X

Fact Check: फार्म बिल का समर्थन कर रहे अरविंद केजरीवाल का वायरल वीडियो एडिटेड है

  • By Vishvas News
  • Updated: February 3, 2021

नई दिल्‍ली (Vishvas News)। सोशल मीडिया पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का 18 सेकंड का एक वीडियो वायरल हो रहा है। पोस्ट के साथ कैप्शन में लिखा गया है- पता सबकुछ है मगर फिर भी सही का साथ नहीं देना, तीनो farm bills के लाभ गिनाते हुए …Sir जी,

इस क्लिप में केजरीवाल को कहते सुना जा सकता है: आपकी जमीन नहीं जाएगी, आपका एमएसपी नहीं जाएगा, आपकी मंडी नहीं जाएगी, अब किसान अपनी फसल पूरे देश में कहीं भी बेच सकता है, अब किसान को अच्छे दाम मिलेंगे, वो मंडी के बाहर कहीं भी बेच सकता है। दिलीप जी ये 70 साल के अंदर सबसे बड़ा क्रांतिकारी कदम होगा कृषि के क्षेत्र में।

विश्वास न्यूज ने पड़ताल में पाया कि वायरल वीडियो को एडिट करके तैयार किया गया है। वायरल पोस्ट फेक है।

क्या है वायरल पोस्ट में?

फेसबुक पेज Delhi Rejects AAP पर यह वीडियो शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा गया है,  ‘पता सबकुछ है मगर फिर भी सही का साथ नहीं देना, तीनो farm bills के लाभ गिनाते हुए …Sir जी।’

वायरल पोस्ट का आर्काइव्ड वर्जन यहां देखा जा सकता है।

पड़ताल

विश्वास न्यूज ने पड़ताल शुरू करते हुए सबसे पहले इनविड टूल की मदद से वीडियो के स्क्रीनग्रैब्स लिए और इन्हें गूगल रिवर्स इमेज सर्च की मदद से ढूंढा। Zee Punjab Haryana Himachal के यूट्यूब चैनल पर इस वीडियो का लंबा वर्जन मिल गया। यह वीडियो 15 जनवरी 2021 को अपलोड किया गया था। इस वीडियो में चैनल के एडिटर दिलीप तिवारी और उनके सहकर्मी जगदीप संधू दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का इंटरव्यू कर रहे हैं।

इस वीडियो में से कई छोटे-छोटे हिस्सों को काट कर 18 सेकंड का वायरल वीडियो तैयार किया गया है और ऐसा दर्शाने की कोशिश की गई है कि केजरीवाल भी फार्म बिल का समर्थन कर रहे हैं।

इस इंटरव्यू में केजरीवाल केंद्र के मंत्रियों और केंद्र सरकार की ओर से इस बिल का समर्थन करने के लिए दिए गए उदाहरणों को बता रहे हैं। इसी इंटरव्यू में केजरीवाल इस बिल का विरोध करते भी दिखते हैं, लेकिन यह भाग वायरल वीडियो में से हटा दिया गया है। ओरिजनल वीडियो में 6 मिनट से उन्हें कहते सुना जा सकता हैः ‘केंद्र सरकार ने और भारतीय जनता पार्टी ने अपने सारे बड़े बड़े नेता मैदान में उतारे हैं। इनके सारे बड़े मंत्री मुख्यमंत्री मैदान में उतरे, लोगों को समझाने के लिए कि ये बिल किसान के फायदे में है। मैंने इन सबके भाषण सुने हैं। उन भाषणों में क्या कहते हैं ये, भाषण में कहते हैं जी इस बिल से आपकी जमीन नहीं जाएगी, तो ये तो फायदा नहीं हुआ ये तो था ही, आपकी एमएसपी नहीं जाएगा, तो ये तो फायदा नहीं हुआ यो तो था ही, इनका नेता एक भी फायदा नहीं गिना पा रहा।’

वायरल वीडियो तैयार करने के लिए इस वीडियो में से चुनिंदा हिस्सों को लिया गया है, बाकी के हिस्से को काट दिया गया है।

वायरल क्लिप के अंत में जहां केजरीवाल इसे कृषि क्षेत्र के लिए क्रांतिकारी कदम बताते दिख रहे हैं, वहां असल में वो स्वामिनाथन आयोग के हिसाब से एमएसपी तय करने के कानून लाने की बात पर कह रहे हैं कि अगर यह हो गया तो यह 70 साल में सबसे क्रांतिकारी कदम होगा। ओरिजनल वीडियो में 9 मिनट 56 सेकंड से इसे सुना जा सकता है।

यहां वे कहते हैं कि मुझे इस किसान आंदोलन से बहुत बड़ी उम्मीद है, एक तो ये तीनों किसान बिल वापस हों और दूसरा जो वो एमएसपी की मांग कर रहे हैं कि एमएसपी की गारंटी का कानून लाया जाए। एमएसपी स्वामीनाथन आयोग के हिसाब से 50 प्रतिशत प्रॉफिट के हिसाब से जितनी कॉस्ट है उसका 50 प्रतिशत जोड़ के एमएसपी तय की जाए, अगर यह आ गया तो यह 70 साल के अंदर सबसे बड़ा क्रांतिकारी कदम होगा।

केजरीवाल का एडिट किया हुआ वीडियो बीजेपी के स्पोक्सपर्सन संबित पात्रा सहित कई लोगों ने सोशल मीडिया पर शेयर किया है। हालांकि, पात्रा के ट्वीट पर ट्विटर ने ही मैनिपुलेटिड मीडिया का लेबल लगा दिया है।

विश्वास न्यूज ने दैनिक जागरण के पॉलिटिकल एडिटर वीके शुक्ला से संपर्क किया। उन्होंने बताया कि उन्होंने आम आदमी पार्टी के स्पोक्सपर्सन सौरभ भारद्वाज से इस बारे में चर्चा की थी और उन्होंने इस वीडियो को एडिटेड और फर्जी बताया था।

अब बारी थी फेसबुक पर इस पोस्ट को साझा करने वाले पेज Delhi Rejects AAP के बारे में जानने की। हमने पेज की प्रोफाइल को स्कैन किया तो पाया कि खबर लिखे जाने तक इस पेज के 79 फॉलोअर्स थे।

निष्कर्ष: कृषि बिल का समर्थन करते दिख रहे केजरीवाल का वायरल वीडियो एडिट कर तैयार किया गया है।

  • Claim Review : अरविंद केजरीवाल ने बताए कृषि बिल के फायदे
  • Claimed By : Fb page: Delhi Rejects AAP
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later