X

Fact Check: वायरल फोटो में कुर्ते में लखीसराय के डीएम संजय कुमार सिंह नहीं, पूर्व जिला परिषद अध्यक्ष रमाशंकर हैं

सोशल मीडिया पर वायरल फोटो में कुर्ता और गमछा पहने खड़े शख्स डीएम संजय कुमार सिंह नहीं, बल्कि पूर्व जिला परिष्द अध्यक्ष रामशंकर शर्मा हैं। फोटो में डीएम सबसे बाईं तरफ खड़े दिख रहे हैं।

  • By Vishvas News
  • Updated: July 13, 2022
DM Sanjaya Kumar Singh

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। लखीसराय में कुर्ता-पायजामा पहने शिक्षक को फटकार लगाने वाले डीएम संजय कुमार सिंह को लेकर एक फोटो वायरल हो रही है। इसमें एक शख्स को कुर्ता पहने और गमछा डाले हुए देखा जा सकता है। फोटो शेयर करके यूजर्स दावा कर रहे हैं कि शिक्षक को डांटने वाले डीएम खुद उसी वेशभूषा में आईएएस की बजाय जनप्रतिनिधि बनकर घूम रहे हैं।

विश्वास न्यूज ने अपनी पड़ताल में पाया कि वायरल फोटो में कुर्ते में दिख रहे शख्स डीएम नहीं, बल्कि पूर्व जिला परिषद अध्यक्ष रामशंकर शर्मा हैं। अगस्त 2021 की इस फोटो में डीएम संजय सिंह सबसे बाईं तरफ लाइफ जैकेट पहने खड़े हैं। फोटो के साथ किया जा रहा वायरल दावा गलत है।

क्या है वायरल पोस्ट में

फेसबुक यूजर ‘दीपक प्रसाद’ (आर्काइव लिंक) ने 12 जुलाई को फोटो शेयर करते हुए लिखा,

शिक्षक को डाँटने वाले वो डीएम साहब खुद उसी वेशभूषा में आईएएस की बजाय जनप्रतिनिधि बनकर घूम रहे हैं। कोई तो वेतन रुकवाओ रे!!!!

या निर्बलों पर ही चलेगा हर डंडा?

सोशल मीडिया पर वायरल पोस्ट।

पड़ताल

वायरल फोटो की पड़ताल के लिए हमने सबसे पहले गूगल रिवर्स इमेज से इसे सर्च किया। इसमें हमें 14 अगस्त 2021 को jagran में छपी खबर का लिंक मिला। इसमें वायरल फोटो को भी अपलोड किया गया है। इसके कैप्शन में लिखा है कि डीएम ने लखीसराय में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने बाढ़ पीड़ितों को हरसंभव मदद का आश्वासन दिया। खबर के मुताबिक, डीएम संजय कुमार सिंह, एसपी, डीडीसी, एसडीओ और जिला परिषद अध्यक्ष बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का दौरा करने गए। लाइफ जैकेट पहने अधिकारियों को बाढ़ पीड़ितों ने अपनी समस्याओं से अवगत कराया।

लखीसराय प्रशासन की आधिकारिक वेबसाइट पर हमें डीएम संजय कुमार सिंह की फोटो मिली। वायरल फोटो और इस तस्वीर को ध्यान से देखने पर पता चलता है कि डीएम और वायरल फोटो में कुर्ता पहने शख्स एक जैसे नहीं हैं। इस बारे में हमने लखीसराय में दैनिक जागरण के रिपोर्टर मृत्युंजय मिश्रा को वायरल फोटो भेजी। उनका कहना है,’ वायरल फोटो में डीएम संजय कुमार सिंह सबसे बाएं खड़े हैं। कुर्ते में खड़े शख्स लखीसराय के पूर्व जिला परिषद अध्यक्ष रामशंकर शर्मा हैं।

इसकी अधिक पुष्टि के लिए हमने लखीसराय के डीएम संजय कुमार सिंह से बात की। उनका कहना है,’ फोटो में कुर्ता—पायजाम में मैं नहीं हूं। हम लाइफ जैकेट पहनकर बाढ़ग्रस्त क्षेत्र का दौरा करने जा रहे थे। कुर्ता पहने हुए शख्स का नाम तत्कालीन जिला परिषद अघ्यक्ष रामशंकर शर्मा हैं। मैं एक्सट्रीम लेफ्ट में हूं। मैंने लाइनिंग वाली टीशर्ट पहनी हुई है।‘ शिक्षक वाले मामले में उन्होंने कहा, ‘मैंने निरीक्षण किया था। स्कूल में मुझे काफी खामियां मिली थीं। आखिरी समय में मैंने देखा कि उनके कुर्ते के बटन भी खुले हैं। उन्होंने गमछा भी लिया हुआ था। मैंने कहा था कि आप गमछा हटा दीजिए। आप एक आदर्श शिक्षक हैं। आपको बच्चे आदर्श मानते हैं, उसके अनुसार रहिए। वहां मेरे साथ तीन-चार लोग थे। वहां स्कूल के अलावा कई जगह का निरीक्षण किया था। लोग वीडियो का कुछ हिस्सा वायरल कर रहे हैं। डीएम का पद काफी जिम्मेदारी वाला होता है। डीएम कभी भी शालीनता के विरुद्ध कोई काम नहीं करेगा।

फोटो में डीएम संजय कुमार सिंह (लाल घेरे में)।

13 जुलाई 2022 को news18 में छपी खबर के अनुसार, डीएम संजय कुमार सिंह बालगुदर में स्थित एक स्कूल का निरीक्षण करने गए थे। वहां स्कूल में खामियों को देखकर डीएम ने शिक्षक को कड़ी फटकार लगाई। उन्होंने शिक्षक की वेशभूषा को लेकर भी टिप्परणी की थी। उस दौरान टीचर ने कुर्ता-पायजामा पहना था और गमछा डाला हुआ था। इस बारे में बाद में डीएम ने कहा था कि कुर्ता-पायजामा से उनको कोई दिक्कत नहीं है। बाद में हमको भी लगा कि किसी के कपड़ों पर टिप्पणी नहीं करनी चाहिए थी।

फोटो को गलत दावे के साथ वायरल करने वाले फेसबुक यूजर ‘दीपक प्रसाद‘ की प्रोफाइल को हमने स्कैन किया। इसके मुताबिक, वह छपरा में रहते हैं और अक्टूबर 2011 से फेसबुक पर सक्रिय हैं।

निष्कर्ष: सोशल मीडिया पर वायरल फोटो में कुर्ता और गमछा पहने खड़े शख्स डीएम संजय कुमार सिंह नहीं, बल्कि पूर्व जिला परिष्द अध्यक्ष रामशंकर शर्मा हैं। फोटो में डीएम सबसे बाईं तरफ खड़े दिख रहे हैं।

  • Claim Review : शिक्षक को डांटने वाले डीएम खुद उसी वेशभूषा में आईएएस की बजाय जनप्रतिनिधि बनकर घूम रहे हैं।
  • Claimed By : FB User- Ðeepak Prasad
  • Fact Check : झूठ
झूठ
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later