X

Fact Check: सिंगर का दो साल पुराना रैप सोशल मीडिया पर भ्रामक दावों के साथ वायरल

  • By Vishvas News
  • Updated: February 22, 2021

नई दिल्‍ली (Vishvas News)। सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें एक रैपर स्टेज पर परफॉर्म करता है और अपने रैप में किसानों की व्यथा सुनाता है। अपने रैप में एक जगह वह कहता है—कृषि प्रधान देश कृषि संकट पे ना गौर, अब या तो अत्महत्या या फिर आंदोलन की ओर। इस पर जजेज खड़े हो कर तालियां बजाते हैं। दावा किया जा रहा है कि मिस इंडिया कंटेस्ट के बाद एमटीवी पर किसान आंदोलन का मुद्दा एक बार फिर गूंजा है। इस गाने को किसान आंदोलन से जोड़कर इसे ताजा वीडियो दर्शाया गया है।

विश्वास न्यूज ने पड़ताल में पाया कि वायरल पोस्ट के साथ किया जा रहा दावा भ्रामक है। वायरल हो रहा वीडियो रैपर संतनम श्रीनिवासन अय्यर उर्फ ईपीआर ने अक्टूबर 2019 में एमटीवी एक टैलेंट हंट शो एमटीवी हसल के फिनाले में गाया था, जबकि नया कृषि कानून सितंबर 2020 में लागू हुआ था, जिसके बाद किसान आंदोलन शुरू हुआ। वायरल वीडियो का मौजूदा किसान आंदोलन से कोई संबंध नहीं है।

क्या है वायरल पोस्ट में?

फेसबुक यूजर Sahib Virk ने पोस्ट शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा: मिस इंडिया कंटेस्ट के बाद एक बार फिर से गूंजा किसान आंदोलन का मुद्दा MTV पर जजों ने स्टैंडिंग ओवियेशन दी।
बात निकली है तो दूर तलक जाएगी….

वायरल पोस्ट का आर्काइव्ड वर्जन यहां देख सकते हैं।

यह वीडियो ट्विटर पर भी शेयर की जा रही हैं, वहां इसे किसान रैप का नाम दिया गया है।

पड़ताल

विश्वास न्यूज ने पड़ताल शुरू करते हुए सबसे पहले इनविड टूल की मदद से वायरल वीडियो के कीफ्रेम्स काटे और इसे गूगल रिवर्स इमेज सर्च की मदद से ढूंढा। हमें इस वीडियो को डाउनलोड करने का ऑप्शन songatak.vip नाम की वेबसाइट पर मिला, जहां इस वीडियो के कैप्शन में लिखा गया था EPR Tobe Ekla Cholo Re Rap Farmer Life ABSTRACTED TV Heart Touching Rap

इसके बाद हमने इंटरनेट पर कीवर्ड्स की मदद से सर्च किया तो हमें वायरल वीडियो का लंबा वर्जन Abstracted TV नामक यूट्यूब चैनल पर मिल गया। यहां यह वीडियो 8 नवंबर 2019 को अपलोड किया गया था। वीडियो के साथ दिए गए डिस्क्रिप्शन के अनुसार, यह वीडियो एमटीवी हसल नाम के एक टैलेंट हंट शो का है और इसे ईपीआर नामक ​रैपर ने गाया है। ईपीआर का पूरा नाम संतनम ​श्रीनिवासन अय्यर है और इस गाने का नाम तोबे एकला चालो रे है।

हमें यह वीडियो ईपीआर के वेरिफाइड इंस्टाग्राम अकाउंट पर भी मिला। यहां उन्होंने यह वीडियो 15 अक्टूबर 2019 को अपलोड किया था।

हमने इंस्टाग्राम के ही जरिए ईपीआर से संपर्क किया। उन्होंने बताया कि रैप उन्होंने एमटीवी हसल के फिनाले में अक्टूबर 2019 में गाया था। यह गाना कृषि कानून के आने से काफी पहले लिखा गया था। हालांकि, उन्होंने बताया कि वे वर्तमान में जारी किसान आंदोलन पर भी एक गाना लिख रहे हैं और अगले महीने उस गाने को रिलीज करेंगे।

अब बारी थी फेसबुक पर इस पोस्ट को साझा करने वाले यूजर Sahib Virk के बारे में जानने की। हमने यूजर की प्रोफाइल को स्कैन किया तो पाया कि इस यूजर करनाल, हरियाणा का रहने वाला है और खबर लिखे जाने तक उसके 368 फॉलोअर्स थे।

निष्कर्ष: सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा रैप दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन के लिए नहीं लिखा गया है, यह ​रैप अक्टूबर 2019 में एमटीवी हसल नामक टैलेंट हंट शो के फिनाले में पहली बार गाया गया था। वायरल पोस्ट के साथ किया गया दावा भ्रामक है।

  • Claim Review : किसान आंदोलन के समर्थन में वायरल हो रहा रैप
  • Claimed By : FB User: Sahib Virk
  • Fact Check : भ्रामक
भ्रामक
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later