X

Fact Check: मिराकल (चमत्कारिक) मिनरल सॉल्युशन से नहीं ठीक हो सकती हैं ऑटिज्म या ड्रिप्रेशन जैसी बीमारियां

नई दिल्ली (विश्वास टीम)। फेसबुक पर चमत्कारिक घोल से जुड़ी एक पोस्ट वायरल हो रही है। इस पोस्ट में दावा किया जा रहा है कि एक मिराकल (चमत्कारिक) मिनरल सॉल्युशन (घोल) से ऑटिज्म, पैरासाइट और डिप्रेशन जैसी बीमारियां ठीक हो सकती हैं। विश्वास न्यूज की पड़ताल में यह वायरल पोस्ट झूठी निकली है।

क्या है वायरल पोस्ट में

फेसबुक पर Jay Legg नाम के यूजर ने एक पोस्ट शेयर की है। इस पोस्ट में लिखा है कि मिराकल मिनरल सॉल्युशन पीने से उनकी ऑटिज्म, पैरासाइट्स और डिप्रेशन जैसी बीमारी दूर हो गई। इसमें इस सॉल्युशन को पीने की सलाह भी दी गई है। पोस्ट के साथ मिराकल मिनरल सॉल्युशन का विकीपीडिया लिंक भी दिया गया है। इस पोस्ट में जो तस्वीर लगाई गई है वह ब्लीचिंग सॉल्युशन की है।

पड़ताल

विश्वास न्यूज ने पोस्ट में दिए गए कैप्शन में मौजूद विकीपीडिया लिंक पर क्लिक कर पड़ताल की शुरुआत की। हम मिराकल मिनरल सप्लिमेंट के विकीपीडिया पेज पर पहुंचे। इस पेज पर लिखा है, ‘मिराकल मिनरल सप्लिमेंट, जिसे मिराकल मिनरल सॉल्युशन, मास्टर मिनरल सॉल्युशन, MMS या सीडी प्रोटेकॉल के नाम से भी जाना जाता है, एक इंडस्ट्रियल ब्लीच, क्लोरीन डाइऑक्साइड है। सोडियम क्लोराइड सॉल्युशन को एसिड (जैसे खट्टे फलों के जूस) में मिलाकर तैयार किया गया है।’

इसमें आगे लिखा है, ‘MMS को गलत तरीके से एचआईवी, मलेरिया, हेपेटाइटिस वायरस, एच1एन1 फ्लू  वायरस, सर्दी-जुकाम, ऑटिज्म, मुंहासों,  कैंसर और कई चीजों के इलाज के तौर पर पेश किया जाता है।’

मतलब यह हुआ कि मिराकल मिनरल सॉल्युशन विकीपीडिया पेज खुद कह रहा कि इसे गलत तरीके से विभिन्न रोगों का इलाज बता पेश किया जा रहा है।

विश्वास न्यूज ने अपनी पड़ताल जारी रखी। हमें यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन की आधिकारिक वेबसाइट पर एक आर्टिकल मिला। इस आर्टिकल की हेडलाइन थी, ‘खतरनाक: मिराकल मिनरल सॉल्युशन या ऐसी दूसरी चीजें मत पीजिए।’ आर्टिकल में आगे लिखा है, ‘एफडीए आपको चेतावनी देता है कि सोडियम क्लोराइट प्रोडक्ट जैसे मिराकल मिनरल सॉल्युशन मत पीजिए। ये चीजें आपको बीमार कर सकती हैं।’

एफडीए लोगों को चेता रहा है कि ऐसे पोस्ट के चक्कर में न पड़ें जो मिराकल मिनरल सप्लिमेंट्स लेने के लिए उकसा रहे हों। एफडीए का कहना है कि इससे तमाम तरह की स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। इस आर्टिकल में आगे लिखा है, ‘अगर आप ‘मिराकल’ या ‘मास्टर’ मिनरल सॉल्युशन या दूसरे सोडियम क्लोराइट प्रोडक्स पी रहे हैं, तो इसे रोक दें। यूस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) को ऐसी कई रिपोर्ट मिली हैं जिनमें बीमारियों के इलाज के नाम पर ऑनलाइन बेचे जा रहे इन प्रोडक्ट्स ने लोगों को बीमार किया है।’

कई दूसरी वेबसाइटों ने भी लिखा है कि मिराकल मिनरल सप्लिमेंट बीमारियों का इलाज नहीं करेगा। उदाहरण के लिए Vice नाम की वेबसाइट ने एक आर्टिकल पब्लिश किया जिसका स्क्रीनशॉट नीचे दिया गया है:

यूएसए टुडे वेबसाइट ने भी ऐस ही रिपोर्ट प्रकाशित की है:

इस फेसबुक पोस्ट में इस्तेमाल की गई तस्वीर क्लोरोक्स की है जो कि ब्लीच है। इसका इस्तेमाल सफाई के दौरान किटाणुनाशक के रूप में किया जाता है।

विश्वास न्यूज ने साइकेट्रिस्ट डॉक्टर बीएस अरोड़ा से संपर्क किया। उन्होंने कहा, ‘मिराकल मिनरल सॉल्युशन पीने से ऑटिज्म, पैरासाइट और डिप्रेशन के इलाज का दावा पूरी तरह से झूठा है। असल में इसे पीने से गंभीर समस्याएं पैदा हो सकती हैं।’

निष्कर्ष

विश्वास न्यूज की पड़ताल में इस पोस्ट का यह दावा कि मिराकल मिनरल सॉल्युशन से बीमारियों का इलाज हो सकता है, फर्जी निकला है।

  • Claim Review : Drinking my miracle mineral solution. It has cured my autism, parasites and depression. You should too.
  • Claimed By : FB User-Jay Legg
  • Fact Check : False
False
    Symbols that define nature of fake news
  • True
  • Misleading
  • False
जानिए सच्‍ची और झूठी सबरों का सच क्विज खेलिए और सीखिए स्‍टोरी फैक्‍ट चेक करने के तरीके क्विज खेले

पूरा सच जानें...

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी खबर पर संदेह है जिसका असर आप, समाज और देश पर हो सकता है तो हमें बताएं। हमें यहां जानकारी भेज सकते हैं। हमें contact@vishvasnews.com पर ईमेल कर सकते हैं। इसके साथ ही वॅाट्सऐप (नंबर – 9205270923) के माध्‍यम से भी सूचना दे सकते हैं।

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later