X

Fact Check: यह वीडियो हैदराबाद के CAA विरोध प्रदर्शन का है, असम NRC से कोई संबंध नहीं

  • By Vishvas News
  • Updated: January 6, 2020

नई दिल्‍ली विश्‍वास न्‍यूज । NRC और CAA को लेकर सोशल मीडिया पर लोग भ्रामक पोस्ट्स शेयर कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर एक वीडियो को शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है कि NRC में नाम न होने के कारण असम में पुलिस इन लोगों को ज़बरदस्ती घर से उठा रही है। वीडियो में खाकी वर्दी वालों के द्वारा कुछ लोगों को ज़बरदस्ती गाड़ियों में भरते देखा जा सकता है। हमने अपनी पड़ताल में पाया कि ये वीडियो हैदराबाद का है। इसमें पुलिस ने CAA के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों को हिरासत में लिया था। इसका असम से कोई लेना-देना नहीं है।

CLAIM

सोशल मीडिया पर वायरल इस पोस्ट में एक वीडियो है जिसमें खाकी वर्दी वालों को कुछ लोगों को ज़बरदस्ती गाड़ियों में भरते देखा जा सकता है। पोस्ट के साथ डिस्क्रिप्शन में लिखा है “असम में NRC लागू, लोगो को घरों से उठाना शुरू हो चुका है, न्यूज़ (news) वाले आपको ये नही दिखाएगी, क्योंकि वो बिक चुकी है, अब हमारी और आपकी जिम्मेदारी है, इस वीडियो (video) को ज़्यादा से ज्यादा शेयर (share) करने की।” इस पोस्ट के आर्काइवड वर्जन को यहाँ देखा जा सकता है।

FACT CHECK

इस पोस्ट की जांच करने के लिए हमने इस वीडियो को बारीकी से से देखा। वीडियो के ऊपर आज़ाद रिपोर्टर का वॉटरमार्क लगा देखा जा सकता है। हमने इंटरनेट पर आज़ाद रिपोर्टर ढूंढा तो हमें इस नाम से एक फेसबुक पेज मिला। इसके साथ हमें आज़ाद रिपोर्टर की वेबसाइट भी मिली। आज़ाद रिपोर्टर के फेसबुक पेज  पर 19 दिसंबर को ये वीडियो शेयर किया गया था। इसके साथ डिस्क्रिप्शन में लिखा था “Hyd Exhibition Ground me jo bhi protest me sharik horahe hain, Police unko hirasat me lerahi hai…” हिंदी: हैदराबाद एक्जिबिशन ग्राउंड में जो भी विरोध में शरीक हो रहे हैं, पुलिस उनको हिरासत मे ले रही है।

..

Hyd Exhibition Ground me jo bhi protest me sharik horahe hain, Police unko hirasat me lerahi hai…

Posted by Azad Reporter Abu Aimal on Wednesday, December 18, 2019

हमने पुष्टि के लिए इस पेज के एडमिन अबू इस्माइल से फ़ोन पे बात की। उन्होंने कन्फर्म किया कि ये वीडियो हैदराबाद के CAA प्रोटेस्ट का है जहाँ कई प्रदर्शनकर्ताओं को दिसंबर 18 को हिरासत में लिया गया था।

इसके बाद हमने गूगल पर ‘CAA protesters detained in Hyderabad’ कीवर्ड्स के साथ ढूंढ़ा तो हमें Overseas News के यूट्यूब चैनल पर अपलोडेड एक वीडियो मिला जिसमें वायरल वीडियो के साथ समानता देखी जा सकती है।

हैदराबाद में CAA विरोध प्रदर्शन करते लोगों को हिरासत में लेने की खबर को कई मीडिया हाउस ने कवर किया था। यहां दो स्टोरी पढ़ी जा सकती है- पहली स्टोरी और दूसरी स्टोरी.

हमने इस विषय में ज़्यादा जानकारी के लिए असम डीजीपी के पीआरओ पीसी सीन से बात की। उन्होंने कहा “ये वीडियो असम का नहीं है।”

इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर कई लोग शेयर कर रहे हैं। इन्हीं में से एक है Vahora Aamir नाम का फेसबुक प्रोफाइल। इस यूजर ने इस पोस्ट को 4 जनवरी को अपलोड किया था। इस प्रोफाइल के अनुसार, यूजर गुजरात के आणंद का रहने वाला है और इसके फेसबुक पर कुल 5000 फ्रेंड्स हैं।

निष्कर्ष: हमने अपनी पड़ताल में पाया कि ये वीडियो हैदराबाद का है, जब पुलिस ने CAA के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों को हिरासत में लिया था। इसका असम से कोई लेना- देना नहीं है।

  • Claim Review : Asam me NRC lagu, logo ko gharoo se uthana shuru ho chuka h.
  • Claimed By : Vahora Aamir
  • Fact Check : False
False
    Symbols that define nature of fake news
  • True
  • Misleading
  • False
जानिए सच्‍ची और झूठी सबरों का सच क्विज खेलिए और सीखिए स्‍टोरी फैक्‍ट चेक करने के तरीके क्विज खेले

पूरा सच जानें...

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी खबर पर संदेह है जिसका असर आप, समाज और देश पर हो सकता है तो हमें बताएं। हमें यहां जानकारी भेज सकते हैं। हमें contact@vishvasnews.com पर ईमेल कर सकते हैं। इसके साथ ही वॅाट्सऐप (नंबर – 9205270923) के माध्‍यम से भी सूचना दे सकते हैं।

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later