X

Fact Check: डॉक्टर विकास आमटे ने कैंसर के घरेलू इलाज के बारे में यह पोस्ट नहीं लिखा, वायरल मैसेज है फेक

विश्वास न्यूज ने अपनी पड़ताल में इस दावे को फर्जी पाया। डॉ विकास आमटे ने कैंसर को ठीक करने के लिए नींबू के घरेलू उपचार के बारे में नहीं कहा है।

  • By Vishvas News
  • Updated: April 18, 2022

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज): Vishvas News को अपने टिप लाइन नंबर +91 95992 99372 पर जांचने के लिए एक मैसेज मिला। मैसेज में दावा किया गया है कि डॉ. विकास आमटे ने कैंसर के घरेलू उपचार के रूप में नींबू से संबंधित इन घरेलू उपचारों को साझा किया है।विश्वास न्यूज ने अपनी पड़ताल में इस दावे को फर्जी पाया। डॉ विकास आमटे ने कैंसर को ठीक करने के लिए नींबू के घरेलू उपचार के बारे में नहीं बताया।

क्या है वायरल पोस्ट में?

वॉट्सऐप यूजर ने मराठी में एक लंबा संदेश साझा करते हुए कहा कि ये कैंसर को ठीक करने के लिए डॉ. विकास आमटे द्वारा सुझाए गए घरेलू उपचार है ।


संदेश में कहा गया : अनुवादित: “ठंडे नींबू के अद्भुत परिणाम। धुले हुए नींबू को फ्रिज में रख दें और पर्याप्त ठंडा होने के बाद इसे कद्दूकस कर लें और आगे जो भी खाएं उसमें डाल दें। हम सिर्फ इतना जानते हैं कि नींबू विटामिन सी का समृद्ध स्रोत है। हालांकि, हम नींबू के अन्य गुणों को नहीं जानते हैं। नींबू के छिलके में 10 गुना ज्यादा विटामिन सी होता है और हम इसके छिलके को बर्बाद कर देते हैं। पील शरीर में सभी कार्सिनोजेनिक कोशिकाओं को भी नष्ट कर देता है। क्योंकि आज दुनिया में ऐसी प्रयोगशालाएं हैं जो कृत्रिम निर्माण में शामिल हैं क्योंकि वे इससे बहुत पैसा कमाते हैं। अब आप अपने जरूरतमंद दोस्त को बता सकते हैं कि कैंसर जैसी लाइलाज बीमारी को ठीक करने या ठीक करने के लिए नींबू का रस और छिलका कितना उपयोगी है। इसका स्वाद बहुत अच्छा होता है और इसका कीमोथेरेपी जैसा कोई भयानक दुष्प्रभाव नहीं होता है। ज़रा सोचिए, इस बेहद आसान, आसान लेकिन बेहद असरदार उपाय को जाने बिना अब तक कितने लोगों ने अपनी जान गंवाई है और अब से हम कितने लोगों की जान बचा सकते हैं ??? लेमनग्रास में सभी प्रकार के कैंसर को ठीक करने की चमत्कारी क्षमता होती है। इसका उपयोग जीवाणु संक्रमण और कवक के लिए भी किया जा सकता है। यह शरीर में परजीवी और वायरस के खिलाफ भी प्रभावी है। नींबू का रस और विशेष रूप से छिलका रक्तचाप और मानसिक दबाव को नियंत्रित करता है। मानसिक तनाव और तंत्रिका तंत्र के रोगों को नियंत्रित करता है। इस जानकारी का स्रोत चौंकाने वाला है: दुनिया की सबसे बड़ी दवा कंपनियों में से एक कंपनी ने यह रिपोर्ट प्रकाशित की है। उनका कहना है कि 1970 से 20 से अधिक प्रयोगशालाओं में शोध के बाद यह दिखाया गया है कि नींबू का छिलका 12 से अधिक कैंसर कोशिकाओं को नष्ट कर देता है। नींबू के पेड़ के औषधीय गुणों को कैंसर पर आमतौर पर इस्तेमाल की जाने वाली कीमोथेरेपी दवा ड्रामाइसिन की तुलना में 10,000 गुना अधिक प्रभावी दिखाया गया है। नींबू का छिलका कैंसर कोशिकाओं के विकास को धीमा कर देता है। और हैरानी की बात यह है कि नींबू की यह दवा केवल कैंसर कोशिकाओं को मारती है, स्वस्थ कोशिकाओं पर इसका कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ता है। इसलिए पके हुए नींबू को अच्छी तरह धोकर फ्रीज में रख दें और किसनी पर किसुनी का रोजाना के खाने में इस्तेमाल करें। इसके लिए आपका पूरा शरीर आपको धन्यवाद देगा।”

पड़ताल:

विश्वास न्यूज ने कीवर्ड सर्च के साथ अपनी जांच शुरू की।

हमें द नेशनल एकेडमिक्स ऑफ साइंसेज इंजीनियरिंग मेडिसिन की वेबसाइट पर अपलोड एक रिपोर्ट मिली, जिसमें स्पष्ट रूप से कहा गया था, ‘नींबू कैंसर का इलाज नहीं कर सकता’। इसे यहां पढ़ें।

इंटरनेट पर हमें कहीं भी ऐसा लेख नहीं मिला, जिसने इस दावे का समर्थन किया हो कि नींबू कैंसर को ठीक करने में भूमिका निभा सकता है।

इसे बेहतर ढंग से समझने के प्रयास में हमने आयुर्वेदिक चिकित्सक डॉ. मनीषा कोठेकर के साथ इस दावे को साझा किया।

उन्होंने विश्वास न्यूज को बताया कि आयुर्वेद में ऐसा कोई विशेष अध्ययन नहीं है, जो नींबू से कैंसर को ठीक करने के वायरल दावे का समर्थन करता हो। इसके अलावा कैंसर कई प्रकार के होते हैं और इसलिए वायरल संदेश सटीक नहीं है।

जांच के अंतिम चरण में, विश्वास न्यूज ने सीधे डॉ विकास आमटे से भी संपर्क किया, जो अपने पिता मुरलीधर देवीदास आमटे द्वारा शुरू की गई आनंदवन परियोजना के लिए जाने जाते हैं।

उन्होंने विश्वास न्यूज को बताया, “यह दावा लंबे समय से विभिन्न सोशल मीडिया वेबसाइटों पर घूम रहा है और पहले भी मैंने दावों का खंडन किया था। मैं एक एलोपैथी डॉक्टर हूं और मैं आयुर्वेद पर टिप्पणी नहीं करूंगा।।”

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज ने अपनी पड़ताल में इस दावे को फर्जी पाया। डॉ विकास आमटे ने कैंसर को ठीक करने के लिए नींबू के घरेलू उपचार के बारे में नहीं कहा है।

  • Claim Review : ते लिंबु पुर्णपणे थंड आणि बर्फासारखे कडल झाल्यावर, साधारणत: 8 ते 10 तासानी, एक किसनी घेउन ते सर्व लिंबु सालासकट किसुन घ्या.. नंतर तुम्ही जे काही खाल त्यावर ते किसलेले लिंबु टाकुन खा..
  • Claimed By : Ѕцѓеѕђ Рдђцякдя
  • Fact Check : झूठ
झूठ
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later