नई दिल्ली (विश्वास टीम)। सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें हरियाणा के पानीपत में EVM की कथित रूप से अदला-बदली का दावा किया जा रहा है। दावा किया जा रहा है कि ईवीएम की अदला-बदली के जरिए हरियाणा में लोकतंत्र की हत्या की गई।

विश्वास न्यूज की पड़ताल में ईवीएम की अदला-बदली का दावा गलत साबित होता है।

क्या है वायरल पोस्ट में?

फेसबुक पर खबरी लाल (Khabari LAL) के नाम से चलने वाले पेज पर इस वीडियो को 14 मई को सुबह करीब 8 बजे शेयर किया गया है। वीडियो शेयर करते हुए दावा किया गया है, ‘EVM का कड़वा सच.?

पानीपत में EVM की अदला-बदली को पकड़ा, लोकतंत्र की हत्या

वीडियो वायरल , जब यही करना है तो चुनाव कराते क्यों हो भाई।’

पड़ताल किए जाने तक इस वीडियो करीब 3,000 से अधिक लोग देख चुके हैं, जबकि 147 बार इसे शेयर किया जा चुका है।

पड़ताल

पड़ताल में हमें यह वीडियो अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर मिलते-जुलते दावे के साथ नजर आया। यू-ट्यूब पर भी हमें यह वीडियो मिला।

वीडियो में साफ तौर पर दिखाई दे रहा है कि एक वाहन एसडीएम विद्या मंदिर स्कूल के बाहर खड़ी हुई है, जिसके पिछले हिस्से में ईवीएम रखा हुआ है। वीडियो में ही बगल में मार्कंडेय द्वार नजर आ रहा है, जिस पर साफ-साफ अक्षर में पानीपत लिखा हुआ है।

वायरल पोस्ट में वीडियो की जगह को लेकर किया जा रहा दावा सच है। गाड़ी के पिछले हिस्से में तीन बक्से नजर आ रहे हैं, जिसे लेकर कई ईवीएम होने का भ्रम फैला।

वास्तव में यह एक यूनिट था, जिसमें एक ईवीएम, एक वीवीपैट और एक कंट्रोल यूनिट था। इन तीनों को मिलाकर ईवीएम की एक यूनिट बनती है, जिसे चुनाव आयोग के इस वीडियो में देखा जा सकता है।

चुनाव आयोग की अधिसूचना के मुताबिक, 12 मई को हरियाणा की 10 लोकसभा सीटों पर चुनाव हुआ, जिसमें सोनीपत भी शामिल था।

इसके बाद हमने ईवीएम की अदला-बदली के कथित दावे की पड़ताल शुरू की। न्यूज सर्च की मदद से हमने इस घटना के बारे में पता लगाने की कोशिश की। न्यूज सर्च में हमें दैनिक ट्रिब्यून ऑनलाइन का लिंक मिला, जिसके मुताबिक ईवीएम को लेकर पानीपत में हंगामा हुआ था।

12 मई की इस खबर के मुताबिक, ‘’पानीपत स्थित जीटी रोड एस डी स्कूल में मशीन रखने के दौरान एक गाड़ी में खाली मशीन देखकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने हंगामा किया। मौके पर भारी भीड़ जमा हो गई तथा कांग्रेस प्रत्याशी कुलदीप शर्मा और जजपा-आप के प्रत्याशी कृष्ण अग्रवाल समर्थकों सहित मौके पर पहुंच गए। उन्होंने आरोप लगाया कि गाड़ी के अंदर रखी मशीन के द्वारा गड़बड़ की जा सकती है, लेकिन मौके पर पहुंचे अधिकारियों ने कहा कि यह रिजर्व मशीन है। पानीपत में 19 सेक्टर थे हर एक सेक्टर में एक मशीन दी गई थी कुछ जगह पर मशीन में खराबी आने पर प्रयोग में लाई गई तथा जहां पर मशीन प्रयोग में नहीं लाई गई वही बची हुई मशीनें यहां वापस जमा करवाई जा रही थी। जिसको लेकर किसी ने गलत शिकायत कर दी मौके पर पहुंची एसडीएम वीणा हुड्डा, तहसीलदार डॉ कुलदीप व अन्य अधिकारियों ने कांग्रेस प्रत्याशी कुलदीप शर्मा व अन्य के सामने गाड़ी में रखी मशीन को खोल कर चेक करवा दिया जो बिना प्रयोग के खाली थी।‘’

विश्वास न्यूज ने इसके बाद सोनीपत के डीएसपी सिटी से इस बारे में पूछा। उन्होंने बताया कि घटना 12 मई की है, जब पानीपत के एसडीएम विद्या मंदिर के बाहर एक गाड़ी में रखे ईवीएम को लेकर कुछ लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया।

उन्होंने ईवीएम की अदला-बदली के दावे को खारिज करते हुए कहा- ‘चुनाव आयोग के आदेश के मुताबिक, सभी सेक्टर मजिस्ट्रेट को अतिरिक्त ईवीएम का आवंटन किया गया था, ताकि किसी पोलिंग बूथ पर ईवीएम में गड़बड़ी के बाद उसे तत्काल बदला जा सके। यह ईवीएम अनयूज्ड ईवीएम था।’

निष्कर्ष: हरियाणा के पानीपत में ईवीएम की अदला बदली के दावे के साथ वायरल हो रहा वीडियो गलत है। जिन ईवीएम को अदला-बदली के दावे के साथ वायरल किया जा रहा है, वह वास्तव में रिजर्व ईवीएम थे, जिसका आवंटन सेक्टर मजिस्ट्रेट को किया गया था ताकि किसी पोलिंग बूथ पर किसी ईवीएम में गड़बड़ी होने की स्थिति में उसे बदला जा सके।

पूरा सच जानें…

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी खबर पर संदेह है जिसका असर आप, समाज और देश पर हो सकता है तो हमें बताएं। हमें यहां जानकारी भेज सकते हैं। हमें contact@vishvasnews.com पर ईमेल कर सकते हैं। इसके साथ ही वॅाट्सऐप (नंबर – 9205270923) के माध्‍यम से भी सूचना दे सकते हैं।

Claim Review : हरियाणा के पानीपत में पकड़ी गई ईवीएम की अदला-बदली
Claimed By : FB User- Khabari LAL
Fact Check : False

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here