X

Fact Check: शाहीन बाग में नहीं लगा ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ का नारा, समर्थकों ने लगाए थे ‘आसिफ खान जिंदाबाद’ के नारे

  • By Vishvas News
  • Updated: November 29, 2022

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। पुलिस को धमकाने और बदसलूकी के आरोप में कांग्रेस के पूर्व विधायक आसिफ मोहम्मद खान को गिरफ्तार किए जाने के बाद सोशल मीडिया पर उनके भाषण का एक वीडियो क्लिप वायरल हो रहा है, जिसे लेकर दावा किया जा रहा है कि शाहीन बाग इलाके में जब वह इजाजत के बिना एमसीडी चुनाव के लिए प्रचार कर रहे थे, तब वहां मौजूद उनके समर्थकों ने ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगाए।

विश्वास न्यूज की जांच में यह दावा गलत और राजनीतिक दुष्प्रचार निकला। वायरल वीडियो में ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ नहीं, बल्कि ‘आसिफ खान जिंदाबाद’ के नारे लगाए जा रहे हैं।

क्या है वायरल?

सोशल मीडिया यूजर ‘जितेंद्र हिंदू राष्ट्रवादी ‘ ने वायरल वीडियो (आर्काइव लिंक) को शेयर करते हुए लिखा है, ”क्या हमारा कानून,हाई कोर्ट,सुप्रीम कोर्ट,गृह मंत्रालय क्या यह सब नपुंसक हैं देश की राजधानी दिल्ली में इस पुलिसकर्मी के साथ इस तरह का अमानवीय व्यवहार किया गया क्या हम पाकिस्तान में हैं ???? क्या इस कांग्रेसी,पूर्व विधायक ओखला जामिया से आसिफ मोहम्मद खान पर कोई भी पुलिस कार्यवाही नहीं होगी इस भीड़ में उन बच्चों को ध्यान से देखो जो पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगा कर हंस रहे हैं…बड़े होकर यह बच्चे क्या भारत के हित में कोई कार्य करेंगे ??????यह हाल कुछ समय के बाद पूरे देश में हो जाएगा..जागो देश के सोए हुए नागरिकों…कृपया सभी लोग शेयर करें 🙏।”

सोशल मीडिया के अलग-अलग प्लेटफॉर्म्स पर कई अन्य यूजर्स ने इस वीडियो को समान और मिलते-जुलते दावे के साथ शेयर किया है।

पड़ताल

न्यूज रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली में राज्य चुनाव आयोग से अनुमति लिए बिना (एमसीडी चुनाव प्रचार) सभा करने के बारे में पूछे जाने पर कांग्रेस के पूर्व विधायक आसिफ मोहम्मद खान ने पुलिस के साथ बदसलूकी की थी, जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था। रिपोर्ट के मुताबिक, आसिफ मोहम्मद खान तैय्यब मस्जिद के सामने करीब 20-30 की संख्या में वहां पर मौजूद लोगों को संबोधित कर रहे थे और इसी दौरान सब इंस्पेक्टर अक्षय के खान से यह पूछे जाने पर कि क्या उन्होंने इस सभा के लिए मंजूरी ले रखी है, वह आगबबूला हो गए और सब इंस्पेक्टर के साथ अभद्रता पर उतर आए।

दिल्ली पुलिस के हवाले से न्यूज एजेंसी एएनआई की तरफ से दी गई जानकारी के मुताबिक, तैय्यब मस्जिद के पास पैट्रोलिंग के दौरान दिल्ली पुलिस के कॉन्स्टेबल ने भीड़ जमा देखी, जहां पर आसिफ मोहम्मद खान अपने समर्थकों को लाउडस्पीकर के जरिए संबोधित कर रहे थे।

सभा के बारे में चुनाव आयोग की मंजूरी के बारे में पूछे जाने पर आसिफ खान आक्रामक हो गए और उन्होंने अधिकारी के साथ दुर्व्यवहार करना शुरू कर दिया। इसके बाद शाहीन बाग थाने में आसिफ के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की गई और उसके बाद खान को गिरफ्तार कर लिया गया।

एएनआई के ट्वीट में इस्तेमाल की गई तस्वीर वायरल वीडियो के स्क्रीनशॉट से मेल खाती है, जिसे कोलाज में स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है।

किसी भी न्यूज रिपोर्ट में हमें इस सभा के दौरान ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ का नारा लगाए जाने का जिक्र नहीं मिला। वायरल वीडियो को लेकर विश्वास न्यूज ने शाहीन बाग पुलिस स्टेशन में पदस्थापित सब इंस्पेक्टर अक्षय डागर से संपर्क किया, जो वहां पर मौजूद थे और जिनके साथ बदसलूकी की गई थी।

‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ नारा लगाए जाने के दावे का खंडन करते हुए उन्होंने बताया कि उनकी मौजूदगी में लोगों ने ‘आसिफ खान जिंदाबाद’ के नारे लगाए थे।

सोशल मीडिया पर इस वाकये के वीडियो क्लिप को कई यूजर्स ने शेयर किया है और सभी में स्पष्ट रूप से ‘आसिफ खान जिंदाबाद’ के नारा को सुना जा सकता है। कई न्यूज चैनलों के वीडियो बुलेटिन में भी इस वीडियो को शामिल किया गया है, जिसमें समर्थकों को ‘आसिफ खान जिंदाबाद’ का नारा लगाते हुए सुना जा सकता है।

वायरल वीडियो को गलत दावे के साथ शेयर करने वाले यूजर को फेसबुक पर पर करीब एक हजार से अधिक लोग फॉलो करते हैं। यह प्रोफाइल विचारधारा विशेष से प्रेरित है।

निष्कर्ष: एमसीडी चुनाव प्रचार को लेकर कांग्रेस के पूर्व विधायक आसिफ मोहम्मद खान और दिल्ली पुलिस के जवान के बीच हुई झड़प के दौरान खान के समर्थकों ने ‘आसिफ खान जिंदाबाद’ के नारे लगाए थे, जिसे सोशल मीडिया पर गलत रंग देकर ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ का नारा लगाए जाने के दावे के साथ वायरल किया जा रहा है।

  • Claim Review : आसिफ मोहम्मद खान की सभा में समर्थकों ने लगाए पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे।
  • Claimed By : FB User-जितेंद्र हिंदू राष्ट्रवादी
  • Fact Check : झूठ
झूठ
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपनी प्रतिक्रिया दें

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later