X

Fact Check : राष्‍ट्रपति की गरिमा पर सवाल उठाने वाली पोस्‍ट फर्जी

  • By Vishvas News
  • Updated: October 9, 2019

नई दिल्‍ली (विश्‍वास न्‍यूज)। फेसबुक पर राष्‍ट्रपति राम नाथ कोविंद पर सवाल खड़ा करने वाली एक पोस्‍ट वायरल हो रही है। इन तस्‍वीरों में राष्‍ट्रपति के अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और यूपी के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ को भी देखा जा सकता है। विश्‍वास टीम की पड़ताल में फोटो के साथ किया जा रहा है दावा फर्जी साबित हुआ।

क्‍या है वायरल पोस्‍ट में

5 अक्‍टूबर को Mustak Limbadiya‎ नाम के फेसबुक यूजर ने WE LOVE RAHUL GANDHI नाम के ग्रुप में तीन तस्‍वीरों का एक कोलाज अपलोड करते हुए लिखा : जिस देश का राष्ट्रपति इतना मजबूर हो उस देश का सीबीआई चुनाव आयोग कितना मजबूर होगा…

इस पोस्‍ट को पहले भी कई बार वायरल किया जा चुका है।

तस्‍वीर नंबर 1

राष्‍ट्रपति राम नाथ कोविंद और नरेंद्र मोदी की वायरल तस्‍वीर का सच जानने के लिए हमने इस तस्‍वीर को गूगल रिवर्स इमेज में सर्च किया। काफी खोजबीन के बाद हमें एक वीडियो मिला। यह वीडियो तेलुगू के यूटयूब चैनल V6 News Telugu पर मिला। इसमें बताया गया कि राज घाट पर महात्‍मा गांधी को राष्‍ट्रपति राम नाथ कोविंद और पीएम मोदी ने श्रद्धांजलि दी। यह वीडियो जनवरी 2018 को अपलोड किया गया था।

इस वीडियो के 5:14वें मिनट पर राष्‍ट्रपति और प्रधानमंत्री को एक-दूसरे को हाथ जोड़कर अभिवादन करते हुए देखा जा सकता है। वायरल तस्‍वीर भी इसी इवेंट की है। वहां खड़े सभी नेताओं ने बापू को श्रद्धांजलि देकर लौटते राष्‍ट्रपति राम नाथ कोविंद का हाथ जोड़कर अभिवादन किया। राष्‍ट्रपति ने भी सभी को हाथ जोड़कर अभिवादन किया। उसी मौके की एक अलग एंगल की तस्‍वीर को अब गलत संदर्भ के साथ वायरल किया जा रहा है।

तस्‍वीर नंबर 2

विश्‍वास न्‍यूज ने अमित शाह और राम नाथ कोविंद की वायरल तस्‍वीर को गूगल रिवर्स इमेज में सर्च किया। हमें यह तस्‍वीर newsindianexpress.com पर मिली। इस तस्‍वीर को फोटोग्राफर शेखर यादव ने क्लिक की थी। फोटो के कैप्‍शन में बताया गया कि President-elect Ram Nath Kovind acknowledges the greeting of BJP president Amit Shah in New Delhi on Thursday |

इसका अर्थ होता है कि नवनिर्वाचित राष्‍ट्रपति राम नाथ कोविंद को बधाई देते हुए भाजपा अध्‍यक्ष अमित शाह। यह खबर 20 जुलाई 2017 को पब्लिश हुई थी। खबर में बताया गया कि देश के अगले राष्‍ट्रपति के तौर पर राम नाथ कोविंद को चुन लिया गया।

सर्च के दौरान हमें एक और तस्‍वीर मिली। इसमें आप अमित शाह और राम नाथ कोविंद को एक जैसे ही कपड़े पहने हुए देख सकते हैं। ये एक ही इवेंट की अलग एंगल की तस्‍वीर थी।

gettyimages.in पर मौजूद तस्‍वीर के बारे में बताया गया कि राम नाथ कोविंद को देश के अगले राष्‍ट्रपति के लिए चुन लिए जाने के बाद 20 जुलाई 2017 को एक कार्यक्रम में अमित शाह ने उन्‍हें बधाई दी। यह कार्यक्रम नई दिल्‍ली में हुआ था। यह तस्‍वीर आप यहां देख सकते हैं।

राम नाथ कोविंद भले ही 20 जुलाई को नए राष्‍ट्रपति पद के लिए चुन लिए गए थे, लेकिन उन्‍होंने पद की शपथ 25 जुलाई 2017 को ली थी।

तस्‍वीर नंबर 3

अब बारी थी योगी आदित्‍यनाथ और राष्‍ट्रपति राम नाथ कोविंद की तस्‍वीर की सच्‍चाई जानने की। हमने इस तस्‍वीर को गूगल रिवर्स इमेज में सर्च किया। हमें यह तस्‍वीर इंडियन एक्‍सप्रेस की वेबसाइट पर मिली। 24 जून 2017 की एक खबर में इसका इस्‍तेमाल किया गया था। इसमें बताया गया कि एनडीए के राष्‍ट्रपति पद के उम्‍मीदवार राम नाथ कोविंद यूपी के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ का अभिवादन करते हुए।

24 जून 2017 को राम नाथ कोविंद सिर्फ राष्‍ट्रपति पद के उम्‍मीदवार थे, राष्‍ट्रपति नहीं। इसलिए इस तस्‍वीर में ऐसा कुछ नहीं, जैसा कि वायरल किया जा रहा है।

वायरल पोस्‍ट को लेकर दिल्ली बीजेपी प्रवक्ता तेजिंदर बग्गा कहते हैं कि ये तस्‍वीरें अलग एंगल की हैं। राष्‍ट्रपति को लेकर वायरल तस्‍वीर में जिस भाषा का इस्‍तेमाल किया गया है, उसकी जितनी आलोचना की जाए, कम है।

अंत में, विश्‍वास न्‍यूज ने Mustak Limbadiya नाम के फेसबुक यूजर की सोशल स्‍कैनिंग की। इसी अकाउंट से राष्‍ट्रपति राम नाथ कोविंद की पुरानी तस्‍वीरों को गलत दावे के साथ वायरल की गई। फेसबुक अकाउंट के अनुसार मुस्‍ताक राजस्‍थान के रहने वाले हैं। इनके अकाउंट पर एक खास पार्टी के खिलाफ ही पोस्‍ट होती है।

निष्‍कर्ष : राष्‍ट्रपति की गरिमा को ठेस पहुंचाने वाली फेसबुक पोस्‍ट फर्जी साबित हुई। इन तस्‍वीरों को गलत मंतव्‍य के साथ वायरल किया जा रहा है।

  • Claim Review : तस्‍वीरों के माध्‍यम से दावा किया कि राष्‍ट्रपति राम नाथ कोविंद भाजपा नेताओं के सामने मजबूर हैं
  • Claimed By : फेसबुक यूजर मुस्‍ताक
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

कोरोना वायरस से कैसे बचें ? PDF डाउनलोड करें और जानिए कोरोना वायरस से जुड़ी महत्वपूर्ण सूचना

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later