X

Fact Check: विशेषज्ञों के अनुसार, कोविड -19 लक्षणों का इलाज करने के लिए सिरका सूंघना एक अनुशंसित उपचार नहीं है

विशेषज्ञों के अनुसार, कोविड -19 लक्षणों के इलाज के लिए सिरके को सूंघना अनुशंसित उपचार नहीं है। विश्वास न्यूज ने पड़ताल की और वायरल दावे को फर्जी पाया। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार, वायरल दावा “निराधार” है।

  • By Vishvas News
  • Updated: October 19, 2021

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज): सोशल मीडिया पर वायरल एक पोस्ट में दावा किया जा रहा है कि सिरका को सूंघने से कोविड -19 लक्षणों का इलाज किया जा सकता है। विश्वास न्यूज ने पड़ताल की और वायरल दावे को फर्जी पाया। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार, वायरल दावा “निराधार” है।

क्या है वायरल पोस्ट में?

मलेशियाई भाषा में फ़ेसबुक पर साझा की गई एक पोस्ट में लिखा है “अनुवादित: मैं अपने दोस्तों को सूचित करना चाहता हूं, यदि संभव हो तो कोविड होने पर अस्पताल मत जाओ, पहले पारंपरिक तरीके से उपचार करो। मेरे दोस्त को कोविड लेवल 3 हो गया, सीधे अस्पताल ले जाया गया, डॉक्टर ने ऑक्सीजन दी फिर भी कोई फ़ायदा नहीं हुआ। डॉक्टर 24 घंटे के लिए सांस, फेफड़े और हृदय के बीच शांति और स्थिरता देने के लिए उसे सुलाते रहे। 48 घंटे से अधिक समय के बाद, उनका दिल और फेफड़े सीधे नहीं लड़ सके और जवाब दे गए। मैं भी लेवल 3 पर अपनी कार से अस्पताल जा रहा हूं और ऑक्सीजन ले रहा हूं। मैं वापस जाने के लिए कह रहा हूं क्योंकि मेरे परिवार के सभी सदस्य घर पर बीमार हैं। अल्हम्दुलिल्लाह मुझे घर जाने की इजाजत मिल गयी। अगले दिन मेरी तबीयत और खराब हो गयी, सांसें रुकी सी हुई थीं। ऐसे में रसोई में रखा सिरका दिखा। मैंने तौलिये पर सिरका डाला, नाक पर लपेटा, कई बार साँस ली। बहुत दर्द होता है। फिर मुंह पर तौलिये को पैक करके नाक को ढक लिया.. मुंह से सांस लीं, गले में खराश महसूस हुई, और खांसी और फेफड़ों में दर्द होगा। खांसते रहे पर सिरके से भीगे तौलिये को मुँह से न हटाए। अल्हम्दुलिल्लाह फेफड़ों और गले से साफ सफेद कफ बहार आएगा। फिर अच्छा लगेगा। सफेद कफ में एक कोविड वायरस होता है जो श्वसन को बंद कर देता है। अब सांस लेने में कठिनाई महसूस नहीं कर रहा हूँ। अगर कोई दोस्त है जिसे यह दिक्कत है तो उसे इस उपचार के बारे में बताये। जिन लोगों को कोविड लेवल 3 होता है, वे ही जानते हैं कि जीने के लिए सांस लेना कितना दर्दनाक होता है। यदि आप आश्वस्त हैं तो आप इसे स्वयं आजमा सकते हैं।”

पोस्ट का आर्काइव्ड वर्जन यहां देखा जा सकता है।

पड़ताल

Vishvas News ने इस दावे की जांच के लिए कीवर्ड सर्च की। हमें MEEDAN स्वास्थ्य डेस्क पर एक लेख मिला। विशेषज्ञों के अनुसार, सिरके से नाक धोने या माउथवॉश का उपयोग करने से कुछ स्वास्थ्य लाभ हो सकते हैं, लेकिन इस बात का कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है कि सिरके से धोने से COVID-19 को रोका जा सकता है या इसका इलाज किया जा सकता है। COVID-19 एक बाहरी लिपिड (वसा) झिल्ली वाले कोरोनावायरस के कारण होता है, इसलिए साबुन से हाथ धोना और कम से कम 60-70% अल्कोहल वाले हैंड सैनिटाइज़र का उपयोग करना इस प्रकार के वायरस के खिलाफ प्रभावी हो सकता है। मास्क या फेस कवर पहनने से वायरल कणों को मुंह और नाक से प्रवेश करने या बाहर निकलने से रोकने में मदद मिल सकती है।”

रिपोर्ट के अनुसार, “सिरका, एसिटिक एसिड और पानी का मिश्रण, हल्का अम्लीय होता है। विभिन्न प्रकार के सिरके में स्वाद और रंग के लिए अन्य पदार्थ हो सकते हैं। चिकित्सा एक्सपर्ट्स ऐसे पदार्थों से सावधानी बरतने की सलाह देते हैं। ये पदार्थ नाक, मुंह और गले में संवेदनशील झिल्लियों को परेशान कर सकते हैं”
पुष्पांजलि अस्पताल, गुरुग्राम के एक चिकित्सक डॉ अनंत पाराशर ने भी कहा कि वायरल दावा निराधार है।

हमें ऐसी कोई प्रामाणिक रिपोर्ट नहीं मिली, जिसमें यह दावा किया गया हो कि सिरका COVID-19 को ठीक कर सकता है।

वैश्विक स्वास्थ्य एजेंसी, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) COVID-19 की रोकथाम या इलाज के रूप में एंटीबायोटिक दवाओं सहित किसी भी दवा के साथ घरेलू उपचार की सिफारिश नहीं करता है। WHO COVID-19 के लिए उपचार विकसित करने के प्रयास कर रहा है और उपचार उपलब्ध होते ही नई जानकारी प्रदान करना जारी रखेगा।

इस पोस्ट को फेसबुक पर Aiman Arman नाम के यूजर ने शेयर किया है। जब हमने यूजर की प्रोफाइल को स्कैन किया तो हमने पाया कि यूजर मलेशिया का है।

निष्कर्ष: विशेषज्ञों के अनुसार, कोविड -19 लक्षणों के इलाज के लिए सिरके को सूंघना अनुशंसित उपचार नहीं है। विश्वास न्यूज ने पड़ताल की और वायरल दावे को फर्जी पाया। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार, वायरल दावा “निराधार” है।

  • Claim Review : मैं अपने दोस्तों को सूचित करना चाहता हूं, यदि संभव हो तो कोविड होने पर अस्पताल मत जाओ, पहले पारंपरिक तरीके से उपचार करो। मेरे दोस्त को कोविड लेवल 3 हो गया, सीधे अस्पताल ले जाया गया, डॉक्टर ने ऑक्सीजन दी फिर भी कोई फ़ायदा नहीं हुआ। डॉक्टर 24 घंटे के लिए सांस, फेफड़े और हृदय के बीच शांति और स्थिरता देने के लिए उसे सुलाते रहे। 48 घंटे से अधिक समय के बाद, उनका दिल और फेफड़े सीधे नहीं लड़ सके और जवाब दे गए। मैं भी लेवल 3 पर अपनी कार से अस्पताल जा रहा हूं और ऑक्सीजन ले रहा हूं। मैं वापस जाने के लिए कह रहा हूं क्योंकि मेरे परिवार के सभी सदस्य घर पर बीमार हैं। अल्हम्दुलिल्लाह मुझे घर जाने की इजाजत मिल गयी। अगले दिन मेरी तबीयत और खराब हो गयी, सांसें रुकी सी हुई थीं। ऐसे में रसोई में रखा सिरका दिखा। मैंने तौलिये पर सिरका डाला, नाक पर लपेटा, कई बार साँस ली। बहुत दर्द होता है। फिर मुंह पर तौलिये को पैक करके नाक को ढक लिया.. मुंह से सांस लीं, गले में खराश महसूस हुई, और खांसी और फेफड़ों में दर्द होगा। खांसते रहे पर सिरके से भीगे तौलिये को मुँह से न हटाए। अल्हम्दुलिल्लाह फेफड़ों और गले से साफ सफेद कफ बहार आएगा। फिर अच्छा लगेगा। सफेद कफ में एक कोविड वायरस होता है जो श्वसन को बंद कर देता है। अब सांस लेने में कठिनाई महसूस नहीं कर रहा हूँ। अगर कोई दोस्त है जिसे यह दिक्कत है तो उसे इस उपचार के बारे में बताये। जिन लोगों को कोविड लेवल 3 होता है, वे ही जानते हैं कि जीने के लिए सांस लेना कितना दर्दनाक होता है। यदि आप आश्वस्त हैं तो आप इसे स्वयं आजमा सकते हैं।
  • Claimed By : Aiman Arman
  • Fact Check : झूठ
झूठ
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later