X

Fact Check: फर्जी कोरोना टेस्ट रिजल्ट को लेकर गिरफ्तार हुए व्यक्ति की तस्वीर को सांप्रदायिक दावे के साथ किया जा रहा है वायरल

  • By Vishvas News
  • Updated: March 17, 2021

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज़)। सोशल मीडिया पर मास्क पहने लैब टेक्नीशियन की एक तस्वीर को शेयर कर दावा किया जा रहा है कि इस व्यक्ति का नाम अब्दुल खान है। यह एक समुदाय विशेष से ताल्लुक रखने वाला व्यक्ति है, जिसे दूसरे समुदाय के करोना निगेटिव लोगों की पॉजिटिव रिपोर्ट बनाने के लिए गिरफ्तार किया गया है।

विश्वास न्यूज़ ने अपनी पड़ताल में पाया कि वायरल दावा गलत है। तस्वीर में दिख रहे व्यक्ति का नाम अमर बहादुर चौधरी है और वह हिंदू है। यह शख्स उन्नाव की एक लैब में तकनीशियन था, जिसे पैसे लेकर लोगों की फर्जी कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट बनाने के जुर्म में गिरफ्तार किया गया था।
मामला सांप्रदायिक नहीं था।

क्या है वायरल वीडियो?

वायरल तस्वीर में एक व्यक्ति की तस्वीर को शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है, “मुंबई का लैब तकनीशियन अब्दुल खान कोरोना निगेटिव हिंदुओं का पॉजिटिव रिपोर्ट बना रहा था, गिरफ्तार सेक्युलर कीडे इसे गंगा जमुनी तहज़ीब बता के चादर ओड के सो जाएँगे 🙄😏🧐”

वायरल पोस्ट का आर्काइव लिंक यहां और यहां देखा जा सकता है।

पड़ताल

अपनी जांच शुरू करने के लिए हमने सबसे पहले इस तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज पर सर्च किया। हमें hindi.news18.com पर 16 दिसंबर 2020 को प्रकाशित एक खबर में यह तस्वीर मिली। खबर के अनुसार, “उन्नाव में जांच के बाद आने वाली कोरोना रिपोर्ट को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है. यहां जिला अस्पताल में रुपये लेकर फर्जी कोविड रिपोर्ट बनाई जा रही थी. पुलिस ने फर्जी रिपोर्ट बनाने वाले संविदा स्वास्थ्य कर्मी अमर बहादुर चौधरी सहायक लैब टेक्नीशियन को गिरफ्तार कर लिया गया है. वहीं जिला स्वास्थ्य विभाग ने स्वास्थ्य कर्मी की सेवा समाप्त करने के लिए सेवा देने वाली कंपनी को पत्र भेजा है. सूत्रों की मानें तो फर्जी कोविड-19 रिपोर्ट बनाने के आरोप में पकड़ा गया व्यक्ति दूसरे नेगेटिव आने वाले व्यक्ति का सैंपल जांच के लिए भेज देता था, जिससे रिपोर्ट नेगेटिव आ जाती थी, वहीं सूत्रों की मानें तो फर्जी रिपोर्ट बनाने के खेल में उसे हर रिपोर्ट के 1500 रुपए मिलते थे.”

कीवर्ड्स सर्च करने पर हमें यह खबर और भी कई न्यूज़ वेबसाइटों पर मिली। सभी ख़बरों के अनुसार, गिरफ्तार किये गए व्यक्ति का नाम अमर बहादुर चौधरी ही है। किसी भी खबर में मामले के सांप्रदायिक होने का ज़िक्र नहीं था।

हमने पुष्टि के लिए उन्नाव के सदर कोतवाली के एसएचओ दिनेश कुमार मिश्रा से फ़ोन के ज़रिये संपर्क किया। उन्होंने कहा, “वायरल पोस्ट में दिख रहा शख्स उन्नाव की एक लैब का टेक्निशियन है, जिसका नाम अमर बहादुर चौधरी है और वह हिंदू है। फर्जी रिपोर्ट बनाने के जुर्म में इसे गिरफ्तार किया गया था। मामला सांप्रदायिक नहीं था।”

अब हमें जानना था कि क्या मुंबई में ऐसी कोई घटना हुई है? हमने कीवर्ड्स से सर्च किया तो हमें hindustantimes.com की एक खबर मिली। खबर के अनुसार, (अनुवादित) “शिवाजी नगर पुलिस ने एक पैथोलॉजी लैब के मालिक को शुक्रवार को 71 वर्षीय कोविड -19 रोगी की जाली नेगेटिव रिपोर्ट देने के आरोप में गिरफ्तार किया। 31 वर्षीय अब्दुल खान के रूप में पहचाने गए गिरफ्तार आरोपी 9 मार्च तक पुलिस हिरासत में हैं। पुलिस ने जांच के दौरान पाया कि खान ने कोविड -19 के लक्षण वाले लोगों के स्वैब एकत्र किए थे और कथित तौर पर परीक्षण किए बिना ही झूठी रिपोर्ट तैयार की थी।” हमें यह खबर और भी कुछ न्यूज़ वेबसाइटों पर मिली। हालांकि, सभी ख़बरों के अनुसार पकड़े गए व्यक्ति का नाम अब्दुल खान ही था मगर इस खबर में भी कोई सांप्रदायिक एंगल होने का ज़िक्र नहीं था।

इस पोस्ट को फेसबुक पेज “Hindu” ने शेयर किया था। इस पेज को 83,999 लोग फॉलो करते हैं।

निष्कर्ष: Vishvas News ने अपनी पड़ताल में पाया कि वायरल दावा झूठा है। तस्वीर में दिख रहे व्यक्ति का नाम अमर बहादुर चौधरी है और वह हिंदू है। यह शख्स उन्नाव की एक लैब में तकनीशियन था, जिसे पैसे लेकर लोगों की फर्जी कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट बनाने के जुर्म में गिरफ्तार किया गया है। मामला सांप्रदायिक नहीं था।

  • Claim Review : मुंबई का लैब तकनीशियन अब्दुल खान कोरोना निगेटिव हिंदुओं का पॉजिटिव रिपोर्ट बना रहा था, गिरफ्तार सेक्युलर कीडे इसे गंगा जमुनी तहज़ीब बता के चादर ओड के सो जाएँगे
  • Claimed By : Hindu
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later