X

Quick Fact Check: 24 घंटे में कोविड-19 के संक्रमण का इलाज नहीं कर सकता ये काढ़ा, झूठा दावा फिर वायरल

  • By Vishvas News
  • Updated: October 20, 2020

नई दिल्ली (Vishvas News): सोशल मीडिया पर एक पोस्ट वायरल हो रही है, जिसमें कथित तौर पर कोविड-19 के संक्रमण के इलाज का दावा किया जा रहा है। इस पोस्ट में हल्दी, लौंग, नींबू और अदरक को एक लीटर पानी में उबालकर बने काढ़े (कश्यम) से कोरोना संक्रमण के 24 घंटे के भीतर ठीक होने की बात कही जा रही है। विश्वास न्यूज पहले भी इस दावे की पड़ताल कर चुका है। यह वायरल दावा झूठा है। इस काढ़े का इस्तेमाल इम्युनिटी को बेहतर बनाने के लिए किया जा सकता है, पर यह कोरोना संक्रमण का इलाज नहीं है।

क्या हो रहा है वायरल

विश्वास न्यूज को अपने फैक्ट चेकिंग वॉट्सऐप चैटबॉट (+91 95992 99372) पर एक फेसबुक पोस्ट का लिंक मिला है। इस फेसबुक पोस्ट में अंग्रेजी में लिखा है कश्यम फॉर कोरोना (Kashayam for corona)। इस पोस्ट में एक कश्यम (काढ़ा) बनाने का एक हस्तलिखित कथित फॉर्मूला शेयर किया गया है। अंग्रेजी में इसमें लिखा है कि एक चम्मच हल्दी, 2 लौंग, छिलके के साथ एक नींबू (7 टुकड़े) और छिला हुआ अदरक (डेढ़) को एक लीटर पानी में हल्की आंच पर तबतक उबालना है, जबतक पानी आधा न रह जाए। पोस्ट में इसी को कश्यम काढ़ा बताया जा रहा है। पोस्ट में लिखा है कि कोरोना संक्रमित एक एलोपैथी चिकत्सक ने इसे खुद पर आजमाया और 24 घंटे में ठीक हो गया।

वायरल दावे को शेयर करने वाली फेसबुक पोस्ट के आर्काइव्ड वर्जन को यहां क्लिक कर देखा जा सकता है।

पड़ताल

विश्वास न्यूज को इंटरनेट पर पड़ताल के दौरान ऐसा कोई डॉक्टर नहीं मिला, जिसने इस कथित काढ़े को लेकर कोविड-19 से ठीक होने का दावा किया हो।

विश्वास न्यूज ने जब इस संबंध में आयुर्वेद एक्सपर्ट डॉ. विमन एन से बात की तो उन्होंने कहा, ‘इन घरेलू उपचारों से इम्युनिटी मजबूत की जा सकती है, लेकिन ये कोई इलाज नहीं है।’

WHO की आधिकारिक साइट पर भी रूप से लिखा है कि कुछ पश्चिमी, परंपरागत या घरेलू उपचारों से कोविड-19 के हल्के लक्षणों में आराम मिल सकता है, लेकिन अबतक ऐसी कोई दवा नहीं मिली है, जिससे इसकी रोकथाम की जा सके। WHO की साइट पर मौजूद इस जानकारी को यहां क्लिक कर देखा जा सकता है।

विश्वास न्यूज पहले भी इस वायरल दावे की पड़ताल कर चुका है। इस फैक्ट चेक स्टोरी को नीचे पढ़ा जा सकता है:

विश्वास न्यूज ने इस वायरल दावे को शेयर करने वाले फेसबुक यूजर की प्रोफाइल को स्कैन किया। ये प्रोफाइल जून 2009 में बनाई गई है और यूजर मुंबई के रहने वाले हैं।

निष्कर्ष: एक लीटर पानी में हल्दी, लौंग, नींबू और अदरक उबाल कर तैयार किया गया काढ़ा कोरोना वायरस के संक्रमण का इलाज नहीं है। हालांकि, यह इम्युनिटी बढ़ाने में काम कर सकता है।

Disclaimer: विश्वास न्यूज की कोरोना वायरस (COVID-19) से जुड़ी फैक्ट चेक स्टोरी को पढ़ते या उसे शेयर करते वक्त आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि जिन आंकड़ों या रिसर्च संबंधी डेटा का इस्तेमाल किया गया है, वह परिवर्तनीय है। परिवर्तनीय इसलिए ,क्योंकि इस महामारी से जुड़े आंकड़ें (संक्रमित और ठीक होने वाले मरीजों की संख्या, इससे होने वाली मौतों की संख्या ) में लगातार बदलाव हो रहा है। इसके साथ ही इस बीमारी का वैक्सीन खोजे जाने की दिशा में चल रहे रिसर्च के ठोस परिणाम आने बाकी हैं और इस वजह से इलाज और बचाव को लेकर उपलब्ध आंकड़ों में भी बदलाव हो सकता है। इसलिए जरूरी है कि स्टोरी में इस्तेमाल किए गए डेटा को उसकी तारीख के संदर्भ में देखा जाए।

  • Claim Review : इस पोस्ट में हल्दी, लौंग, नींबू और अदरक को एक लीटर पानी में उबालकर बने काढ़े (कश्यम) से कोरोना संक्रमण के 24 घंटे के भीतर ठीक होने की बात कही जा रही है।
  • Claimed By : Susan Abraham
  • Fact Check : झूठ
झूठ
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपनी प्रतिक्रिया दें

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later