X

Fact Check: PM मोदी ने चुनावी भाषण में पूर्व CM माणिक सरकार पर साधा था निशाना, माणिक साहा के नाम से वायरल हो रहा वीडियो

विश्वास न्यूज़ ने अपनी पड़ताल में पाया कि यह दावा भ्रामक है। असल में प्रधानमंत्री मोदी माणिक साहा की नहीं, माणिक सरकार की बात कर रहे थे।

  • By Vishvas News
  • Updated: May 19, 2022

नई दिल्ली (विश्वास टीम)। फेसबुक समेत सोशल मीडिया के कई प्लेटफार्म पर प्रधानमंत्री मोदी एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वे स्टेज पर सम्बोधन करते हुए जनता से ‘माणिक’ को हटाने की बात कर रहे हैं। पोस्ट में दावा किया जा रहा है कि बीजेपी चार साल पहले माणिक साहा को हटाना चाहती थी, लेकिन अब उन्हें दोबारा मुख्यमंत्री बना दिया गया है। विश्वास न्यूज़ ने अपनी पड़ताल में पाया कि यह दावा भ्रामक है। असल में प्रधानमंत्री मोदी माणिक साहा की नहीं, पूर्व मुख्यमंत्री माणिक सरकार की बात कर रहे थे।

क्या हो रहा है वायरल?

वायरल वीडियो में पीएम मोदी को त्रिपुरा में माणिक (रूबी) को “हीरा” से बदलने के लिए लोगों से आग्रह करते हुए सुना जा सकता है। पोस्ट के साथ दावा किया जा रहा है, “मोदी जी ने 4 साल पहले त्रिपुरा के लोगों से कहा था- अब आपको माणिक साहा नहीं चाहिए, माणिक साहा से मुक्ति ले लो. अब आपको ज़रूरत है हीरे की। हीरा चाहिए कि नहीं चाहिए ? आज भाजपा ने त्रिपुरा प्रमुख और राज्यसभा सांसद डॉ  माणिक साहा को त्रिपुरा का नया मुख्यमंत्री चुना है”

इस पोस्ट का आर्काइव वर्जन यहाँ पढ़ा जा सकता है।

पड़ताल

आपको बता दें कि 14 मई को बिप्लब कुमार देब ने त्रिपुरा के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था और भाजपा के माणिक साहा को नए मुख्यमंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था। वायरल दावा इसी बदलाव को लेकर किया जा रहा है।

दावे की पड़ताल करने के लिए हमने कीवर्ड सर्च का सहारा लिया। हमें इस वीडियो को लेकर 2018 की कई रिपोर्ट्स मिलीं। 2018 में इस रैली की एक रिपोर्ट हमें दैनिक जागरण की वेबसाइट पर 08 फरवरी 2018 को पब्लिश्ड मिली। खबर पढ़ने पर साफ़ हो गया कि प्रधानमंत्री मोदी माणिक सरकार की बात कर रहे थे। आपको बता दें कि 2018 में हुई इस रैली के समय माणिक सरकार ही राज्य के मुख्यमंत्री थे।

हमें यह पूरा वीडियो टाइम्स ऑफ़ इंडिया के यूट्यूब पेज पर भी 2018 में अपलोडेड मिला। पूरे वीडियो को सुनने पर साफ़ समझ आ जाता है कि बात माणिक सरकार की हो रही है। माणिक साहा की नहीं। वीडियो के साथ डिस्क्रिप्शन में भी लिखा है, “Prime Minister Narendra Modi while addressing a rally in Tripura’s Sonamura stated that the government is focusing on 3Ts for Tripura – Trade, Tourism and Training of the youth so that they get opportunities to shine. PM Modi further targeted Chief Minister Manik Sarkar and stated that people of the state does not deserve ‘Manik’ but a ‘HIRA’ i.e highway, Iways (digital connectivity), roadways and airways. “If u wear a wrong (manik) gemstone then it causes trouble. So Tripura had a wrong Manik (CM), time to take it off and wear a HIRA”, said PM Modi.” जिसका हिंदी अनुवाद होता है “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने त्रिपुरा के सोनमुरा में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि सरकार त्रिपुरा के लिए 3T पर ध्यान केंद्रित कर रही है – युवाओं के व्यापार, पर्यटन और प्रशिक्षण, ताकि उन्हें चमकने के अवसर मिल सकें। पीएम मोदी ने आगे मुख्यमंत्री माणिक सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि राज्य के लोग ‘माणिक’ नहीं बल्कि ‘हीरा’ यानी हाईवे, आईवेज (डिजिटल कनेक्टिविटी), रोडवेज और एयरवेज के लायक हैं। यदि आप एक गलत (माणिक) रत्न पहनते हैं तो यह परेशानी का कारण बनता है। इसलिए त्रिपुरा में गलत माणिक (सीएम) था, इसे उतारने और हीरा पहनने का समय आ गया है”, पीएम मोदी ने कहा।”

हमने इस विषय में त्रिपुरा के पत्रकार अभिजीत नाथ से संपर्क साधा। उन्होंने भी कन्फर्म किया कि 2018 के इस वीडियो में बात माणिक सरकार के बारे में हो रही थी, माणिक साहा के बारे में नहीं।

इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर कई लोग शेयर कर रहे हैं। इन्हीं में से एक है Binod Singh नाम का फेसबुक यूजर। पेज के 2.8 मिलियन फ़ॉलोअर्स है।

निष्कर्ष: विश्वास न्यूज़ ने अपनी पड़ताल में पाया कि यह दावा भ्रामक है। असल में प्रधानमंत्री मोदी माणिक साहा की नहीं, माणिक सरकार की बात कर रहे थे।

  • Claim Review : गप्पू जी का हर वीडियो मेरे पास उपलब्ध है, मोदी जी ने 4 साल पहले त्रिपुरा के लोगों से कहा था:- अब आपको माणिक साहा नहीं चाहिए, माणिक साहा से मुक्ति ले लो। अब आपको ज़रूरत है हीरे की, हीरा चाहिए कि नहीं चाहिए? आज भाजपा ने त्रिपुरा प्रमुख और राज्यसभा सांसद डॉ माणिक साहा को त्रिपुरा का नया मुख्यमंत्री चुना है
  • Claimed By : Binod Singh
  • Fact Check : झूठ
झूठ
फेक न्यूज की प्रकृति को बताने वाला सिंबल
  • सच
  • भ्रामक
  • झूठ

पूरा सच जानें... किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमें बताएं

सब को बताएं, सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं...

टैग्स

अपना सुझाव पोस्ट करें
और पढ़े

No more pages to load

संबंधित लेख

Next pageNext pageNext page

Post saved! You can read it later