X

Fact Check: श्मशानघाट की यह तस्वीर एडिटेड है, असली तस्वीर में नहीं था कोई बिल बोर्ड

  • By Vishvas News
  • Updated: April 19, 2021

विश्वास न्यूज (नई दिल्लीे)। सोशल मीडिया पर वायरल एक तस्वीर में एक श्मशानघाट पर कुछ लाशों को जलते हुए देखा जा सकता है। इन लाशों के साथ कुछ लोग पीपीई किट पहन के खड़े हुए भी दिख रहे हैं। इस तस्वीर में पीछे एक बड़ा-सा बिल बोर्ड लगा है, जिसपर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर के साथ एक असंवेदनशील वाक्य लिखा है। विश्वास न्यूज़ ने अपनी पड़ताल में पाया कि यह तस्वीर एडिटेड है। असली तस्वीर में कोई बिल बोर्ड नहीं था।

असली तस्वीर भोपाल के भदभदा विश्रामघाट में शवों के अंतिम संस्कार की है। असली तस्वीर में प्रधानमंत्री की तस्वीर वाला यह बिल बोर्ड नहीं था।

क्याा हो रहा है वायरल

फेसबुक यूजर Sunny Kumar ने इस एडिटेड तस्वीार को अप्रैल 16 को अपलोड किया।

इस पोस्ट का आर्काइव लिंक यहाँ देखें।

पड़ताल

विश्वास न्यूज ने सबसे पहले वायरल तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज टूल में अपलोड किया और ओरिजनल सोर्स को खोजना शुरू किया। हमें bhaskar.com पर ओरिजनल तस्वीर मिली। यहाँ 13 अप्रैल को पब्लिश्ड खबर में इस्तेमाल तस्वीर हूबहू वायरल तस्वीर जैसी ही थी मगर उसमें कोई बिल बोर्ड नहीं था। यहाँ इस तस्वीर के नीचे लिखा था, “भोपाल के भदभदा विश्रामघाट में शवों का अंतिम संस्कार।”

भोपाल भदभदा विश्रामघाट कीवर्ड्स को गूगल इमेजेज पर सर्च करने पर यहाँ की कई तस्वीरें मिलीं। किसी भी तस्वीर में ऐसा कोई बिल बोर्ड नहीं दिखता।

पड़ताल के अगले चरण में विश्वास न्यूज ने भदभदा यथाशक्ति विश्रामघाट समिति के चेयरपर्सन प्रताप तेजवानी से संपर्क किया। उन्होंने हमें बताया, “यह तस्वीशर फेक है। भदभदा विश्रामघाट में ऐसा कोई बिल बोर्ड नहीं लगा है।”

अब बारी थी फर्जी पोस्ट करने वाले यूजर के अकाउंट की जांच करने की। हमें पता चला कि फेसबुक यूजर Sunny Kumar को 197,842 लोग फॉलो करते हैं।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज की पड़ताल में यह तस्वीर एडिटेड निकली। असली तस्वीर भोपाल के भदभदा विश्रामघाट में शवों के अंतिम संस्कार की है। असली तस्वीर में प्रधानमंत्री की तस्वीर वाला यह बिल बोर्ड नहीं था।

  • Claim Review : साहब
  • Claimed By : Sunny Kumar
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later