X

Fact Check: बंगाल चुनाव को लेकर अमित शाह और ओवैसी बंधुओं की मुलाकात की एडिटेड तस्वीर हो रही वायरल

  • By Vishvas News
  • Updated: March 12, 2021

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। बंगाल विधानसभा चुनाव को लेकर जारी सियासी गतिविधियों के बीच सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल हो रही है, जिसमें गृह मंत्री अमित शाह को असदुद्दीन ओवैसी और उनके छोटे भाई के साथ बैठक करते हुए देखा जा सकता है। दावा किया जा रहा है कि मुलाकात की यह तस्वीर बंगाल चुनाव से संबंधित है और ओवैसी बंधु बंगाल में भारतीय जनता पार्टी की बी टीम के तौर पर काम कर रहे हैं।

विश्वास न्यूज की पड़ताल में यह तस्वीर फर्जी निकली और उसके साथ किया गया दावा गलत साबित हुआ। वायरल हो रही तस्वीर एडिटेड है, जिसमें दो अलग-अलग और पुरानी तस्वीर को एडिट कर उसे गलत दावे के साथ वायरल किया जा रहा है।

क्या है वायरल पोस्ट में?

सोशल मीडिया यूजर ‘Ekhlaque Parwez’ ने वायरल तस्वीर (आर्काइव लिंक) को शेयर करते हुए लिखा है, ”बीजेपी बी टीम ओवैसी बंधु।”

बंगाल चुनाव को लेकर अमित शाह और ओवैसी बंधुओं के मुलाकात के दावे के साथ वायरल हो रही फर्जी तस्वीर

पड़ताल किए जाने तक इस तस्वीर को सौ से अधिक लोग शेयर कर चुके हैं और सोशल मीडिया पर कई अन्य यूजर्स ने इन तस्वीरों को समान और मिलते-जुलते दावे के साथ शेयर किया है।

पड़ताल

न्यूज सर्च में हमें ऐसी कोई खबर नहीं मिली, जिसमें गृह मंत्री अमित शाह के साथ असदुद्दीन ओवैसी और उनके छोटे भाई की मुलाकात का जिक्र हो। तस्वीर के साथ किए गए दावे की सच्चाई जानने के लिए हमने इसे पहले दो हिस्सों में विभाजित किया और फिर बारी-बारी से गूगल रिवर्स इमेज टूल पर सर्च किया।

सर्च में हमें पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के वेरिफाइड ट्विटर प्रोफाइल से तीन सितंबर 2019 को शेयर की गई तस्वीर मिली, जिसमें उन्हें गृह मंत्री अमित शाह के साथ बैठक करते हुए देखा जा सकता है। इस तस्वीर में अमित शाह जिस मुद्रा और जिस परिधान में नजर आ रहे हैं, वह वायरल हो रही तस्वीर से हूबहू मेल खाती है।

वायरल तस्वीर के दूसरे हिस्से, जिसमें ओवैसी बंधु एक साथ नजर आ रहे हैं, को रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमें ओरिजिनल तस्वीर मिली, जिसमें ओवैसी बंधुओं को अधिकारियों के साथ बैठक करते हुए देखा जा सकता है। ट्विटर यूजर सैय्यद सुलेमान ने 27 फरवरी 2018 को इस तस्वीर को शेयर करते हुए लिखा है, ‘AIMIM प्रेसिडेंट असदुद्दीन ओवैसी और अकबरुद्दीन ओवैसी ने अरविंद कुमार (IAS) और जीएचएमसी के कमिश्नर से मुलाकात कर उन्हें नयापुल के पास नए ब्रिज के निर्माण की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा।’

इस तस्वीर में ओवैसी बंधु जिस परिधान में नजर आ रहे हैं और जिस कमरे में बैठकर मीटिंग कर रहे हैं, उसका परिदृश्य हूबहू वैसा ही है, जो वायरल तस्वीर में नजर आ रही है।

हमारे सहयोगी दैनिक जागरण के कोलकाता ब्यूरो चीफ जे के वाजपेयी ने वायरल हो रही तस्वीर के फर्जी होने की पुष्टि करते हुए बताया, ‘गृह मंत्री के साथ ओवैसी बंधुओं की ऐसी कोई मुलाकात नहीं हुई है, जो बंगाल चुनाव से संबंधित है। यह दुष्प्रचार का मामला है।’

हमारी पड़ताल में यह साबित होता है कि बंगाल चुनाव को लेकर गृह मंत्री अमित शाह और ओवैसी बंधुओं की मुलाकात के दावे के साथ वायरल हो तस्वीर वास्तव में गृह मंत्री अमित शाह और पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और ओवैसी बंधुओं के अधिकारियों के साथ मुलाकात की दो अलग-अलग तस्वीरों को एडिट कर बनाया गया है।

वायरल तस्वीर को गलत दावे के साथ शेयर करने वाले यूजर ने अपनी प्रोफाइल में खुद को कोलकाता का रहने वाला बताया है।

इससे पहले भी बंगाल चुनाव के संदर्भ में गृह मंत्री अमित शाह की एक तस्वीर गलत दावे के साथ वायरल हुई थी, जिसकी पड़ताल को नीचे पढ़ा जा सकता है।

गौरतलब है कि केंद्रीय चुनाव आयोग ने 26 फरवरी को बंगाल समेत पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा की। बंगाल की 294 सीटों के लिए कुल आठ चरणों में मतदान होना है और इसके नतीजे दो मई को आएंगे।

निष्कर्ष: बंगाल चुनाव के संदर्भ में गृह मंत्री अमित शाह और ओवैसी बंधुओं की मुलाकात के दावे के साथ वायरल हो रही तस्वीर एडिटेड है, जिसमें दो अलग-अलग और पुरानी तस्वीर को एडिट कर उसे गलत दावे के साथ वायरल किया जा रहा है।

  • Claim Review : गृह मंत्री अमित शाह और ओवैसी के बीच बंगाल चुनाव को लेकर बैठक
  • Claimed By : FB User-Ekhlaque Parwez
  • Fact Check : झूठ
झूठ
    फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

संबंधित लेख

Post saved! You can read it later