X

Fact Check: स्विस बैंकों में जमा भारतीयों के ब्लैक मनी पर फैलाई जा रही भ्रामक जानकारी, 2017 की पुरानी रिपोर्ट वायरल

  • By Vishvas News
  • Updated: November 7, 2019

नई दिल्ली (विश्वास टीम)। सोशल मीडिया पर स्विस बैंक में भारतीयों के जमा धन को लेकर एक पोस्ट वायरल हो रहा है। दावा किया जा रहा कि एक साल के दौरान काला धन में 50 फीसदी का इजाफा हुआ है। विश्वास न्यूज की पड़ताल में यह दावा गलत निकला। ब्लैक मनी को लेकर सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा यह पोस्ट गुमराह करने वाला है।

क्या है वायरल पोस्ट में?

वायरल पोस्ट में न्यूजपेपर की क्लिप लगी हुई है, जिसकी हेडलाइन है, ‘स्विस बैंक में बढ़ा भारतीयों का पैसा, पिछले एक साल में 50 फीसदी की बढ़ोतरी।’

फेसबुक यूजर्स दिनेश लाठ (Dinesh Lath) ने इस पोस्ट को शेयर करते हुए लिखा है, ”मोदी बीजेपी संघी देश को बताए की स्विस बैंक में १ साल में काला धन ५० प्रतिसत बढ़ा, इसकी जांच सीबीआई सीवीसी ,ईडी,आईटी विजिलेंस अब तक क्यों नहीं किया,देश लूट कर संघी बैंक को दिवालिया बना रहे,देश के विजिलेंस कुंभ कर्ण की नीद सोता है, इसको केवल चुनाव के समय कांग्रेस के लोगो को ही अरेस्ट करने की नसीहत मोदी बीजेपी ने दी है विजिलेंस देश की नहीं ,देश के गद्दारों की है।”

पड़ताल

न्यूज सर्च में हमें ऐसे कई आर्टिकल मिले, जिसमें स्विस बैंकों में जमा भारतीयों के धन में कमी आने का जिक्र था।

इकोनॉमिक टाइम्स में 27 जून 2019 को छपी खबर के मुताबिक, 2018 में स्विस बैंकों (भारत में मौजूद ब्रांचों के जरिए भी) में जमा भारतीय व्यक्तियों और कंपनियों के धन में करीब 6 फीसदी की कमी आई है। स्विस नेशनल बैंक की तरफ से जारी आंकड़ों के मुताबिक, 2018 में इन बैंकों में जमा रकम की राशि कम होकर करीब 6,757 करोड़ रुपये हो गई, जो दो दशक में सबसे न्यूनतम है।

दैनिक जागरण में 30 जून को प्रकाशित खबर के मुताबिक, स्विस बैंकों में जमा भारतीयों के कालेधन में कमी आई है।  रिपोर्ट के मुताबिक, ‘स्विस बैंक में धन जमा करने वालों की सूची में भारत 74वें स्थान पर है। पिछले साल भारत 15 पायदान की छलांग के साथ 73वें स्थान पर था।’

यानी हालिया रिपोर्ट के मुताबिक स्विस बैंकों में भारतीयों के जमा धन में कमी आई है। न्यूज सर्च में हमें वह रिपोर्ट भी मिली, जिसमें स्विस बैंकों में भारतीयों के पैसे में हुए इजाफे का जिक्र था।

‘’द हिंदू’’ में 28 जून 2018 को न्यूज एजेंसी पीटीआई के हवाले से छपी रिपोर्ट के मुताबिक, ‘2017 में स्विस बैंकों में भारतीयों के जमा धन में 50 फीसदी का इजाफा हुआ और यह बढ़कर 7000 करोड़ रुपये हो गया।’ ब्लैक मनी के खिलाफ भारत सरकार की तरफ से जारी कार्रवाई के बाद स्विस बैंकों में जमा धन में लगातार तीन साल तक कमी आई थी।’

हिंदी अखबार हिंदुस्तान के वेब संस्करण में भी एजेंसी के हवाले से 28 जून 2018 को प्रकाशित खबर में इस रिपोर्ट का जिक्र हुआ है।

वायरल पोस्ट में अखबार की जिस क्लिप का जिक्र किया गया है, उसमें छपी खबर न्यूज एजेंसी भाषा के हवाले से है। विश्वास न्यूज ने न्यूज एजेंसी पीटीआई (भाषा) में बिजनेस डेस्क के संपादक मनोहर कुमार से बात की। उन्होंने बताया, ‘जिस रिपोर्ट को वायरल किया जा रहा है, वह 2017 की रिपोर्ट हैं और उस रिपोर्ट को लेकर भी सरकार ने सफाई दी थी। वायरल हो रही रिपोर्ट पिछले साल की है।’

निष्कर्ष: स्विस बैंकों में जमा भारतीयों के धन को लेकर वायरल हो रही रिपोर्ट गुमराह करने वाली है। ब्लैक मनी में हुए इजाफे की वायरल हो रही रिपोर्ट एक साल पुरानी है। हालिया रिपोर्ट के मुताबिक, स्विस बैंकों में जमा भारतीय धन में कमी आई है।

  • Claim Review : स्विस बैंक में एक साल में काला धन 50 प्रतिशत बढ़ा
  • Claimed By : FB User-Dinesh Lath
  • Fact Check : भ्रामक
भ्रामक
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

कोरोना वायरस से कैसे बचें ? PDF डाउनलोड करें और जानिए कोरोना वायरस से जुड़ी महत्वपूर्ण सूचना

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later