X

Fact Check: कोरोना वायरस के चलते मौत का शिकार हुए डॉ. सुंदर तोलानी की तस्वीर नहीं है यह

  • By Vishvas News
  • Updated: July 23, 2020

नई दिल्ली (विश्वास टीम)। सोशल मीडिया पर नीले रंग के कपड़ों में एक डॉक्टर की तस्वीर वायरल हो रही है, जिसके साथ दावा किया जा रहा है कि जयपुर के वरिष्ठ यूरोलॉजिस्ट डॉ. सुंदर तोलानी का कोरोना वायरस के चलते निधन हो गया है।

विश्वास न्यूज ने पड़ताल में पाया कि डॉ. तोलानी का कोरोना वायरस के चलते 22 जुलाई की सुबह निधन हो गया, लेकिन वायरल हो रही तस्वीर डॉ. तोलानी की नहीं, बल्कि जयपुर के ही यूरोलॉजिस्ट डॉ. टी सी सदासुखी की है और डॉ. सदासुखी पूरी तरह से स्वस्थ हैं।

क्या है वायरल पोस्ट में?

फेसबुक पेज Medicos United  ने यह तस्वीर साझा करते हुए कैप्शन में लिखा: ” #RIP_CORONA_WARRIOR जयपुर के वरिष्ठ यूरोलोजिस्ट डॉ. सुंदर तोलानी का कोरोना से निधन, किया था राजस्थान का पहला किडनी ट्रांसप्लांट इंडिया लॉस्ट ए ग्रेट न्यूरोलॉजिस्ट हू वाज फेमस फॉर कंडक्टिंग फर्स्ट किडनी ट्रांस्प्लांट इन राजस्थान. जयपुर ग्रेट न्यूरोलॉजिस्ट डॉक्टर सुंदर तोलानी डाइड डयू टू कोविड 19. नमन.”

पोस्ट का आर्काइव्ड वर्जन यहां देखा जा सकता है।


पड़ताल

वायरल हो रही पोस्ट के साथ किए जा रहे दावों की हमने एक—एक कर पड़ताल की।

पोस्ट में किया गया सबसे पहला दावा कि जयपुर के वरिष्ठ यूरोलॉजिस्ट डॉ. सुंदर तोलानी का कोरोना से निधन हो गया है, यह सच है।

विश्वास न्यूज ने डॉ. तोलानी के घर फोन किया। हमारी बात उनके बड़े भाई पी एल तोलानी से हुई। उन्होंने पुष्टि की कि डॉ. तोलानी कोरोना पेशेंट्स का इलाज कर रहे थे और इसी बीच वे खुद कोरोना पॉजिटिव हो गए। करीब 22 दिन तक जिंदगी की जंग लड़ने के बाद 22 जुलाई की सुबह उनका निधन हो गया। वे 67 साल के थे। वे यूरोलॉजिस्ट थे।

वायरल पोस्ट में आगे दावा किया गया है कि राजस्थान का पहला किडनी ट्रांस्प्लांट डॉ. तोलानी ने किया था। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार उन्होंने साल 1986 में राजस्थान का पहला किडनी ट्रांस्पलांट किया था। हालांकि देश का पहला स्टेम सेल किडनी ट्रांस्प्लांट जयपुर के एसएमएस हॉस्पिटल में वर्ष 2010 में हुआ था। एसएमएस हॉस्पिटल जयपुर के यूरोलॉजिस्ट डॉ. टीसी सदासुखी इस टीम का हिस्सा थे। डॉ. सदासुखी ने विश्वास न्यूज को इस बात की पुष्टि की।

वायरल पोस्ट में आगे डॉ. तोलानी को न्यूरोलॉजिस्ट बताया गया है। यह दावा भी गलत है। डॉ. तोलानी यूरोलॉजिस्ट थे, न्यूरोलॉजिस्ट नहीं। यूरोलॉजिस्ट यूरिनरी ट्रैक्ट से संबंधित बीमारियों का इलाज करते हैं, जबकि न्यूरोलॉकजस्ट नर्वस सिस्टम की बीमारियों का इलाज करते हैं।

वायरल पोस्ट के साथ मौजूद कमेंट्स में हमने कुछ यूजर्स के कमेंट्स पढ़े। कमेंट्स में लिखा था कि वायरल तस्वीर डॉ. सुंदर लाल तोलानी की नहीं है। हमने इसी पुष्टि के लिए वायरल तस्वीर को जब गूगल रिवर्स इमेज सर्च की मदद से ढूंढा तो पाया कि यह तस्वीर जयपुर के ही यूरोलॉजिस्ट डॉ. टीसी सदासुखी की है।

विश्वास न्यूज ने इसके बाद डॉ. सदासुखी से संपर्क किया। उन्होंने खुद फोन पर बात करते हुए यह साफ किया कि वे पूरी तरह स्वस्थ हैं और उन्हें कोरोना नहीं हुआ है।

यह है डॉ. तोलानी की तस्वीर

निष्कर्ष: कोरोना वायरस के चलते डॉ. तोलानी का निधन 22 जुलाई को हो गया है, लेकिन वायरल हो रही तस्वीर डॉ. सदासुखी की है और वे पूरी तरह स्वस्थ हैं।

  • Claim Review : डॉ. तोलानी की तस्वीर, उनका कोरोना वायरस के चलते निधन हो गया.
  • Claimed By : Facebook Page: Medicos United
  • Fact Check : भ्रामक
भ्रामक
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

कोरोना वायरस से कैसे बचें ? PDF डाउनलोड करें और जानिए कोरोना वायरस से जुड़ी महत्वपूर्ण सूचना

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later