X

Fact Check: दिल्ली के साफ वातावरण की यह तस्वीर दिवाली के बाद की नहीं पुरानी है, वायरल दावा गलत

विश्वास न्यूज की पड़ताल में दिल्ली के प्रदूषण को लेकर वायरल दावा गलत साबित हुआ। वायरल तस्वीर दिवाली के बाद की नहीं, बल्कि दिल्ली की तकरीबन दो महीने पुरानी है। जिसे अब गलत दावे के साथ सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है।

  • By Vishvas News
  • Updated: November 4, 2022

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। दिवाली के बाद दिल्ली सहित पूरे NCR की आबोहवा प्रदूषित हो जाती है। प्रदूषण के मामले में दिल्ली के हालात इस समय गंभीर हैं। राजधानी में एक्यूआई गंभीर श्रेणी में है। इसी बीच सोशल मीडिया पर साफ और खुले आसमान की एक तस्वीर तेजी से वायरल हो रही है। इस तस्वीर को शेयर कर दावा किया जा रहा है कि यह तस्वीर दिवाली के बाद दिल्ली की है। जहां का मौसम बिल्कुल साफ और प्रदूषण मुक्त है।

विश्वास न्यूज की पड़ताल में वायरल दावा गलत साबित हुआ। वायरल तस्वीर दिवाली के बाद की नहीं, बल्कि तकरीबन दो महीने पुरानी है। जिसे अब गलत दावे के साथ सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है।

क्या है वायरल पोस्ट में ?

ट्विटर यूजर कमल तिवारी ने वायरल तस्वीर को शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा है, “ताजा दृश्य धौलाकुआँ(दक्षिण दिल्ली) का है!मैं पिछले 5 साल से दिल्ली यूनिवर्सिटी मे पढाई कर रहा हूँ और आज तक दिवाली वाले दिन दिल्ली को इतना साफ नही देखा। दिल्ली के 2 करोड़ लोगों को बधाई।”

रिपोर्ट लिखे जाने तक पोस्ट पर 1,128 लाइक्स, 393 रिट्वीट और 142 कंमेंट्स थे। इस पोस्ट के आर्काइव वर्जन को यहां क्लिक कर देखा जा सकता है। सोशल मीडिया पर कई अन्य यूजर्स इससे मिलते-जुलते दावों को शेयर कर रहे हैं।

https://twitter.com/_KamalTiwari/status/1584505432982589440

पड़ताल

वायरल दावे की सच्चाई जानने के लिए हमने फोटो को गूगल रिवर्स इमेज के जरिए सर्च किया। इस दौरान हमें वायरल तस्वीर कई न्यूज रिपोर्ट्स में प्रकाशित मिली। 29 अगस्त 2022 को प्रकाशित इकोनॉमिक टाइम्स के एक लेख में इस तस्वीर का इस्तेमाल किया है। रिपोर्ट के अनुसार, यह तस्वीर धौला कुआं के आस-पास के इलाके की है। रिपोर्ट में इस तस्वीर का इस्तेमाल करते हुए बताया गया है कि धौलाकुआं से लेकर आईजीआई हवाई अड्डे तक 8 किलोमीटर की सड़क बनाने का काम 3 महीने में पूरा हो जाएगा।

पड़ताल को आगे बढ़ाते हुए हमने गूगल पर संबंधित कीवर्ड्स से सर्च करना शुरू किया। हमें यह तस्वीर Prokerala न्यूज की वेबसाइट पर 11 अगस्त, 2022 को प्रकाशित एक रिपोर्ट में मिली। रिपोर्ट में तस्वीर को रक्षा बंधन के समय का बताया गया है। हमें यह तस्वीर सोशल न्यूज की एक रिपोर्ट में भी मिली। तस्वीर का श्रेय न्यूज एजेंसी आईएएनएस के फोटो जर्नलिस्ट वसीम सरवर को देते हुए कैप्शन में लिखा गया है, रक्षा बंधन के कारण धौला कुआं का यातायात धीमा हुआ।

हमने वायरल तस्वीर को न्यूज एजेंसी आईएएनएस की आधिकारिक वेबसाइट पर भी जाकर सर्च किया। यहां पर भी हमें यह तस्वीर इसी जानकारी के साथ 11 अगस्त 2022 को अपलोड की हुई मिली।

पूरी तरह से पुष्टि करने के लिए हमने आईएनएस के फोटो जर्नलिस्ट वसीम सरवर से संपर्क किया। उन्होंने हमें बताया कि वायरल दावा गलत है। यह तस्वीर दिवाली के बाद की नहीं, बल्कि पहले की है। यह तस्वीर मैंने रक्षा बंधन के समय धौला कुआं के पास ली थी।

दैनिक जागरण पर 3 नवंबर 2022 को प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक, देश की राजधानी दिल्ली में गुरुवार, 3 नवंबर को प्रदूषण का स्तर बेहद गंभीर रहा। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अनुसार, बीते आठ दिनों से यहां प्रदूषण का स्तर 400 के पार ही रहा।

विश्वास न्यूज ने पड़ताल के अंत में फर्जी पोस्ट को शेयर करने वाले यूजर कमल तिवारी की सोशल स्कैनिंग की। प्रोफाइल पर दी गई जानकारी के मुताबिक, यूजर दिल्ली का रहने वाला है। यूजर जुलाई 2018 से सोशल मीडिया पर सक्रिय है और एक विचारधारा से प्रभावित है।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज की पड़ताल में दिल्ली के प्रदूषण को लेकर वायरल दावा गलत साबित हुआ। वायरल तस्वीर दिवाली के बाद की नहीं, बल्कि दिल्ली की तकरीबन दो महीने पुरानी है। जिसे अब गलत दावे के साथ सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है।

  • Claim Review : दिवाली के बाद दिल्ली की तस्वीर, जहां का मौसम बिल्कुल साफ और प्रदूषण मुक्त है।
  • Claimed By : कमल तिवारी
  • Fact Check : भ्रामक
भ्रामक
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपनी प्रतिक्रिया दें

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later