X

Fact Check: लालू प्रसाद यादव की यह तस्वीर करीब तीन साल पुरानी है, भ्रामक दावे के साथ हो रही वायरल

आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की तस्वीर करीब तीन साल पुरानी है, जब वह 2018 में मुंबई से इलाज करा पटना वापस लौटे थे।

  • By Vishvas News
  • Updated: December 1, 2021

नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के एम्स में भर्ती होने के बाद सोशल मीडिया पर उनकी एक तस्वीर वायरल हो रही है। दावा किया जा रहा है कि कुछ दिनों पहले तक जीप चलाकर घूम रहे लालू यादव की तबीयत कोर्ट में पेशी से ठीक पहले ही बिगड़ गई और यह तस्वीर अस्पताल में उनके भर्ती होने से ठीक पहले की है।

विश्वास न्यूज की जांच में यह दावा भ्रामक निकला। वायरल हो रही तस्वीर करीब तीन साल से अधिक पुरानी तस्वीर है, जिसे हाल का बताकर इस दावे के साथ वायरल किया जा रहा है कि कोर्ट में पेशी से बचने के लिए उन्होंने बीमारी का बहाना बनाया।

क्या है वायरल पोस्ट में?

फेसबुक यूजर ‘Aditya Singh’ ने वायरल तस्वीर (आर्काइव लिंक) को शेयर किया है, जिसमें बीमार लालू यादव अपनी पत्नी राबड़ी देवी के साथ नजर आ रहे हैं।

वायरल तस्वीर पर लिखा हुआ है, ”दो दिन पहले जीप चलाकर घूमने वाले इंसान की जब 30 नवंबर को पेशी हो तो, उसके सीने में अचानक से यूं ही दर्द उठ जाता है।” सोशल मीडिया पर कई अन्य यूजर्स ने इस तस्वीर को समान और मिलते-जुलते दावे के साथ शेयर किया है।

पड़ताल

गूगल रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमें यह तस्वीर dnaindia.com की वेबसाइट पर लगी मिली। 25 अगस्त 2018 को प्रकाशित इस रिपोर्ट के मुताबिक, बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को झारखंड हाई कोर्ट के आदेश की वजह से सीबीआई कोर्ट में सरेंडर करने के लिए मुंबई से लौटना पड़ा था।

। 25 अगस्त 2018 को डीएनए इंडिया की वेबसाइट पर प्रकाशित रिपोर्ट में इस्तेमाल की गई तस्वीर

हालांकि, इस रिपोर्ट से यह स्पष्ट नहीं हुआ कि यह तस्वीर वास्तव में कब की है। तस्वीर का ओरिजिनल सोर्स खोजने के लिए हमने एक बार फिर से गूगल रिवर्स इमेज सर्च की मदद ली। सर्च में हमें राष्ट्रीय जनता दल के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से 25 अगस्त 2018 को साझा किया गया एक वीडियो मिला, जिसके दृश्य वायरल तस्वीर से मेल खाते हैं।

सर्च में हमें 26 अगस्त 2018 को दैनिक जागरण की वेबसाइट पर प्रकाशित रिपोर्ट मिली, जिसमें इस्तेमाल की गई तस्वीर वही है, जो वायरल हो रही है।

दैनिक जागरण की वेबसाइट पर 26 अगस्त 2018 को प्रकाशित रिपोर्ट

रिपोर्ट के मुताबिक, ‘मुंबई के एशियन हार्ट इंस्टीट्यूट से डिस्चार्ज होने के बाद शनिवार को पटना लौटे राजद प्रमुख लालू प्रसाद लगतार दूसरे दिन मीडिया से दूर हैं। इसके पहले शनिवार को पटना पहुंचने पर उन्होंने मीडिया के सामने कुछ भी बोलने से इनकार किया।’

अब तक की पड़ताल से यह स्पष्ट है कि वायरल हो रही लालू प्रसाद यादव की तस्वीर 2018 की है, जिसे हाल का बताकर गलत दावे के साथ वायरल किया जा रहा है। दैनिक जागरण पटना के डिजिटल प्रभारी अमित आलोक ने भी इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि वायरल हो रही तस्वीर पुरानी है।

‘द हिंदू’ में 23 नवंबर 2021 को प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक, ‘चारा घोटाला से जुड़े एक मामले में राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू यादव 23 नवंबर को पटना की सीबीआई अदालत में पेश हुए। सुनवाई के दौरान उन्होंने खराब सेहत का हवाला देते हुए अगली सुनवाई के दौरान व्यक्तिगत पेशी से छूट की मांग की, जिसे स्पेशल कोर्ट के जज प्रजेश कुमार ने स्वीकार कर लिया। कोर्ट ने इस मामले के सभी 28 आरोपियों (लालू यादव समेत) को सशरीर कोर्ट में उपस्थित होने के लिए कहा था। इस मामले की अगली सुनवाई की तारीख 30 नवंबर तय हुई थी।’

द हिंदू में 23 नवंबर 2021 को प्रकाशित रिपोर्ट

23 नवंबर 2021 को ndtv.com की रिपोर्ट में लालू प्रसाद यादव के वकील सुधीर सिन्हा का बयान भी है, जिसके मुताबिक, ‘अगली तारीख (30 नवंबर) को कोर्ट गवाहों की जांच करेगा। इस तारीख को लालू जी को पेश नहीं होने के लिए कहा गया है। हालांकि, जब कोर्ट उन्हें कहेगी तो वह अदालत में पेश होंगे।’

पड़ताल के इस चरण से यह स्पष्ट है कि चारा घोटाला से जुड़े एक मामले में लालू यादव 23 नवंबर को पटना की सीबीआई अदालत में पेश हुए थे और उन्होंने कोर्ट से खराब सेहत का हवाला देते हुए व्यक्तिगत पेशी से छूट की मांग की थी, जिसे कोर्ट ने स्वीकार कर लिया था। इसलिए 30 नवंबर को लालू यादव को कोर्ट में पेश नहीं होना था, जबकि वायरल पोस्ट में दावा किया गया है कि लालू यादव 30 नवंबर को कोर्ट में होने वाली पेशी की वजह से बीमारी का बहाना कर अस्पताल में भर्ती हो गए।

हमारे सहयोगी दैनिक जागरण के पटना ब्यूरो चीफ अरविंद शर्मा ने बताया, ’23 नवंबर को चारा घोटाला मामले में लालू यादव कोर्ट में पेश हुए और 24 तारीख को उन्होंने पार्टी दफ्तर में लालटेन का अनावरण किया। इसके बाद सेहत ठीक नहीं होने के कारण उनके दिल्ली में एम्स में भर्ती होने की सूचना मिली।’

न्यूज रिपोर्ट्स के मुताबिक, लालू यादव को किडनी संबंधित समस्याओं की वजह से दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया है। 30 नवंबर को बिहार विधान परिषद भवन में पत्रकारों के साथ बातचीत में राबड़ी देवी ने बताया कि किडनी की बीमारी के कारण एम्स के डॉक्टर्स ने उन्हें ज्यादा पानी पीने से रोक दिया है और ज्यादा पानी पीने की वजह से ही लालू यादव को अस्पताल में भर्ती कराया गया।

इससे पहले लालू प्रसाद यादव 22 नवंबर को पटना आए थे और 23 नवंबर को उनकी सीबीआई कोर्ट में पेशी हुई। इसके बाद 24 नवंबर को आरजेडी कार्यालय में आयोजित रजत जयंती वर्ष के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा लेते हुए उन्होंने छह टन के लालटेन का लोकार्पण किया था। इस कार्यक्रम की तस्वीरों को लालू प्रसाद यादव के आधिकारिक ट्विटर प्रोफाइल से भी साझा किया गया है।

इसी तारीख को उन्होंने दिन में अपने आवास पर अपनी पहली गाड़ी (जीप) को भी चलाया और इसके वीडियो को भी उन्होंने अपनी ट्विटर प्रोफाइल से साझा किया।

निष्कर्ष: बीमारी का बहाना बनाकर कोर्ट में पेश नहीं होने के दावे के साथ वायरल हो रही लालू प्रसाद यादव की तस्वीर करीब तीन साल पुरानी है, जब वह 2018 में मुंबई से इलाज करा पटना वापस लौटे थे। चारा घोटाला से जुड़े एक मामले में लालू यादव 23 नवंबर को पटना की सीबीआई अदालत में पेश हुए थे और उन्होंने कोर्ट से खराब सेहत का हवाला देते हुए व्यक्तिगत पेशी से छूट की मांग की थी, जिसे कोर्ट ने स्वीकार कर लिया था। इसके बाद खराब सेहत की वजह से लालू यादव को दिल्ली के एम्स में भर्ती कराना पड़ा।

  • Claim Review : कोर्ट में पेशी से बचने के लिए लालू यादव ने बनायाा बीमारी का बहाना
  • Claimed By : FB User-Aditya Singh
  • Fact Check : भ्रामक
भ्रामक
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later