X

Fact Check : पश्चिम बंगाल के रवीन्द्र भवन में विजिटर बुक में लिखते हुए अमित शाह की फोटो झूठे दावे के साथ वायरल

  • By Vishvas News
  • Updated: December 25, 2020

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज़)- पिछले दिनों अमित शाह के बंगाल दौरे के बाद से सोशल मीडिया  पर बहुत-सी फ़र्ज़ी ख़बरें वायरल हो रही हैं। इसी तर्ज़ पर एक तस्वीर वायरल है, जिसमें गृह मंत्री अमित शाह एक जगह पर बैठे हुए बड़ी-सी किताब में कुछ लिखते हुए नज़र रहे हैं। यूजर फोटो को शेयर करते हुए दावा कर रहे है कि रवीन्द्रनाथ टैगोर के बाद इस स्थान पर आजतक कोई नहीं बैठा, अमित शाह पहले ऐसे शख्स हैं जो वहां पर बैठे हुए हैं।

विश्वास न्यूज़ ने अपनी पड़ताल में पाया की रवीन्द्रनाथ टैगोर के शांतिनिकेतन स्थित रवीन्द्र भवन में जिस जगह पर अमित शाह बैठे हुए हैं वह विज़िटर्स बुक पर हस्ताक्षर करने की जगह है। इससे पहले भी वहां बहुत-से लीडर्स बैठकर अपना अनुभव लिख चुके है। वायरल दावा पूरी तरह फ़र्ज़ी है। 

क्या है वायरल पोस्ट में ?

फेसबुक यूजर Md Shahabuddin ने अमित शाह की तस्वीर को शेयर करते हुए लिखा, ‘गुरूदेव रबीन्द्रनाथ टैगोर के बाद इस पवित्र स्थान पर आजतक किसी ने नहीं बैठा। दुनिया के तमाम विशिष्ट अतिथि यहां आते रहते हैं और इस आसन को श्रृद्धा अर्पण करते हैं। ये अशिक्षित तड़ीपार ने इस आसान को पिछले दिनों शांतिनिकेतन आकर कलंकित कर गया।’

पोस्ट के आर्काइव वर्जन को यहाँ देखें।

पड़ताल

अपनी पड़ताल को शुरू करते हुए सबसे पहले हमने तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज के ज़रिये सर्च किया और सर्च में हमारे हाथ अमित शाह के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल की तरफ से 20 दिसंबर को किया गया एक ट्वीट लगा। ट्वीट में अमित शाह की वह तस्वीर भी नज़र आयी, जिसे वायरल किया जा रहा है। ट्वीट के कैप्शन में लिखा है, ”Paid tributes to one of India’s greatest thinkers, Gurudev Rabindranath Tagore, at Rabindra Bhawan in Shantiniketan. Gurudev’s contribution to India’s freedom movement will forever be remembered and his thoughts will continue to inspire our generations to come”.

अमित शाह की तस्वीर हमें आउटलुक की फोटो गैलरी में भी मिली। फोटो के साथ दिए गए डिस्क्रिप्शन में लिखा है, ‘Home Minister Amit Shah signs the visitor’s book during his visit to Rabindra Bhawan, at Shantiniketan in Birbhum district’. हिंदी अनुवाद, ‘गृह मंत्री ने शांतिनिकेतन के रवीन्द्र भवन में विज़िटर बुक में हस्ताक्षर किये।”

अब हमने ओपन सर्च के ज़रिये ये जानने की कोशिश की कि क्या आज तक रवीन्द्र भवन में उस जगह कोई नहीं बैठा जहाँ अमित शाह बैठे हुए है। हमारे सर्च में हमें pmindia.gov.in पर श्रीलंका की प्रधानमंत्री हसीना शेख की तस्वीर मिली। इसमें वह ठीक उसी जगह बैठी हुई किताब पर कुछ लिखती हुई नज़र आईं। फोटो के साथ दिए गए कैप्शन में लिखा है, ” बांग्लादेश की प्रधानमंत्री, शेख हसीना 25 मई, 2018 को पश्चिम बंगाल में शांति निकेतन में विजिटर बुक पर हस्ताक्षर करती हुई।”

Visva-Bharati Santiniketan नाम के ट्विटर प्रोफाइल पर हमें पीएम मोदी की भी उसी जगह की तस्वीर मिली। 25 मई 2018 को किये गए इस ट्वीट में लिखा है, ”PM and Acharya Modi signing the Visitors’ Book of Visva-Bharati”.

अब हमने हमारे साथी दैनिक जागरण के पश्चिम बंगाल के ब्यूरो चीफ जे के वाजपई से संपर्क किया और उनके साथ अमित शाह से जुडी वायरल पोस्ट शेयर की। उन्होंने विश्वास न्यूज़ को बताया, ”यह विजिटर बुक पर लिखने का स्थान है, जब कोई भी वीआईपी शांतिनिकेतन स्थित रवींद्र भवन आता है तो वहीं बैठ कर अपना अनुभव लिखने के साथ दस्तखत करता है। यह कहना बिल्कुल गलत होगा कि इस जगह अमित शाह से पहले कोई नहीं बैठा। ”

पोस्ट को फ़र्ज़ी दावे के साथ शेयर करने वाले फेसबुक यूजर Md Shahabuddin की सोशल स्कैनिंग में  हमने पाया कि यूजर की प्रोफाइल से इससे पहले भी फेक पोस्ट शेयर की जा चुकी है। इसके अलावा यूजर का यूपी का रहने वाला है।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज़ ने अपनी पड़ताल में पाया कि रवीन्द्र भवन में गृहमंत्री अमित शाह जिस जगह पर बैठे हुए हैं वह विजिटर बुक पर अपनी बात लिखने और हस्ताक्षार करने की जगह है। वायरल पोस्ट के साथ किया जा रहा दवा पूरी तरह फ़र्ज़ी है।

  • Claim Review : रवीन्द्रनाथ टैगोर के बाद इस पवित्र स्थान पर आजतक किसी ने नहीं बैठा।
  • Claimed By : Md Shahabuddin
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later