FACT CHECK: जावेद अख्तर के नाम पर फर्जी बयान हो रहा है वायरल

0

नई दिल्ली (विश्वास टीम)।  सोशल मीडिया पर आजकल मशहूर लेखक जावेद अख्तर की तस्वीर के साथ एक पोस्ट वायरल हो रही है जिसमें लिखा है, “मुस्लिम बहुल कश्मीर में हिन्दू पंडितों को घरवापसी नहीं करने दे रहे इसका मतलब ये नहीं कि रोहिंग्या मुसलमानों को भी भारत से निकला जाय। भारत सेक्युलर देश है, हिन्दुओं के बाप की जागीर नहीं।” हमारी पड़ताल में हमने पाया कि यह पोस्ट गलत है। जावेद अख्तर ने ऐसा कोई बयान नहीं दिया है।

CLAIM

वायरल पोस्ट में मशहूर लेखक जावेद अख्तर की तस्वीर के साथ लिखा है, “मुस्लिम बहुल कश्मीर में हिन्दू पंडितों को घरवापसी नहीं करने दे रहे इस का मतलब ये नहीं कि रोहिंग्या मुसलमानों को भी भारत से निकला जाय। भारत सेक्युलर देश है, हिन्दुओं के बाप की जागीर नहीं।”

FACT CHECK

इस खबर की पड़ताल के लिए हमने सबसे पहले इस खबर को मेन स्ट्रीम मीडिया पर ढूंढा पर किसी भी बड़े मीडिया हाउस ने इस खबर कोई नहीं चलाया था। इसके बाद हमने जावेद अख्तर के सोशल मीडिया एकाउंट्स को स्कैन किया। जावेद अख्तर का कोई भी वेरिफाइड फेसबुक अकाउंट नहीं है इसलिए यह कह पाना मुश्किल है कि वे फेसबुक पर हैं या नहीं। हमने उनके ट्विटर अकाउंट को जांचा तो पाया कि उन्होंने किसी भी ट्वीट में ऐसा कुछ नहीं लिखा।

हमने पुष्टि के लिए जावेद अख्तर के मैनेजर श्रवण कुमार से बात की जिन्होंने हमें बताया कि यह खबर गलत है। जावेद अख्तर ने कभी भी ऐसी कोई बात नहीं कही है।

इस पोस्ट को Anjali Dharmesh Thakkar‎ नाम के एक फेसबुक यूजर ने I Support Namo नाम के एक फेसबुक पेज पर शेयर किया था। इस पेज के कुल 479,592 मेंबर्स हैं।

निष्कर्ष: हमारी पड़ताल में हमने पाया कि यह पोस्ट गलत है। जावेद अख्तर ने रोहिंग्या और कश्मीरी पंडितों को लेकर ऐसा कोई बयान नहीं दिया है।

पूरा सच जानें…

सब को बताएं सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी खबर पर संदेह है जिसका असर आप, समाज और देश पर हो सकता है तो हमें बताएं। हमें यहां जानकारी भेज सकते हैं। हमें contact@vishvasnews।com पर ईमेल कर सकते हैं। इसके साथ ही वॅाट्सऐप (नंबर – 9205270923) के माध्‍यम से भी सूचना दे सकते हैं।

Written BY Pallavi Mishra
  • Claim Review : जावेद अख्तर ने रोहिंग्यों और कश्मीरी पंडितों को लेकर दिया विवादास्पद बयान
  • Claimed By : I Support Namo
  • Fact Check : False

टैग्स

कोई जवाब दें

संबंधित लेख