियन पोल से संबंधित कई न्यूज आर्टिकल मिले, जिसमें सीटों को लेकर जताया गया अनुमान वायरल ग्राफिक्स में नजर आ रही सीटों की संख्या से बिलकुल उलट है।

20 जनवरी को dnaindia.com की वेबसाइट पर प्रकाशित रिपोर्ट पंजाब विधानसभा चुनाव के ओपिनियन पोल से संबंधित है। जी न्यूज और डिजाइन बॉक्स्ड के इस ओपिनियन पोल के मुताबिक पंजाब में इस बार शिरोमणि अकाली दल गठबंधन को 32-35 सीटें,

आम आदमी पार्टी को 36-39 सीटें.

कांग्रेस को 35-38 सीटें और बीजेपी को 04-07 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है।

20 जनवरी 2022 को प्रसारित जी न्यूज – डिजाइन बॉक्स्ड ओपिनियन पोल

सर्च में हमें इंडिया डॉट कॉम की वेबसाइट पांच फरवरी को प्रकाशित रिपोर्ट मिली, जो पंजाब विधानसभा चुनाव से संबंधित फाइनल ओपिनियन पोल के आंकड़ों पर आधारित है। जी-न्यूज और डिजाइन बॉक्स्ड के इस फाइनल ओपिनियन पोल के मुताबिक पंजाब विधानसभा की 117 सीटों विधानसभा सीटों में जहां शिरोमणि अकाली दल गठबंधन को 25-28 सीटें,

आम आदमी पार्टी को 39-42 सीटें,

कांग्रेस को 38-41 सीटें और बीजेपी को 3-6 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है।

5 फरवरी जनवरी 2022 को प्रसारित जी न्यूज – डिजाइन बॉक्स्ड ओपिनियन पोल

हमारी अब तक की पड़ताल से यह स्पष्ट है कि जी न्यूज और डिजाइन बॉक्स्ड के पंजाब विधानसभा चुनाव से संबंधित ओपिनियन पोल को लेकर वायरल हो रहा ग्राफिक्स फेक है, जिसे एडिट कर तैयार किया गया है। 20 जनवरी और 5 फरवरी समेत दोनों ही ओपिनियन पोल में शिरोमणि अकाली दल गठबंधन को 70-75 सीटें मिलने का अनुमान नहीं जताया गया है। जी न्यूज और डिजाइन बॉक्स्ड के 20 जनवरी के ओपिनियन पोल में जहां शिरोमणि अकाली दल गठबंधन को 32-35 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है, वहीं पांच फरवरी के फाइनल पोल में इन सीटों की संख्या मामूली रूप से बढ़कर 38-41 हो गई है। वहीं वायरल ग्राफिक्स में शिरोमणि अकाली गठबंधन को 70-75 सीटें मिलने का दावा किया गया है।

नीचे दर्शाए गए कोलाज में 20 जनवरी और 5 फरवरी के ओपिनियन पोल के मुकाबले वायरल ग्राफिक्स में किए गए दावे को देखा जा सकता है।

वायरल ग्राफिक्स को यूजर्स ने 21 फरवरी को साझा किया है। गौरतलब है कि पंजाब की 117 विधानसभा सीटों के लिए 20 फरवरी को मतदान संपन्न हुआ। निर्वाचन आयोग के दिशानिर्देशों के मुताबिक, ‘चुनावों के दौरान, टीवी चैनलों द्वारा अपने पैनल चर्चा/बहस और अन्य समाचार और समसामयिक कार्यक्रमों के प्रसारण में कभी-कभी लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 की उपरोक्त धारा 126 के प्रावधानों के उल्लंघन के आरोप लगते हैं। आयोग ने पहले ही स्पष्ट किया है कि उक्त धारा 126 किसी निर्वाचन क्षेत्र में मतदान के समापन के लिए निर्धारित घंटे के साथ समाप्त होने वाले 48 घंटों की अवधि के दौरान, अन्य बातों के साथ, टेलीविजन या इसी तरह के उपकरण के माध्यम से किसी भी चुनावी मामले को प्रदर्शित करने पर रोक लगाती है। उस धारा में “चुनावी मामले” को किसी चुनाव के परिणाम को प्रभावित करने या प्रभावित करने के लिए इरादा या गणना की गई किसी भी मामले के रूप में परिभाषित किया गया है। धारा 126 के उपरोक्त प्रावधानों का उल्लंघन करने पर दो साल तक की कैद या जुर्माना या दोनों हो सकता है।’

इसमें कहा गया है, ‘आयोग एक बार फिर दोहराता है कि टीवी/रेडियो चैनल और केबल नेटवर्क/इंटरनेट वेबसाइट/सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि धारा 126 में उल्लिखित 48 घंटों की अवधि के दौरान उनके द्वारा प्रसारित/प्रसारित/प्रदर्शित कार्यक्रमों की सामग्री पैनलिस्टों/प्रतिभागियों के विचार/अपील सहित कोई भी सामग्री शामिल नहीं है, जिसे किसी विशेष पार्टी या उम्मीदवार की संभावना को बढ़ावा देने/पूर्वाग्रह करने या चुनाव के परिणाम को प्रभावित करने/प्रभावित करने के रूप में माना जा सकता है। इसमें अन्य बातों के अलावा, किसी भी जनमत सर्वेक्षण (ओपिनियन पोल) और बहस, विश्लेषण, दृश्य और ध्वनि-बाइट्स का प्रदर्शन शामिल होगा।’

स्पष्ट है कि जिस समय के दौरान पंजाब विधानसभा चुनाव से संबंधित ओपिनियन पोल को सोशल मीडिया पर साझा किया गया, उस दौरान किसी भी ओपिनियन पोल का प्रसारण नहीं किया जा सकता है।

वायरल ग्राफिक्स को लेकर हमने डिजाइन बॉक्स्ड के डायरेक्टर नरेश अरोड़ा से वाट्सएप पर संपर्क किया। उन्होंने वायरल ग्राफिक्स को फेक बताते हुए विश्वास न्यूज के साथ पंजाब विधानसभा चुनाव को लेकर एजेंसी के फाइनल ओपिनियन पोल (5 फरवरी 2022) को भी साझा किया, जिसके मुताबिक इस बार शिरोमणि अकाली दल गठबंधन को 38-41 सीटें मिलने का अनुमान है।

अन्य एजेंसियों के पोल में भी शिरोमणि अकाली दल गठबंधन को उतनी सीटें मिलने का अनुमान नहीं है, जितना कि वायरल ग्राफिक्स में दावा किया जा रहा है। वायरल ग्राफिक्स को शेयर करने वाले यूजर को फेसबुक पर करीब 10 हजार से अधिक लोग फॉलो करते हैं।

निष्कर्ष: पंजाब में शिरोमणि अकाली दल गठबंधन को 75 सीटें मिलने के दावे के साथ वायरल हो रहा ओपिनियन पोल ग्राफिक्स फेक और एडिटेड है। जी-न्यूज और डिजाइन बॉक्स्ड के दोनों ओपिनियन पोल (20 जनवरी और 5 फरवरी 2022) में शिरोमणि अकाली दल को क्रमश: 32-35 और 25-28 सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है।

  • Claim Review : पंजाब में शिरोमणि अकाली दल गठबंधन को बहुमत का दावा करता ओपिनियन पोल
  • Claimed By : FB User-Mahendra Gautam BSP
  • Fact Check : झूठ
झूठ
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later