नई दिल्ली (विश्वास टीम)। सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें एक पोलिंग बूथ (मतदान केंद्र) के भीतर तैनात कर्मचारी को ईवीएम के पास जाते हुए देखा जा सकता है। दावा किया जा रहा है कि मतदान केंद्र के भीतर मौजूद व्यक्ति चुनाव को प्रभावित करने की कोशिश कर रहा है।

विश्वास न्यूज की पड़ताल में यह वीडियो सही साबित होता है। मतदान को प्रभावित करने वाले पोलिंग एजेंट को गिरफ्तार किया जा चुका है।

क्या है वायरल पोस्ट में?

फेसबुक पर आशुतोष त्रिपाठी (Ashutosh Tripathi) नाम के यूजर्स ने इस वीडियो 13 मई दोपहर बाद शेयर किया है। वीडियो शेयर करते हुए उन्होंने लिखा है, ‘एक बूथ पर निष्पक्ष मतदान कराते बूथ कर्मचारी ।। इस कर्मचारी को चुनाव आयोग द्वारा सम्मानित कराया जाना चाहिए ।।।’

पड़ताल किए जाने तक इस वीडियो करीब 2400 बार देखा जा चुका है, वहीं 88 लोगों ने इसे शेयर किया है।

पड़ताल

पड़ताल के दौरान हमें पता चला कि यही वीडियो मिलते-जुलते दावे के साथ फेसबुक और ट्विटर पर भी वायरल हो चुका है।

वीडियो में दिख रहा है कि नीली टी-शर्ट पहने पोलिंग एजेंट मतदान केन्द्र में वोट डालने पहुंची महिलाओं के मतदान को प्रभावित करने की कोशिश कर रहा है। जैसी ही एक महिला वोट डालने पहुंचती है, पोलिंग एजेंट ईवीएम के पास पहुंचता है और मशीन का बटन दबा देता है। तुरंत बाद जब दूसरी महिला वोट डालने ईवीएम के पास पहुंचती है तो वह यही काम फिर से करता है।

सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हुए वीडियो में हालांकि यह पता नहीं था कि यह किस पोलिंग बूथ की घटना है। सर्च में हमें पता चला कि यह घटना हरियाणा के पृथला निर्वाचल क्षेत्र में मौजूद असावती मतदान केंद्र का है, जहां 12 मई को छठे चरण के तहत वोटिंग हुई।

फरीदाबाद जिला चुनाव कार्यालय के मुताबिक, ‘वीडियो में दिख रहा व्यक्ति पोलिंग एजेंट है, जिसे दोपहर बाद गिरफ्तार कर लिया गया। मामले में FIR दर्ज कर लिया गया है।’

जिला चुनाव कार्यालय फरीदाबाद के मुताबिक, ‘पोलिंग एजेंट ने कम से कम 3 महिला मतदाताओं के वोट को प्रभावित करने की कोशिश की। ऑब्जर्वर और एआरओ ने अपनी टीम के साथ पृथवा निर्वाचन क्षेत्र के असावती बूथ का दौरा किया और उन्होंने पाया कि मतदान में कोई गड़बड़ी नहीं हुई।’

चुनाव कार्यालय की तरफ से जारी बयान के मुताबिक, ‘शाम तक मतदान केंद्र पर वोटिंग हुई और करीब 801 मत पड़े। अब कोई मसला नहीं है। इस मतदान केंद्र पर कुल मतों की संख्या 1271 है और वोटिंग प्रतिशत 68 फीसदी रहा, जो सराहनीय है। सभी दलों को चुस्त कार्रवाई के लिए शुक्रिया।’

न्यूज एजेंसी एएनआई के ट्वीट में भी इसकी पुष्टि की जा सकती है। एजेंसी ने केंद्रीय चुनाव आयोग के हवाले से बताया है कि मतदान को प्रभावित करने की घटना फरीदाबाद के पृथला विधानसभा क्षेत्र के असावती मतदान केंद्र की है, जिसमें संबंधित पोलिंग एजेंट को गिरफ्तार कर लिया गया है।

इसके बाद विश्वास न्यूज ने पलवल सदर के एसएचओ से बात कर इस घटना की पुष्टि की। विश्वास न्यूज से बातचीत में उन्होंने कहा, ‘पोलिंग एजेंट गिरिराज सिंह के खिलाफ आईपीसी की धारा 171C (चुनाव को अनुचित तरीके से प्रभावित करना), धारा 188 और जनप्रतिनिधित्व कानून की धारा 135 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।’ उन्होंने कहा कि पोलिंग एजेंट को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उन्हें जमानत मिल गई।

 निष्कर्ष: विश्वास न्यूज की पड़ताल में पोलिंग बूथ के भीतर मतदान को प्रभावित करने वाला वीडियो सही साबित होता है, जो फरीदाबाद के पृथला निर्वाचन क्षेत्र में मौजूद असावती मतदान केंद्र का है। मामले में संबंधित पोलिंग एजेंट को गिरफ्तार किया जा चुका है और वह अभी जमानत पर बाहर हैं।

पूरा सच जानें…

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी खबर पर संदेह है जिसका असर आप, समाज और देश पर हो सकता है तो हमें बताएं। हमें यहां जानकारी भेज सकते हैं। हमें contact@vishvasnews.com पर ईमेल कर सकते हैं। इसके साथ ही वॅाट्सऐप (नंबर – 9205270923) के माध्‍यम से भी सूचना दे सकते हैं।

Claim Review : पोलिंग बूथ पर मतदान को प्रभावित करते कर्मचारी
Claimed By : FB User-Ashutosh Tripathi
Fact Check : True

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here