X

Fact Check: आरबीआई ने नहीं जारी की एक रुपए के नोट सहित यह नई करंसी, वायरल पोस्ट है भ्रामक

  • By Vishvas News
  • Updated: December 23, 2020

नई दिल्ली (विश्वास टीम)। सोशल मीडिया पर एक पोस्ट वायरल हो रही है, जिसमें कुछ तस्वीरें हैं। इन तस्वीरों में गुलाबी व हरे रंग के एक रुपए के नोटों के बंडल, 150 रुपए, 100 रुपए व 20 रुपए के सिक्के देखे जा सकते हैं। दावा किया जा रहा है कि भारत की यह नई करंसी 19 दिसंबर को लॉन्च की गई है।

विश्वास न्यूज ने पड़ताल में पाया भारत में करंसी छापने का अधिकार केवल भारत सरकार के पास है और इस करंसी को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के जरिए जारी किया जाता है। वायरल पोस्ट में किया जा रहा दावा भ्रामक है। आरबीआई ने हाल ही में कोई नई करंसी जारी नहीं की है। वायरल पोस्ट में दिख रहे सिक्के कोमेमोरेटिव कॉइंस (स्मारक सिक्के) हैं।

क्या है वायरल पोस्ट में?

वायरल पोस्ट में चार तस्वीरें हैं। पहली तस्वीर में 1 रुपए के गुलाबी व हरे नोटों के बंडल हैं, दूसरी तस्वीर में 150 रुपए का सिक्का, तीसरी तस्वीर में 100 रुपए का सिक्का और चौथी तस्वीर में 20 रुपए का सिक्का है। पोस्ट के साथ लिखा गया है: भारत की नई करेंसी जो आज लांच हुई। यह पोस्ट 19 दिसंबर की है।

पोस्ट का आर्काइव्ड वर्जन यहां देखा जा सकता है।

पड़ताल

विश्वास न्यूज ने अपनी पड़ताल में सबसे पहले इंटनेट पर नई करंसी जारी होने संबंधी मीडिया रिपोर्ट ढूंढने की कोशिश की, लेकिन हमें ऐसी कोई मीडिया रिपोर्ट नहीं मिली। अगर नई करंसी जारी हुई होती तो यह मीडिया में सुर्खियां बटोरती।

हमारे देश में करंसी जारी करने का अधिकार केवल रिजर्व बैंक आॅफ इंडिया को है। लिहाजा हमने आरबीआई की आधिकारिक वेबसाइट पर भी ढूंढने की कोशिश की, लेकिन हमें नई करंसी जारी करने संबंधी कोई प्रेस रिलीज या जानकारी यहां नहीं मिली।

आरबीआई की वेबसाइट पर करंसी प्रेस रिलीज वाले सेक्शन में भी हमें इससे संबंधित कोई जानकारी नहीं मिली।

इसके बाद हमने एक-एक कर इन तस्वीरों को गूगल रिवर्स इमेज सर्च की मदद से ढूंढा। एक रुपए के नोट वाली तस्वीर को रिवर्स सर्च करने पर हमने पाया कि यह तस्वीर साल 2015 में अमर उजाला में प्राकाशित हुए एक आर्टिकल में मिली।

थोड़ा और सर्च करने पर हमें मई 2017 में प्रकाशित एक न्यूज रिपोर्ट मिली, जिसमें यह लिखा गया था कि गुलाबी व हरे रंग के एक रुपए के नोट जल्द ही सर्कुलेशन में आएंगे। साल 1994 में सरकार ने एक रुपए के नोट की प्रिंटिंग बंद कर दी थी, लेकिन साल 2015 में इसे फिर से शुरू किया गया था।

हमने इस पर ताजा जानकारी लेने के लिए आरबीआई के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर पी. विजय कुमार के निजी सचिव से बात की। उन्होंने बताया कि अभी यह नोट जारी नहीं हुए हैं, वहीं वायरल पोस्ट में नजर आ रहे बाकी सिक्के कोमेमोरेटिव कॉइंस हैं।

कोमेमोरेटिव कॉइंस किसी न किसी अवसर पर या किसी की याद में जारी किए जाते हैं, यह करंसी नहीं होती, यानी कि दूसरे सिक्कों की तरह इससे बाजार से सामान नहीं खरीदा जाता।

150 रुपए का सिक्का

पड़ताल में हमने पाया कि साल 2011 में तत्कालीन वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने इनकम टैक्स कलेक्शन के 150 साल पूरे होने पर 150 रुपए का स्मारक सिक्का जारी किया था। वायरल तस्वीर में नजर आ रहा 150 रुपए का सिक्का वही सिक्का है। इससे संबंधित न्यूज रिपोर्ट यहां पढ़ी जा सकती है।

100 रुपए का सिक्का

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2018 में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की याद में 100 रुपए का स्मारक सिक्का जारी किया था। सिक्के की तस्वीरें व इससे जुड़ी मीडिया रिपोर्ट यहां पढ़ी जा सकती है।

20 रुपए का सिक्का

हमें प्रेस इन्फॉर्मेशन ब्यूरो की 11 नवंबर 2013 की प्रेस रिलीज मिली। इसके अनुसार, उस समय वित्त मंत्री रहे पी चिदम्बरम ने मौलाना अब्दुल कलाम आजाद की 125वीं जयंती के अवसर पर 20 रुपए का स्मारक सिक्का जारी किया था। इससे जुड़ी मीडिया रिपोर्ट यहां पढ़ी जा सकती है।

आरबीआई के अनुसार, फिलहाल सर्कुलेशन में केवल 50 पैसे, 1 रुपया, दो रुपए, पांच रुपए व 10 रुपए का सिक्का ही सर्कुलेशन में है।

फेसबुक पर वायरल पोस्ट Chandu Bhai Kasodriya नामक यूजर ने शेयर की है। यूजर की प्रोफाइल को स्कैन करने पर हमने पाया कि यूजर गुजरात का रहने वाला है।

निष्कर्ष: आरबीआई ने जारी नहीं की है कोई नई करंसी। वायरल पोस्ट में नजर आ रहे सिक्के स्मारक सिक्के हैं, जबकि एक रुपए का नोट अभी सर्कुलेशन में नहीं आया है।

  • Claim Review : भारत में जारी हुआ 1 रुपए का नोट, 150 रुपए, 100 रुपए व 20 रुपए के सिक्कों की नई करंसी।
  • Claimed By : FB User : Chandu Bhai Kasodriya
  • Fact Check : भ्रामक
भ्रामक
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later