Fact Check : राहुल गांधी से मिलकर बच्‍चे ने नहीं लगाए मोदी-मोदी के नारे

0

नई दिल्‍ली(विश्‍वास न्‍यूज)। फेसबुक पर एक फेक वीडियो वायरल हो रहा है। दावा किया जा रहा है कि एक बच्‍चा कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी के सामने ‘मोदी-मोदी’ बोल रहा है। फेक वीडियो में राहुल बच्‍चे को गुलाब का फूल देते हुए कुछ बोलने को कहते हैं तो ‘मोदी-मोदी’ की आवाज आती है। विश्‍वास टीम की पड़ताल में पता चला कि राहुल गांधी के अमेठी दौरे के असली वीडियो से छेड़छाड़ करते ‘मोदी-मोदी’ की आवाज अलग से डाली गई है।

क्‍या है वायरल पोस्‍ट में?

आम प्रेस (@aampresstv) नाम के एक फेसबुक पर राहुल गांधी का फेक वीडियो अपलोड करते हुए लिखा गया – ये दिन देखने से पहले मुझे मौत क्यों नही आ गई! क्या अब ये छोटे-छोटे भाजपाई बच्चे भी राहुल सर को जलील करेंगे।

इस वीडियो को 25 जनवरी को शाम 7:42 बजे फेसबुक पेज पर अपलोड किया गया। फेक वीडियो को अब तक 69 हजार बार देखा जा चुका है। जबकि शेयर करने वालों की संख्‍या 667 है। इतना ही नहीं, वीडियो पर कमेंट करने वाले भी कम नहीं हैं। अब तक कुल 230 कमेंट इस वीडियो पोस्‍ट को मिल चुके हैं। फेसबुक पर कई यूजर्स ने इस वीडियो को अपलोड किया हुआ है।

फेसबुक पर अपलोड वीडियो का प्रिंटशॉट

पड़ताल

सबसे पहले विश्‍वास टीम ने वायरल वीडियो में से तस्‍वीर को क्रॉप करके गूगल रिवर्स इमेज (Google Reverse Image) में सर्च किया। हमें इससे जुड़ी कोई तस्‍वीर नहीं मिली। इसके बाद हमने राहुल गांधी के फेसबुक पेज (@rahulgandhi)और Twitter (@RahulGandhi) स्‍कैन किया। फेसबुक पेज पर हमें एक तस्‍वीर मिली। इसमें राहुल गांधी हाथ में गुलाब का फूल लेकर एक बच्‍चे का गाल सहला रहे हैं। बच्‍चे ने वही स्‍वेटर पहनी हुई थी, जो वायरल वीडियो में थी। फोटो के साथ लिखा था – अमेठी आकर बहुत ख़ुशी हुई। सभी में उत्साह और उमंग दिखा। अपने इस दौरे की कुछ तस्वीरें आप सभी के साथ साझा कर रहा हूँ।

राहुल गांधी के फेसबुक पेज पर अपलोड तस्‍वीर

राहुल गांधी की पोस्‍ट से यह स्‍पष्‍ट हो गया जो वीडियो छेड़छाड़ करके वायरल किया जा रहा है, वह अमेठी का है। इसके बाद हमने ओरिजनल वीडियो खोजना शुरू किया। राहुल गांधी के इंस्‍टाग्राम पर हमें ओरिजनल वीडियो मिला। A lighter moment from on the road in Amethi! कैप्‍शन के साथ अपलोड इस वीडियो को अब तक 1,88,655 लोग देख चुके हैं। 23 जनवरी को अपलोड इस वीडियो पर अब तक दो हजार से ज्‍यादा कमेंट आ चुके हैं। इस वीडियो को देखने से साफ पता चला रहा है कि जब राहुल गांधी ने बच्‍चे से कुछ बोलने को कहा तो वह शर्मा गया। ओरिजनल वीडियो में कहीं भी ‘मोदी-मोदी’ की आवाज नहीं आ रही है।

राहुल गांधी के इंस्‍टाग्राम पर अपलोड ओरिजनल वीडियो

इसके बाद हमने ओरिजनल और फेक वीडियो के ऑडियो को चेक किया। ओरिजनल वीडियो में 00:15 से लेकर 00:17 सेकंड तक भीड़ की आवाज के अलावा उस शख्‍स की भी आवाज आ रही है, जिसने बच्चे को गोद में लिया हुआ है। साउंड बार में साफ पता चल रहा है कि यहां भीड़ की आवाज है। बच्‍चे ने कुछ नहीं कहा। भीड़ की आवाज की वजह से साउंड बार में काफी ज्‍यादा अप-डाउन है। यह आप नीचे ओरिजनल वीडियो वाली इमेज में में लाल रंग के बॉक्‍स में देख सकते हैं।

लेकिन फेक वीडियो का साउंड बार काफी कम है। यहां अलग से बच्‍चे की आवाज जोड़ी गई है। भीड़ और गोद में बच्‍चे को लिए हुए शख्‍स की आवाज यहां गायब है। फेक वीडियो में यह शख्‍स कुछ बोलता हुआ दिख रहा है। लेकिन आवाज गायब है। नीचे फेक वीडियो की इमेज में आप लाल रंग के बॉक्‍स में देख सकते हैं कि साउंड बार कम है।

ओरिजनल और फेक वीडियो का ऑडियो एनालिसिस

अंत में हमने ‘आमप्रेस’ (@aampresstv) की Stalkscan.com से सोशल स्‍कैनिंग की। इस पेज को लाइक करने वालों की संख्‍या 3.76 लाख है, जबकि फॉलो करने वाले 7.96 लाख हैं। इसके बाद विश्‍वास टीम ने ‘आमप्रेस’ की वेबसाइट aampress.in को स्‍कैन किया। Whois.com से हमें पता चला कि यह वेबसाइट महाराष्‍ट्र से संचालित होती है।

आमप्रेस की वेबसाइट का प्रिटशॉट

निष्‍कर्ष : विश्‍वास टीम की पड़ताल में पता चला कि राहुल गांधी के अमेठी दौरे के असली वीडियो से छेड़छाड़ करके ‘मोदी-मोदी’ की आवाज अलग से डाली गई है। जब राहुल गांधी ने बच्‍चे से कुछ बोलने को कहा था तो वह शर्मा गया था। उसने कुछ भी नहीं बोला था।

पूरा सच जानें… सब को बताएं

सच जानना आपका अधिकार है। अगर आपको ऐसी किसी भी खबर पर संदेह है जिसका असर आप, समाज और देश पर हो सकता है तो हमें बताएं। हमें यहां जानकारी भेज सकते हैं। हमें contact@vishvasnews.com पर ईमेल कर सकते हैं। इसके साथ ही वॅाट्सऐप (नंबर – 9205270923) के माध्‍यम से भी सूचना दे सकते हैं।

Written BY Ashish Maharishi
  • Claim Review : दावा किया गया था कि बच्चे ने राहुल गांधी से मिलकर लगाए मोदी-मोदी के नारे
  • Claimed By : Aam press
  • Fact Check : False

टैग्स

संबंधित लेख