X

Fact Check: हैदराबाद में प्रवासी मजदूरों के विरोध का वीडियो गुजरात के अहमदाबाद के नाम से हो रहा वायरल

  • By Vishvas News
  • Updated: May 9, 2020

नई दिल्ली (विश्वास टीम)। लॉकडाउन के दौरान देश के कई राज्यों में प्रवासी मजदूरों और कामगारों के विरोध प्रदर्शन की खबरों के बीच सोशल मीडिया पर ऐसा ही एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसे लेकर दावा किया जा रहा है कि गुजरात के अहमदाबाद में मजदूर सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं। वीडियो को देखकर यह भ्रम हो रहा है कि अहमदाबाद में मजदूरों ने आज ही प्रदर्शन किया है।

विश्वास न्यूज की पड़ताल में यह दावा भ्रामक निकला। जिस वीडियो को गुजरात के अहमदाबाद में मजदूरों के हालिया प्रदर्शन का बताकर वायरल किया जा रहा है वह हैदराबाद में हफ्ते भर पहले हुई घटना का है।

क्या है वायरल पोस्ट?

फेसबुक पेज ‘News Live’ ने वीडियो (आर्काइव लिंक) शेयर करते हुए लिखा है, ”अहमदाबाद (गुजरात) में सड़को पर निकले मजदूर…अहमदाबाद (गुजरात)में सड़को पर निकले मजदूर….*राशन दो या गोली मार दो…ये कैसा गुजरात मॉडल है।”

पड़ताल किए जाने तक इस वीडियो को करीब एक हजार से अधिक लोग शेयर कर चुके हैं। सोशल मीडिया के अलग-अलग प्लेटफॉर्म पर कई अन्य यूजर्स ने इस वीडियो को समान और मिलते-जुलते दावे के साथ शेयर किया है।

पड़ताल

इनविड टूल की मदद से वीडियो के की-फ्रेम्स की फोरेंसिक में हमें एक ऐसा फ्रेम मिला, जिसमें प्रदर्शन के दौरान सड़क पर मौजूद पुलिसवालों की वर्दी पर ‘हैदराबाद सिटी पुलिस’ लिखा हुआ नजर आया।

वायरल वीडियो का की-फ्रेम, जिसमें पुलिस की वर्दी पर हैदराबाद पुलिस लिखा हुआ नजर आ रहा है

वीडियो के की-फ्रेम्स को न्यूज की-वर्ड्स के साथ रिवर्स इमेज किए जाने पर हमें ‘Sakshi TV’ के वेरिफाइड चैनल पर 3 मई 2020 को अपलोड किया गया वीडियो बुलेटिन मिला, जिसमें इस वीडियो का इस्तेमाल किया गया है। वीडियो बुलेटिन के साथ दी गई जानकारी के मुताबिक, प्रवासी मजदूरों ने टोली चौकी इलाके में उन्हें उनके घर वापस भेजे जाने की मांग के साथ प्रदर्शन किया।

न्यूज सर्च में हमें ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ की वेबसाइट पर 3 मई को न्यूज एजेंसी पीटीआई के हवाले से छपी खबर का लिंक मिला, जिसमें इस घटना का विवरण है। रिपोर्ट के मुताबिक, ‘तेलंगाना से करीब 1200 मजदूरों के ट्रेन से घर वापसी के एक दिन बाद हैदराबाद के दो शहरों में मजदूरों ने प्रदर्शन किया। सरकार के स्पेशल ट्रेन को चलाए जाने की अफवाह की वजह से करीब 1000 से अधिक मजदूर टोली चौकी इलाके में जमा हो गए, ताकि वह वहां से रेलवे स्टेशन जा सकें।’

TOI में 3 मई को प्रकाशित खबर

रिपोर्ट में पुलिस का बयान शामिल है। इसके मुताबिक बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल और कर्नाटक के मजदूर विशेष ट्रेन चलाए जाने की अफवाह की वजह से टोली चौकी इलाके में जमा हो गए।

विश्वास न्यूज ने इस मामले को लेकर हैदराबाद (वेस्ट जोन) के डिप्टी कमिश्नर ऑफ पुलिस ए आर श्रीनिवास से संपर्क किया। उन्होंने बताया, ‘वायरल वीडियो हैदराबाद के टोली चौकी इलाके का है, जब एक हफ्ते पहले अन्य राज्यों के प्रवासी मजदूर अफवाह की वजह से वहां जमा हो गए। यह लोग अपने गृह राज्य भेजे जाने की मांग कर रहे थे।’

श्रीनिवास ने हमें एक वीडियो भी शेयर किया, जिसमें वह मजदूरों को समझाते हुए नजर आ रहे हैं, ‘आप लोगों की देखभाल करना हमारा फर्ज है। जब रेल का इंतजाम हो जाएगा तब हम आपको रेलवे स्टेशन ले जाने का प्रबंध करेंगे। यह जिम्मेदारी पुलिस की है।’

यानी जिस वीडियो गुजरात के अहमदाबाद में लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों के हालिया प्रदर्शन का बताकर वायरल किया जा रहा है, वह हैदराबाद में हफ्ते भर पहले हुए प्रदर्शन का वीडियो है।

वायरल पोस्ट शेयर करने फेसबुक पेज को एक लाख से ज्यादा लोग फॉलो करते हैं। इस पेज को करीब एक लाख 17 हजार लोगों ने लाइक किया हुआ है।

निष्कर्ष: लॉकडाउन के दौरान अहमदाबाद में प्रवासी मजदूरों के प्रदर्शन के नाम से वायरल हो रहा वीडियो हैदराबाद में हफ्ते भर पहले हुए प्रदर्शन का है।

  • Claim Review : हैदाराबाद में हुए प्रवासी मजदूरों के प्रदर्शन का वीडियो गुजरात के अहमदाबाद के नाम से हो रहा वायरल
  • Claimed By : FB Page-News Live
  • Fact Check : भ्रामक
भ्रामक
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later