X

Fact Check: एमके स्टालिन ने थाइपोसम हॉलिडे के बारे में यह बयान नहीं दिया, वायरल पोस्ट फर्जी है

  • By Vishvas News
  • Updated: January 12, 2021

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज़)। तमिल भाषा के समाचार चैनल पुथियाथलेमई की वायरल ग्राफिक प्लेट के साथ DMK अध्यक्ष एमके स्टालिन के हवाले से एक बयान वायरल हो रहा है, जिसके अनुसार  एमके स्टालिन ने कहा कि अगर उनकी पार्टी जीतती है तो वे थाइपोसम त्योहार के दिन घोषित सरकारी अवकाश को रद्द कर देंगे।

Vishvas News की जांच में यह दावा फर्जी निकला। पुथियाथेलमई वेब टीम ने भी दावों का खंडन किया।

क्या हो रहा है वायरल

एक वायरल ग्राफिक प्लेट के साथ DMK अध्यक्ष एमके स्टालिन के हवाले से एक बयान वायरल हो रहा है, जिसके अनुसार  एमके स्टालिन ने कहा कि अगर उनकी पार्टी जीतती है तो वे थाइपोसम त्योहार के दिन घोषित सरकारी अवकाश को रद्द कर देंगे।

फेसबुक पोस्ट का आर्काइव्ड वर्जन यहां देखें।

पड़ताल

कीवर्ड्स के साथ ढूंढ़ने पर हमें बिजनेस स्टैंडर्ड की एक खबर मिली। खबर के अनुसार, थाइपोसम को सार्वजनिक अवकाशों की सूची में शामिल किया गया है। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी ने मंगलवार को भगवान मुरुगन के सम्मान में मनाए जाने वाले थाइपोसम त्योहार के उपलक्ष में 28 जनवरी को सरकारी अवकाश घोषित किया था। उन्होंने कहा था कि सरकार ने 28 जनवरी को सार्वजनिक अवकाश घोषित करने का फैसला किया है।

ढूंढ़ने पर भी हमें विपक्षी पार्टी DMK द्वारा इस सरकारी घोषणा पर कोई टिप्पणी नहीं मिली। हमने पुष्टि के लिए पुथियाथलेमई की वेब टीम से संपर्क किया। हमें वेब टीम के प्रमुख मनोज प्रभाकर द्वारा बताया गया “यह वायरल खबर फर्जी है। हमारे ग्राफिक कार्ड की यह शैली नहीं है।”

वायरल पोस्ट को साझा करने वाले फेसबुक उपयोगकर्ता की सोशल स्कैनिंग से पता चला है कि फेसबुक पर उनके 3,532 दोस्त हैं और वह तमिलनाडु के अरियालुर से है।

Read the Story in English and Tamil

निष्कर्ष: वायरल पोस्ट फर्जी है। डीएमके अध्यक्ष स्टालिन ने थाइपोसम की छुट्टी रद्द करने के बारे में ऐसी कोई टिप्पणी नहीं की है।

  • Claim Review : Is the news true? This is why he should be kicked
  • Claimed By : Aris Sanakya MA BL
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later