X

Fact Check: ये वीडियो शहीद की अंतिम यात्रा का है, सिद्धू मूसेवाला का नहीं

विश्वास न्यूज़ की जांच में वायरल दावा भ्रामक निकला। वीडियो रतलाम के मावता गांव के निवासी शहीद जवान लोकेश कुमावत का है। वीडियो को गलत दावे के साथ शेयर किया जा रहा है। वीडियो पहले से इंटरनेट पर मौजूद है।

  • By Vishvas News
  • Updated: June 1, 2022

विश्वास न्यूज (नई दिल्ली)। दिवंगत गायक और कांग्रेस नेता सिद्धू मूसेवाला की 29 मई 2022 को दिनदहाड़े अज्ञात लोगों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस घटना के बाद से ही सोशल मीडिया पर कई तरह के पुराने वीडियो और पोस्टों को हालिया बताते हुए शेयर किया जा रहा है। अब इसी से जोड़ते हुए एक 30 सेकंड के वीडियो को इस दावे के साथ शेयर किया जा रहा है कि यह सिद्धू मूसेवाला के अंतिम यात्रा का वीडियो है। वीडियो में लोगों के हुजूम को देखा जा सकता है। विश्वास न्यूज़ ने वायरल दावे की जांच की और इसे भ्रामक पाया। वीडियो रतलाम के मावता गांव के निवासी शहीद जवान लोकेश कुमावत का है। वीडियो को गलत दावे के साथ शेयर किया जा रहा है। वीडियो पहले से इंटरनेट पर मौजूद है।

क्या है वायरल पोस्ट में

फेसबुक यूजर “मंजीत सिंह ” ने 31 मई को वीडियो को शेयर किया है और लिखा है ,”सिद्धू मूसेवाला अंतिम यात्रा ” सोशल मीडिया पर कई अन्य यूजर्स इस वीडियो को समान और मिलते-जुलते दावे के साथ शेयर कर रहे हैं। पोस्ट का आर्काइव लिंक यहां देखा जा सकता है। 

पड़ताल

विश्वास न्यूज ने सबसे पहले वीडियो को इनविड टूल में अपलोड किया और वीडियो के विभिन्न स्क्रीन ग्रैब्स लिए। इसके बाद हमने विभिन्न स्क्रीन ग्रैब्स पर रिवर्स इमेज सर्च किया। हमें “Deepu Biography ” नाम के यूट्यूब चैनल पर 4,दिसंबर 2021 को यह वीडियो अपलोड मिला। एक मिनट 35 सेकंड के इस वीडियो में वायरल वीडियो वाले हिस्से को 29 सेकंड से लेकर 47 सेकंड के बीच में देखा जा सकता है। वीडियो को अपलोड कर लिखा गया था, “शहीद लोकेश कुमावत आर्मी का अंतिम दाह संस्कार बड़ी संख्या में लोगों के द्वारा किया गया। army Lokesh “

“The Def News ” नाम के यूट्यूब चैनल पर भी 4,दिसंबर 2021 को हमें इससे जुड़ा वीडियो मिला। फेसबुक सर्च पर भी हमें ये वीडियो कई फेसबुक यूजर्स द्वारा शेयर किया मिला। “जयेश चोटलीया” नाम के फेसबुक यूजर के फेसबुक अकाउंट पर 3 दिसंबर 2021 को वीडियो शेयर मिला। वीडियो के साथ कैप्शन में लिखा गया था, “रतलाम मध्य प्रदेश के गांव मावता के लाल वीर बलिदानी लोकेश कुमावत मणिपुर के इंफाल में आतंकवादियों से लड़ते हुए बलिदान हो गए। कोटि-कोटि नमन वीर बलिदानी के चरणों में।”

चूंकि, वायरल वीडियो मध्य प्रदेश का है इसलिए हमने नईदुनिया के डिप्टी न्यूज़ एडिटर अरविन्द दुबे से सम्पर्क किया। उनके साथ वायरल पोस्ट के लिंक को भी शेयर किया। उन्होंने हमें बताया कि वीडियो का सिद्धू मूसेवाला के साथ कोई संबंध नहीं है। वायरल वीडियो शहीद लोकेश कुमावत का है।

जांच को आगे बढ़ाते हुए हमने सिद्धू मूसेवाला के अंतिम संस्कार के बारे में सर्च किया। हमें सिद्धू मूसेवाला के अंतिम संस्कार से जुडी कई खबरें मिली, जिनमें बताया गया कि मानसा के मूसा स्थित उनके खेत में ही उन्हें मुखाग्नि दी गई थी। आज तक के यूट्यूब चैनल पर सिद्धू मूसेवाला के अंतिम संस्कार के वीडियो और वायरल वीडियो में अंतर साफ़ रूप से देखा जा सकता है।

इस बारे में अधिक जानकारी के लिए हमने पंजाबी जागरण के मानसा के रिपोर्टर हरकृष्ण शर्मा, जिन्होंने सिद्धू मूसेवाला के अंतिम यात्रा की खबर को कवर किया है उनसे संपर्क किया। उन्होंने विश्वास न्यूज़ को बताया कि ये वीडियो सिद्धू मूसेवाला की अंतिम यात्रा का नहीं है। उनका अंतिम संस्कार खेतों में किया गया था, जबकि वायरल वीडियो में शेड नज़र आ रहा है। वीडियो का सिद्धू मूसेवाला से कोई संबंध नहीं है।

पड़ताल के अंत में हमने इस वीडियो को गलत दावे के साथ शेयर करने वाले यूजर की जांच। हमें पता चला कि यूजर हिमाचल प्रदेश के बैजनाथ का रहने वाला है। यूजर को फेसबुक पर 258 लोग फॉलो करते हैं।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज़ की जांच में वायरल दावा भ्रामक निकला। वीडियो रतलाम के मावता गांव के निवासी शहीद जवान लोकेश कुमावत का है। वीडियो को गलत दावे के साथ शेयर किया जा रहा है। वीडियो पहले से इंटरनेट पर मौजूद है।

  • Claim Review : Sidhu Moosewala antim yatra
  • Claimed By : Manjeet Singh
  • Fact Check : भ्रामक
भ्रामक
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later