X

Fact Check : तेलंगाना के सीएम के. चंद्रशेखर के चार साल पुराने वीडियो को दिल्ली शराब घोटाले से जोड़कर किया जा रहा शेयर

विश्वास न्यूज की पड़ताल में तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव के  वीडियो को लेकर किया जा रहा  दावा गलत साबित हुआ। मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव का वीडियो साल 2018 का है, जिसे अब भ्रामक दावे के साथ शेयर किया जा रहा है।

  • By Vishvas News
  • Updated: December 29, 2022

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। दिल्ली शराब नीति घोटाले मामले में तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव की बेटी कविता से सीबीआई की पूछताछ के बाद दावा किया जा रहा है कि के. चंद्रशेखर राव ने प्रधानमंत्री मोदी को अपना ‘अच्छा दोस्त’ बताया है। सोशल मीडिया पर यह दावा के. चंद्रशेखर राव के एक वीडियो के जरिए किया जा रहा है। 

विश्वास न्यूज की पड़ताल में वायरल दावा गलत साबित हुआ। वायरल वीडियो एडिटेड है और तकरीबन चार साल पुराना है। साल 2018 में उन्होंने एक प्रेस प्रेस कॉन्फ्रेंस में पीएम मोदी को लेकर यह बयान दिया था, जिसकी क्लिप को हाल का बताकर शेयर किया जा रहा है।

क्या है वायरल पोस्ट में ?

ट्विटर यूजर अनिल ने वायरल वीडियो को शेयर करते हुए अंग्रेजी में कैप्शन में लिखा है, “जैसी ही बेटी का नाम दिल्ली शराब नीति घोटाला मामले में आया। पापा पीएम मोदी के बेस्ट फ्रेंड बन गए ।”

पोस्ट के आर्काइव लिंक को यहां पर देखें।

पड़ताल

वायरल दावे की सच्चाई जानने के लिए हमने गूगल पर संबंधित कीवर्ड्स से सर्च करना शुरू किया। इस दौरान हमें पूरा वीडियो अराउंड तेलुगु नामक एक यूट्यूब चैनल पर अपलोड हुआ मिला। वीडियो को 4 मई 2018 को शेयर किया गया था। 31:40 मिनट पर उन्हें कहते हुए सुना जा सकता है, “मुझे पीएम मोदी से कोई परेशानी नहीं है। हम दोनों काफी अच्छे मित्र हैं, हम कई मुद्दों पर एक-दूसरे से बातचीत करते हैं। मुझे बीजेपी से भी कोई परेशानी नहीं है। मुझे देश की धीमी प्रगति से परेशानी हैं। मैं किसी शख्स पर या फिर किसी पार्टी आरोप नहीं लगा रहा हूं। देश में जो बदलाव हो रहे हैं, वो संतोषजनक नहीं है।”

प्राप्त जानकारी के आधार पर हमने गूगल पर संबंधित कीवर्ड्स से सर्च करना शुरू किया। इस दौरान इंडियन एक्सप्रेस के आधिकारिक वेबसाइट पर एक रिपोर्ट मिली। रिपोर्ट को 4 मई 2018 को शेयर किया गया था। रिपोर्ट के अनुसार, “मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने करीमनगर में हुई जनसभाओं में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ आपत्तिजनक  टिप्पणी की थी, जिस पर सफाई देते हुए अब उन्होंने पीएम मोदी को अपना प्रिय मित्र बताया है।”

टाइम्स ऑफ इंडिया सहित कई वेबसाइट ने इस खबर को प्रकाशित किया था।

इंडिया डॉट कॉम की वेबसाइट पर 4 मार्च 2018 को प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, “28 फरवरी को करीमनगर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए के. चंद्रशेखर राव ने दोनों प्रमुख राष्ट्रीय पार्टियों, भाजपा और कांग्रेस पर तीखे प्रहार किए थे। प्रधानमंत्री की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा था कि मैंने उनसे कम से कम 20 बार किसानों की समस्या पर ध्यान देने का आग्रह किया था, लेकिन कुछ नहीं हुआ। यदि लोग नरेंद्र मोदी से गुस्सा हो गए तो राहुल गांधी या कोई और गांधी नया प्रधानमंत्री बन जाएगा। इससे क्या फर्क पड़ेगा।  हमने पहले भी दशकों तक उनकी सरकार को देखा है। भाजपा आती है तो दीनदयाल उपाध्‍याय या श्‍यामा प्रसाद मुखर्जी की चर्चा करती है। कांग्रेस की सत्ता हो तो वे राजीव गांधी और इंदिरा गांधी की चर्चा करते हैं। दोनों पार्टियां बड़बोलेपन की शिकार हैं।”

हमारी अब तक की पड़ताल से यह साफ होता है कि  मुख्यमंत्री के.चंद्रशेखर राव का वायरल वीडियो तकरीबन चार साल पुराना है, जिसे गलत संदर्भ में अभी का बताकर शेयर किया जा रहा है।

वायरल दावे को लेकर हमने हैदराबाद के स्थानीय पत्रकार हर्षा कुमार से संपर्क किया। उन्होंने हमें बताया, वायरल वीडियो हाल-फिलहाल का नहीं, बल्कि चार साल पहले हुई एक प्रेस कॉन्फ्रेंस का है। इसका हालिया दिल्ली शराब नीति घोटाला मामले से कोई संबंध नहीं है। 

फर्जी पोस्ट करने वाले ट्विटर यूजर अनिल की प्रोफाइल को हमने स्कैन किया। इसके मुताबिक, वह दुबई में रहते हैं और उन्हें करीब 2 हजार 6 सौ से ज्यादा लोग ट्विटर पर फॉलो करते  हैं। 

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज की पड़ताल में तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव के  वीडियो को लेकर किया जा रहा  दावा गलत साबित हुआ। मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव का वीडियो साल 2018 का है, जिसे अब भ्रामक दावे के साथ शेयर किया जा रहा है।

  • Claim Review : Claim : बेटी कविता से सीबीआई की पूछताछ के बाद तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर रॉव ने पीएम मोदी को अच्छा मित्र बताया।
  • Claimed By : अनिल
  • Fact Check : झूठ
झूठ
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपनी प्रतिक्रिया दें

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later