X

Fact Check: पाम ऑयल से कोरोना संक्रमण के इलाज के कोई सबूत नहीं, वायरल पोस्ट फर्जी है

  • By Vishvas News
  • Updated: May 13, 2020

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज़)। सोशल मीडिया पर एक मैसेज वायरल हो रहा है, जिसमें कहा गया है कि पाम ऑयल कोरोनावायरस के प्रसार को रोक सकता है। मैसेज में आगे कहा गया है कि विशेषज्ञों ने वायरस के प्रसार से बचने के लिए रोज सुबह दो चम्मच पाम ऑयल पीने की सलाह दी है। इस मैसेज का श्रेय विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) को दिया गया है। Vishvas News ने इस मैसेज की पड़ताल की और पाया कि यह वायरल मैसेज फर्जी है। यह वायरल पोस्ट विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने नहीं रिलीज़ किया है|

दावा

फेसबुक पर शेयर किए गए पोस्ट में लिखा है: #BREAKING SIMPLE SOLUTION TO CORONA VIRUS REVEALED। इस बात की पुष्टि और परीक्षण किया गया है कि पाम ऑयल वायरस के प्रसार को रोक सकता है। विशेषज्ञों ने सलाह दी है कि वायरस के लगातार प्रसार से बचने के लिए हर सुबह दो चम्मच पाम ऑयल पीएं। कृप्या अपने परिवार, दोस्तों और प्रियजनों को यह अहम मैसेज तुरंत शेयर करें। आपका संदेश लाखों लोगों की जान बचा सकता है- विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO). पोस्ट का आर्काइव वर्जन यहां देखा जा सकता है।

पड़ताल

Vishvas News ने पड़ताल की और पाया कि वायरल पोस्ट को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने झूठा ठहराया है। हमने WHO के भारत के प्रवक्ता से बात की। उन्होंने कहा, “WHO ने ऐसा कोई बयान नहीं दिया है। इसमें गलत तरीके से WHO को जिम्मेदार ठहराया गया है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, वर्तमान में COVID-19 के इलाज या उसे बढ़ने से रोकने के लिए लाइसेंस प्राप्त कोई दवाएं उपलब्ध नहीं हैं।

क्या COVID-19 के लिए कोई वैक्सीन, दवा या उपचार है? इस सवाल के जवाब में WHO ने कहा, ” कुछ पश्चिमी, पारंपरिक या घरेलू उपचार से COVID-19 के लक्षणों को कम किया जा सकता है, लेकिन इसकी कोई वैक्सीन अभी तक नहीं बनाई गई है, जो इस बीमारी को रोकने या ठीक करने का काम करे। WHO, COVID-19 की रोकथाम या इलाज के लिए किसी भी एंटीबायोटिक दवाओं समेत किसी भी मेडिकेशन की सिफारिश नहीं करता है। हालांकि, पश्चिमी और पारंपरिक दोनों दवाओं के लिए क्लीनिकल ट्रायल्स चल रहे हैं। WHO, COVID-19 को रोकने और इसके इलाज करने के लिए वैक्सीन और मेडिसिन्स को डेवलप करने के लिए कई प्रयास कर रहा है। रिसर्च रिजल्ट आने के लिए अपडेटेड जानकारी उपलब्ध कराई जाएगी।

इस बात का कोई प्रमाण नहीं है कि पाम ऑयल कोरोनोवायरस के लिए एक आसान उपाय है।

इस पोस्ट को कई यूजर्स द्वारा सोशल मीडिया पर शेयर किया गया है। उनमें से एक नाइजीरिया के राजकुमार अलबी ओलागोके हैं।

Disclaimer: विश्वास न्यूज की कोरोना वायरस (COVID-19) से जुड़ी फैक्ट चेक स्टोरी को पढ़ते या उसे शेयर करते वक्त आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि जिन आंकड़ों या रिसर्च संबंधी डेटा का इस्तेमाल किया गया है, वह परिवर्तनीय है। परिवर्तनीय इसलिए क्योंकि इस महामारी से जुड़े आंकड़ें (संक्रमित और ठीक होने वाले मरीजों की संख्या, इससे होने वाली मौतों की संख्या ) में लगातार बदलाव हो रहा है। इसके साथ ही इस बीमारी का वैक्सीन खोजे जाने की दिशा में चल रहे रिसर्च के ठोस परिणाम आने बाकी हैं, और इस वजह से इलाज और बचाव को लेकर उपलब्ध आंकड़ों में भी बदलाव हो सकता है। इसलिए जरूरी है कि स्टोरी में इस्तेमाल किए गए डेटा को उसकी तारीख के संदर्भ में देखा जाए।

निष्कर्ष: कोरोनावायरस से बचने के लिए पाम ऑयल का इस्तेमाल करने वाला पोस्ट फर्जी है। यह वायरल पोस्ट विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने नहीं रिलीज़ किया है|

  • Claim Review : पाम ऑयल कोरोनावायरस के लिए आसान उपाय है
  • Claimed By : FB User- Prince Alabi Olagoke
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

कोरोना वायरस से कैसे बचें ? PDF डाउनलोड करें और जानिए कोरोना वायरस से जुड़ी महत्वपूर्ण सूचना

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later