X

Fact Check : वायरल सीसीटीवी फुटेज का नहीं है दिल्‍ली दंगों से कोई संबंध

विश्वास न्यूज की पड़ताल में दिल्‍ली दंगों के आरोपी को भरूच से पकड़ने की बात झूठ निकली। वायरल वीडियो अहमदाबाद क्राइम ब्रांच की कार्रवाई का है। 27 जून को अमरपुरा गांव से किशोर लोहार और उसके साथियों को पकड़ा गया था।

  • By Vishvas News
  • Updated: July 3, 2021

विश्‍वास न्‍यूज (नई दिल्‍ली)। सोशल मीडिया में एक सीसीटीवी फुटेज वायरल हो रहा है। इसमें सादी वर्दी में कुछ पुलिसवाले एक ढाबे पर कुछ लोगों को अचानक से पकड़ते हुए दिख रहे हैं। यूजर्स इस वीडियो को एक फर्जी कहानी के साथ वायरल कर रहे हैं। दावा किया जा रहा है कि दिल्‍ली दंगों में शामिल शख्‍स को भरूच क्राइम ब्रांच ने पकड़ लिया।

विश्‍वास न्‍यूज की पड़ताल में वायरल पोस्‍ट फर्जी साबित हुई। गुजरात के पाटन के पास अहमदाबाद पुलिस के क्राइम ब्रांच की ओर से यह कार्रवाई की गई थी। इसमें दिल्‍ली दंगों से कोई संबंध नहीं है।

क्‍या हो रहा है वायरल

फेसबुक यूजर चेन्‍नई स्‍वयंसेवक ने 1 जुलाई को एक वीडियो को अपलोड करते हुए लिखा : ‘Live operation of Bharuch Crime Branch arresting mobsters from Delhi. Name is Siraj Mohd Anwar involved in Delhi riots. Upon tips, Bharuch Crime Branch nabbed him. Rare to see such footage.’

वीडियो के साथ दावा किया गया कि दिल्‍ली दंगों में शामिल स‍िराज मोहम्‍मद अनवर को भरूच क्राइम ब्रांच ने प‍कड़ा। सीसीटीवी फुटेज इसी का है। फेसबुक पोस्‍ट का आर्काइव्‍ड वर्जन यहां देखा जा सकता है।

पड़ताल

विश्‍वास न्‍यूज ने सबसे पहले वायरल वीडियो को ध्‍यान से देखा। इसमें कुछ लोगों को अचानक से सादी वर्दी में कुछ लोग पकड़ लेते हैं। वीडियो सीसीटीवी फुटेज था। इसके ऊपर 27 जून 2021 की तारीख हमें दिखी। इस वीडियो को इंटरनेट पर सर्च करने के लिए विश्‍वास न्‍यूज ने InVID टूल की मदद ली। इस टूल के माध्‍यम से कई वीडियो ग्रैब निकाले और फिर इन्‍हें गूगल रिवर्स इमेज टूल में अपलोड करके ओरिजनल सोर्स को तलाशना शुरू किया। हमें कई वेबसाइट पर यह वीडियो मिला। इंडियन एक्‍सप्रेस के यूट्यूब चैनल पर एक जुलाई को अपलोड इस वीडियो के साथ बताया गया कि पाटन के पास एक ढाबे में अहमदाबाद क्राइम ब्रांच के अंडरकवर पुलिस अफसरों ने कुछ लोगों को पकड़ा। पूरे वीडियो में कहीं भी दिल्‍ली दंगों की कोई बात नहीं थी। पूरा वीडियो यहां देखा जा सकता है।

जांच को आगे बढ़ाते हुए विश्‍वास न्‍यूज ने दैनिक जागरण, गुजरात के वरिष्‍ठ संवाददाता शत्रुघ्न शर्मा से संपर्क किया। उन्‍होंने बताया कि गुजरात व राजस्थान में वांछित अपराधी किशोर लोहार को उसके तीन साथियों के साथ अहमदाबाद क्राइम ब्रांच के 7-8 अधिकारियों ने पाटन के पास एक रेस्टोरेंट्स से दबोच था। वायरल वीडियो में उन्हें दिल्ली दंगों का आरोपी बताया जा रहा है, लेकिन वह गुजरात के अहमदाबाद बनासकांठा तथा राजस्थान के सिरोही पाली आदि जिलों में 1 दर्जन से अधिक वारदातों में वांछित था। किशोर कुमार मूल रूप से बनासकांठा के डीसा कस्बे का रहने वाला है तथा आदतन अपराधी है। पुलिस ने इनके पास से एक पिस्टल, दो मैगजीन, पांच कारतूस भी बरामद किए।

उन्‍होंने हमें गुजरात पुलिस का एक प्रेस नोट भी भेजा। इसमें ढाबे से अरेस्‍ट किए गए लोगों के बारे में विस्‍तार से जानकारी दी गई थी। पूरे प्रेस नोट में कहीं भी दिल्‍ली दंगों की कोई बात नहीं थी। यह प्रेस नोट विश्‍वास न्‍यूज के पास सुरक्षित है।

पुलिस के प्रेस नोट के अनुसार, किशोर लोहार और उसके साथियों को पाटन के अमरपुरा गांव के पास एक ढाबा से पकड़ा गया। भरूच से यह गांव तीन सौ किलोमीटर से ज्‍यादा दूर है। इसे आप यहां देख सकते हैं।

सीसीटीवी फुटेज से जुड़ी खबरें हमें कई वेबसाइट पर भी मिलीं। लोकमत न्‍यूज के अनुसार, गुजरात के अमरपुरा गांव में सड़क किनारे एक भोजनालय में कुख्‍यात अपराधी किशोर लुहार को पकड़ने के लिए पुलिस की क्राइम ब्रांच की टीम ने अंडरकवर ऑपरेशन चलाया था। पूरी खबर यहां पढ़ सकते हैं।

विश्वास न्यूज ने वायरल दावे को शेयर करने वाले फेसबुक यूजर चेन्‍नई स्‍वयंसेवक की प्रोफाइल को स्कैन किया। हमें पता चला कि इस प्रोफाइल से 4.8 हजार लोग जुड़े हुए हैं। यूजर चेन्‍नई में रहता है।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज की पड़ताल में दिल्‍ली दंगों के आरोपी को भरूच से पकड़ने की बात झूठ निकली। वायरल वीडियो अहमदाबाद क्राइम ब्रांच की कार्रवाई का है। 27 जून को अमरपुरा गांव से किशोर लोहार और उसके साथियों को पकड़ा गया था।

  • Claim Review : Live operation of Bharuch Crime Branch arresting mobsters from Delhi. Name is Siraj Mohd Anwar involved in Delhi riots. Upon tips, Bharuch Crime Branch nabbed him.
  • Claimed By : फेसबुक यूजर चेन्‍नई स्‍वयंसेवक
  • Fact Check : झूठ
झूठ
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later