X

Fact Check: बांग्लादेश में हुई हिंसा की पुरानी तस्वीर पश्चिम बंगाल के हुगली की बता की जा रही वायरल

  • By Vishvas News
  • Updated: April 12, 2021

विश्वास न्यूज (नई दिल्ली)। सोशल मीडिया पर हिंसा और आगजनी से जुड़ी एक तस्वीर वायरल हो रही है। सोशल मीडिया यूजर्स दावा कर रहे हैं कि यह तस्वीर पश्चिम बंगाल के हुगली में भड़की हालिया हिंसा की है। दावा किया जा रहा है कि हुगली में भड़की हिंसा में हिंदुओं को निशाना बनाया जा रहा है। विश्वास न्यूज की पड़ताल में ये दावा झूठा निकला है। बांग्लादेश में हिंसक प्रदर्शनों से जुड़ी एक पुरानी तस्वीर को पश्चिम बंगाल से जोड़कर वायरल किया जा रहा है।

विश्वास न्यूज की पड़ताल में सामने आया है कि पश्चिम बंगाल में चल रहे विधानसभा चुनावों के दौरान माहौल को सांप्रदायिक बनाने की गलत मंशा से इस तस्वीर को शेयर किया जा रहा है।

क्या हो रहा है वायरल

विश्वास न्यूज को अपने फैक्ट चेकिंग वॉट्सऐप चैटबॉट (+91 95992 99372) पर भी यह वायरल तस्वीर फैक्ट चेक के लिए मिली है। यह तस्वीर ट्विटर जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर काफी वायरल है। इस तस्वीर को 7 अप्रैल 2021 को Yoddha नाम के ट्विटर हैंडल से शेयर कर लिखा गया है कि पश्चिम बंगाल के हुगली में हिंदुओं के खिलाफ हिंसा शुरू हो गई है।

इस ट्वीट के आर्काइव्ड वर्जन को यहां क्लिक कर देखा जा सकता है।

आदित्य कुमार द्विवेदी # प्रशासक समिति नाम के ट्विटर हैंडल से भी 4 अप्रैल को किए गए ट्वीट में इस तस्वीर को पोस्ट कर हुगली में हिंसा भड़कने का दावा किया गया है। इसके आर्काइव्ड वर्जन को यहां क्लिक कर देखा जा सकता है।

पड़ताल

विश्वास न्यूज ने सबसे पहले वायरल तस्वीर पर गूगल रिवर्स इमेज सर्च टूल का इस्तेमाल किया। हमें इंटरनेट पर इस तस्वीर से मिलते-जुलते ढेरों परिणाम मिले। हमें newsin.asia नाम की वेबसाइट पर 17 जुलाई 2016 को प्रकाशित एक रिपोर्ट में यह वायरल तस्वीर मिली। यह रिपोर्ट बांग्लादेश में हुई हिंसा पर आधारित है। हालांकि, इस रिपोर्ट में तस्वीर के बारे में अलग से कोई जानकारी नहीं दी हुई है। इसके बावजूद 2016 की रिपोर्ट में तस्वीर की मौजूदगी इस बात का प्रमाण है कि यह हालिया किसी हिंसा से जुड़ी नहीं, बल्कि पुरानी तस्वीर है। इस रिपोर्ट को यहां क्लिक कर विस्तार से देखा जा सकता है।

इस रिपोर्ट से मिले क्लू के आधार पर हमने जरूरी कीवर्ड्स (Bangladesh इत्यादि) से इसे आगे और सर्च किया। हमें यही तस्वीर worldhindunews.com पर 6 मई 2013 को प्रकाशित एक रिपोर्ट में मिली। यह रिपोर्ट बांग्लादेश में ईशनिंदा के एक कथित मामले से जुड़ी हुई है। इस रिपोर्ट में तस्वीर के साथ दिए गए कैप्शऩ के आधार पर हमने आगे सर्च किया, तो हमें 5 मई 2013 को डेली मेल की वेबसाइट पर एक रिपोर्ट में यही तस्वीर सेम कैप्शन से मिली। करीब 7 साल पुरानी इस रिपोर्ट में बताया गया है कि बांग्लादेश में ईशनिंदा को लेकर नए कानून की मांग पर हिंसा भड़की, जिसमें दर्जनों की मौत हुई। इस रिपोर्ट को यहां क्लिक कर देखा जा सकता है।

विश्वास न्यूज की अबतक की पड़ताल से यह साफ हो चुका था कि यह तस्वीर बांग्लादेश में हुई हिंसा की है और पश्चिम बंगाल से इसका कोई लेना-देना नहीं है। विश्वास न्यूज ने अपनी पड़ताल को आगे बढ़ाते हुए अब यह जानना चाहा कि आखिर पश्चिम बंगाल के हुगली में पिछले दिनों कोई सांप्रयादिक हिंसा भड़की है या नहीं। विश्वास न्यूज को ऐसी कोई प्रामाणिक मीडिया रिपोर्ट नहीं मिली, जिससे इस बात की पुष्टि होती हो कि हुगली में भड़की किसी सांप्रयादिक हिंसा में धर्म विशेष को नुकसान पहुंचाया गया है।

विश्वास न्यूज ने इस संबंध में हुगली ग्रामीण की एडिशनल एसपी प्रतीक्षा से संपर्क किया। उन्होंने पुष्टि करते हुए हुगली में ऐसी कोई सांप्रदायिक हिंसा नहीं हुई है।

विश्वास न्यूज ने वायरल तस्वीर को गलत दावे संग शेयर करने वाले ट्विटर यूजर Yoddha की प्रोफाइल को स्कैन किया। यह प्रोफाइल अप्रैल 2020 में बनाई गई है और फैक्ट चेक किए जाने तक इसके 8 फॉलोअर्स थे।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज की पड़ताल में वायरल तस्वीर को लेकर किया जा रहा दावा झूठा निकला है। बांग्लादेश में हिंसक प्रदर्शनों से जुड़ी एक पुरानी तस्वीर को पश्चिम बंगाल के हुगली में हुई हिंसा के नाम से वायरल किया जा रहा है। पश्चिम बंगाल में चल रहे विधानसभा चुनावों के दौरान माहौल को सांप्रदायिक बनाने की गलत मंशा से इस तस्वीर को शेयर किया जा रहा है।

  • Claim Review : हुगली में भड़की हिंसा में हिंदुओं को निशाना बनाया जा रहा है।
  • Claimed By : ट्विटर यूजर Yoddha
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later