X

Fact Check: पति-पत्नी के झगड़े के वीडियो को गलत सांप्रदायिक दावे के साथ किया जा रहा है वायरल

  • By Vishvas News
  • Updated: May 26, 2020

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज़)। सोशल मीडिया पर आजकल एक वीडियो शेयर किया जा रहा है, जिसमें कुछ लोगों को एक महिला की पिटाई करते देखा जा सकता है। वीडियो में एक पुलिसकर्मी भी खड़ा नज़र आ रहा है। वीडियो के साथ लिखे कैप्शन में ये बताने की कोशिश की गई है कि यह एक सांप्रदायिक मामला है, जहां कुछ दूसरे धर्म के लोग एक मुस्लिम महिला की पिटाई कर रहे हैं।

विश्वास न्यूज़ ने अपनी पड़ताल में वीडियो के साथ किये जा रहे दावे को झूठा पाया। यह उत्तर प्रदेश के बलरामपुर में एक पारिवारिक विवाद था और इस घटना का कोई सांप्रदायिक एंगल नहीं था। पुलिस ने पुष्टि की है कि आरोपी और पीड़ित दोनों हिंदू हैं और एक ही परिवार से हैं।

क्या हो रहा है वायरल

वायरल वीडियो में कुछ लोगों को एक महिला की पिटाई करते देखा जा सकता है। वीडियो के साथ डिस्क्रिप्शन में लिखा है, “Muslims are oppressed in India and will continue to be oppressed if we do not protect them. It’s time to be unity. The Indian government will account!
#ModiResignation” जिसका हिंदी अनुवाद होता है “भारत में मुसलमानों पर अत्याचार किया जाता है और अगर हम उनकी रक्षा नहीं करेंगे तो उनका उत्पीड़न जारी रहेगा। यह एकता का समय है। भारत सरकार करेगी हिसाब! #ModiResignation”

इस पोस्ट का फेसबुक लिंक और आर्काइव लिंक यहां देखा जा सकता है। 

पड़ताल

हमने पड़ताल के लिए इस वीडियो को InVID टूल पर डाला, जिससे हमें इस वीडियो के कीफ्रेमस मिले। अब हमने इन कीफ्रेम्स को गूगल रिवर्स इमेज पर सर्च किया। हमें एक यूट्यूब वीडियो मिला, जिसमें इस वीडियो पर एक खबर थी। INDIA TIMES NEWS AGENCY नाम के यूट्यूब चैनल ने May 23, 2020 को इस वीडियो पर एक रिपोर्ट का वीडियो यूट्यूब पर अपलोड किया था। वीडियो के टाइटल में लिखा था, ‘Balrampur: पुलिस के सामने महिला की पिटाई का वीडियो हुआ वायरल।’ 3 मिनट 50 सेकंड की इस रिपोर्ट में बताया गया है कि यह मामला बलरामपुर के रेहरा बाजार थाना क्षेत्र का है, जहां इस महिला के पति, जेठ, देवर व पति के रिश्तेदारों ने घरेलू विवाद के चलते मिलकर महिला की पिटाई की।


हमने सही कीवर्ड्स के साथ खोजा तो हमें यह खबर जागरण.कॉम पर भी मिली। खबर के मुताबिक, घटना बलरामपुर के रेहरा बाजार थाना क्षेत्र की है जहां इस महिला के पति, जेठ, देवर व पति के रिश्तेदारों ने घरेलू विवाद के चलते मिलकर महिला की पिटाई की। घटना में शामिल चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है। महिला की निर्मम पिटाई के दौरान मूकदर्शक बने रहने वाले यूपी 112 के दो पुलिसकर्मियों को एसपी ने पुलिस लाइन से संबद्ध कर दिया है।

इस घटना पर हमें बलराम पुलिस का एक ट्वीट भी मिला, जिसमें बलरामपुर के पुलिस अधीक्षक देव रंजन वर्मा को इस घटना के बारे में बताते सुना जा सकता है।

इस मामले में हमने रेहरा बाजार थाने के प्रभारी निरीक्षक विनोद अग्निहोत्री से फ़ोन पर बात की। उन्होंने कहा “रेहरा बाजार के अधीनपुर गांव में अशोक नाम के एक व्यक्ति व उसकी पत्नी सुशीला में मकान बेचने को लेकर कुछ विवाद हुआ था। विवाद पर सुशीला ने 112 पर कॉल कर पुलिस बुला ली। इस दौरान अशोक अपनी पत्नी सुशीला को पीटने लगा। वहां मौजूद महिला के देवर, जेठ और बाकि रिश्तेदारों ने भी उस पर हमला कर दिया। मुकदमा दर्ज कर चार नामजदों को गिरफ्तार कर लिया गया था। मामला घरेलू कलह का था। ये सभी लोग हिन्दू है। इस मामले में कोई सांप्रदायिक एंगल नहीं है।”

इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर कई लोग शेयर कर रहे हैं। इन्हीं में से एक है Wajid Jahangir नाम का फेसबुक यूजर। इस यूजर के फेसबुक पर 1,608 फॉलोअर्स हैं। यूजर इंग्लैंड में रहता है।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज़ ने अपनी पड़ताल में वीडियो के साथ किये जा रहे दावे को झूठा पाया। यह उत्तर प्रदेश के बलरामपुर में एक पारिवारिक विवाद था और इस घटना का कोई सांप्रदायिक एंगल नहीं था। पुलिस ने पुष्टि की है कि आरोपी और पीड़ित दोनों हिंदू हैं और एक ही परिवार से हैं।

  • Claim Review : Muslims are oppressed in India and will continue to be oppressed if we do not protect them. It's time to be unity. The Indian government will account!
  • Claimed By : Wajid Jahangir
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later